Thursday 13 June 2024

अष्टावक्र महागीता नवम् प्रकरणः चतुर्थ श्लोक संख्या


कोऽसौ कालो वयः किंवा यत्र द्वन्द्वानि
नो नृणाम्।
नान्युपेक्ष्य यथा प्राप्तवर्ती सिद्धिमवाप्नुयात्।। 4।।

हिन्दी पद्यानुवाद रवि मौन

कोई पल या स्थिति नहीं इस अनित्य संसार में।
जब न मानव फँसा हो इस द्वंद्व के व्यवहार में।
इस सत्य की करता उपेक्षा सिद्ध कहलाता वही।
जो भाग्य से उपलब्ध है स्वीकार कर पाता तभी।। 4।।

अष्टावक्र महागीता नवम् प्रकरणः तृतीय श्लोक

अनित्यं सर्वमेवेदं तापत्रयदूषितं।
असारं निन्दितं हेयमि-ति निश्चित्य शाम्यति।। 3।।

हिन्दी पद्यानुवाद----रवि मौन 

दूषित तीनों ताप से है यह विश्व अनित्य। 
यह असार, निन्दित, घृणा योग्य ही रहा नित्य। 
निश्चयपूर्वक जो इसे ज्ञानी लेता जान। 
परम शांति पाता वही, पूर्ण उसी का ज्ञान।। 3 ।। 

Sunday 9 June 2024

JIGAR MURADABADI.. GHAZAL.. TABIIAT IN DINON BEGAANA-E--GHAM HOTII JAATI HAI

तबीअत इन दिनों बेगाना-ए-ग़म होती जाती है 
मिरे हिस्से की गोया हर ख़ुशी कम होती जाती है 

My condition these days is getting alien to grief. 
The pleasure on my part is getting so brief. 

सहर होने को है बेदार शबनम होती जाती है 
ख़ुशी मंजुमला-ओ-अस्बाब-ए-मातम होती जाती है 

The dew drops are awake and attentive in morn '. 
The pleasure has paraphernalia of mourning in grief. 

क़यामत क्या ये ऐ हुस्न-ए-दो-आलम होती जाती है 
कि महफ़िल तो वही है दिल-कशी कम होती जाती है 

Beauty of both the worlds is a doom in it's own . 
Gathering is the same, but appealing just belief. 

वही मय-ख़ाना-ओ-सहबा वही साग़र वही शीशा 
मगर आवाज़-ए-नोशा-नोश मद्धम होती जाती है 

Tavern,drink, goblet and glass are just the same. 
But cheering, clicking sounds are bringing no relief. 

वही हैं शाहिद-ओ-साक़ी मगर दिल बुझता जाता है 
वही है शम्अ' लेकिन रौशनी कम होती जाती है 

Wine girl is same. A beauty! But dampens the heart! 
The candle is same but light is dimming and brief. 

वही शोरिश है लेकिन जैसे मौज-ए-तह-नशीं कोई 
वही दिल है मगर आवाज़ मद्धम होती जाती है 

Commotion is same but there's a wave under surface. 
Heart is the same but sound is dimming not chief. 

वही है ज़िंदगी लेकिन 'जिगर' ये हाल है  
कि जैसे ज़िंदगी से ज़िंदगी कम होती जाती है

O 'Jigar'! Life is same but my condition is such.
Life from my life, appears to be getting brief.