Sunday, 13 November 2022

BASHIR BADR.. GHAZAL.. AANKHON MEN RAHAA DIL MEN KISI UTAR KAR NAHIIN DEKHAA

आँखों में रहा दिल में उतर कर नहीं देखा 
कश्ती के मुसाफ़िर ने समुंदर नहीं देखा 

Stayed in the eyes, didn't get into heart. 
Boat passenger didn't see sea on his part. 

बे-वक़्त अगर जाऊँगा सब चौंक पड़ेंगे 
इक उम्र हुई दिन में कभी घर नहीं देखा 

All will be surprised if I go off time. 
At day time I haven't seen home apart. 

जिस दिन से चला हूँ मिरी मंज़िल पे नज़र है 
आँखों ने कभी मील का पत्थर नहीं देखा 

I have aimed for goal since day of start. 
Looking at milestone was not on my chart. 

ये फूल मुझे कोई विरासत में मिले हैं 
तुम ने मिरा काँटों भरा बिस्तर नहीं देखा 

Have I got these flowers as inheritance? 
You haven't  seen my thorny bed from start. 


यारों की मोहब्बत का यक़ीं कर लिया मैं ने 
फूलों में छुपाया हुआ ख़ंजर नहीं देखा 

I believed in the love of my friends. 
Didn't see dagger concealed in flower part. 

महबूब का घर हो कि बुज़ुर्गों की ज़मीनें 
जो छोड़ दिया फिर उसे मुड़ कर नहीं देखा 

Whether it was lover 's lane or parental land. 
I didn't look back what I left on my part. 

ख़त ऐसा लिखा है कि नगीने से जड़े हैं 
वो हाथ कि जिस ने कोई ज़ेवर नहीं देखा 

In the letter are words like precious stones. 
Written by a hand which saw no ornament from start. 

पत्थर मुझे कहता है मिरा चाहने वाला 
मैं मोम हूँ उस ने मुझे छू कर नहीं देखा

One who loves me calls me a stone. 
I am wax and she hasn't touched from start. 

No comments:

Post a Comment