Tuesday 12 December 2023

कुछ पसन्दीदा अश'आर

फूल ख़ुशबू बिखरते हर सू
और काँटे कभी नहीं खिलते 
फिर भी काँटों की मेहरबानी है 
वर्ना ये फूल याँ नहीं मिलते 

Flowers scatter fragrance all around, 
while the thorns never even bloom. 
Yet it's courtesy of these thorns,
Or else flowers here won't zoom. 

 भुला भी दे उसे जो बात हो गई प्यारे 
नये चराग़ जला रात हो गई प्यारे 
हबीब जालिब

Make light of what's past my love. 
Kindle new lamps, it's night my love

दुनिया ये चाहती है यूँही फ़ासले रहें
दुनिया के मशवरों पे न जा उस गली में चल

World wants that distance should always remain. 
Don't follow it's advice, let's go in that lane. 

आँसू तमाम शहर की आँखों में हैं मगर 
हाकिम बता रहा है कि सब ठीक - ठाक है

There are tears in all city dwellers eyes. 
Yet dictator tells all is well under skies. 

इन हवाओं से मौसम बदलने लगा धूप में प्यार की नर्म चुमकार है
फिर कबूतर के जोड़े के दिल में उठी तिनके चुन-चुन के लाने की फ़ितरी चुभन
बशीर बद्र 

Winds have set a change in weather 'n stealthily kissing is now the sun. 
 In pigeon pair's hearts again, an instinct
  to gather straws has begun. 

लाम के मानिंद हैं गेसू मिरे घनश्याम के 
हैं वही काफ़िर कि जो बंदे नहीं 'इस लाम' के 
अज्ञात(शायद चकबस्त) 

Curly like letter' Laam' is my Ghanshyam's tress..
They are faithless whom  the curls don't impress ! 

गुज़रे हैं मैकदे से जो तौबा के बाद हम 
कुछ दूर आदतन भी क़दम लड़खड़ाए हैं 

After promising to abstain, when I passed by the bar. 
Just habitually the legs have staggered quite far. 

लड़ा कर आँख उस से हम ने दुश्मन कर लिया अपना 

निगह को नाज़ को अंदाज़ को अबरू को मिज़्गाँ को 

बहादुर शाह ज़फ़र

ग़म-ए-उम्र-ए-मुख़्तसर से अभी बेख़बर हैं कलियाँ 
न चमन में फेंक देना किसी फूल को मसल कर
शकील बदायूनी 

Buds are yet unaware of the pain of short life span. 
Don't crush 'n throw a flower in the  garden O vain man! 

सुब्अ को शबनम के मोती बाग़ में चोरी गए
फूल किरनों से ये कहते हैं तुम्हारा काम है
बृज नारायण चकबस्त

Dew drops were missing
 from the garden in morning. 
Flowers firmly claim
 lay on sun rays the blame. 

हम जुदा हो गए आग़ाज़-ए-सफ़र से पहले
जाने किस सम्त हमें राह-ए-वफ़ा ले जाती
शहरयार 

We got separated before journey could start
Who knows, which way, faith could impart? 

सारे पत्थर नहीं होते हैं मलामत का निशाँ 
वो भी पत्थर है जो मंज़िल का निशाँ देता है 
परवेज़ अख़्तर

Not a sign of disgrace is every stone. 
Showing way to goal is also a stone 

तू ने यूँ देखा है जैसे कभी देखा ही न था 
मैं तो दिल में तिरे क़दमों के निशाँ तक देखूँ 
अहमद नदीम कासमी 

You have viewed this way like never before. 
While I see your footprints to my heart core. 

उलझ रहे हैं कई लोग मेरी शोहरत से 
किसी को यूँ तो कोई मुझ से इख़्तलाफ़ न था
बेकल उत्साही 

Some persons are getting perturbed with my fame. 
No one showed difference earlier in the game 

कभी तो बात करो हमसे दोस्तों की तरह
फिर इख़्तलाफ़ के पहलू निकालते रहना
क़तील शफ़ाई

Talk with me like a friend sometime. 
Then, discord may be shown anytime. 

पीर-ए-मुग़ाँ से हम को कोई दुश्मनी नहीं 
थोड़ा सा इख़्तलाफ़ है मर्द-ए-ख़ुदा के साथ 
अब्दुल हमीद अदम 

I bear no enmity with the keeper of tavern. 
A little difference exists with Lord of concern 

सियासत किस हुनरमंदी से सच्चाई छुपाती है 
कि जैसे सिसकियों के ज़ख़्म शहनाई छुपाती है 

Politics conceals truth in such a crafty, tasty way. 
As clarinet obscures sob wounds on teary, misty day. 

जिस तरह वापस कोई ले जाय अपनी चिट्ठियाँ
जाने वाला इस तरह से कर गया तन्हा मुझे 

As someone takes her letters back. 
She left me alone with this setback. 

तुम ने देखा है किसी मन्दिर में मीरा को कभी
एक दिन उसने ख़ुदा से इस तरह माँगा मुझे 

Have you ever seen Meera in a temple. 
From God, she asked for me with knack. 

मैं फ़रिश्तों की सोहबत के क़ाबिल नहीं 
हमसफ़र कोई होता गुनहगार सा

The company of angels ! I am not worth. 
A sinful companion would be well worth. 

बात क्या है कि मशहूर लोगों के घर
मौत का सोग लगता है त्योहार सा

Why is it, in homes of people with fame? 
Even gloom of death has festive worth. 

ऐसा लगता है हर इम्तिहाँ के लिये 
ज़िंदगी को हमारा पता याद है 

It appears that for each test stand. 
Life recalls our address off hand . 

तू भी ख़्वाबों में मिली मैं भी धुँधलके में तुझे 
ज़िंदगी देख कभी ग़ौर से चेहरा मेरा
बशीर बद्र 

We met in fog and mist interface
O life! Have a closer look at my face. 

लिपट भी जा न रुक 'अकबर' ग़ज़ब की ब्यूटी है 
नहीं नहीं पे न जा ये हया की ड्यूटी है 
अकबर इलाहाबादी

Don't stop O Akbar! Embrace, what a beauty! 
Don't bother about her no, it is just a shy duty. 

ग़ज़ब किया तिरे वअ'दे पे ए'तिबार किया 
तमाम रात क़यामत का इंतिज़ार किया 
दाग़ देहलवी

A belief in your promise was an outrage. 
I waited whole night like doomsday age. 

ये हाल मिरा मेरी मोहब्बत का सिला है
जो अपने ही दामन  से बुझा हो वो दिया हूँ 
ताबिश सिद्दीक़ी 

My love is the cause of my present state.
I am a lamp put out by own hem O mate! 

तू मुझे बनते बिगड़ते हुए अब ग़ौर से देख
वक़्त कल चाक पे रहने दे न रहने दे मुझे 
ख़ुर्शीद रिज़्वी

You watch me being formed as well as deformed now. 
 Tomorrow I may not be on the turning 
wheel somehow. 

सावन के बादलों की तरह से भरे हुए 
ये वह नयन हैं जिन से कि जंगल हरे हुए 
सौदा

Filled like dark rain clouds were seen. 
These eyes poured, turned jungles green. 

बदनाम होंगे, जाने भी दो इम्तिहान को
रक्खेगा कौन तुम से अज़ीज़ अपनी जान को 
मीर तक़ी मीर 

  You 'll get a bad name just bypass the game. 
Just dearer than you,, who' ll his life claim? 

जब नाम तिरा लीजिए तब चश्म भर आवे
इस ज़िंदगी करने को कहाँ से जिगर आवे
मीर तक़ी मीर 

  Whenever your name is taken, with tears
 my eyes get filled. 
For this life to pass, wherefrom to have courage instilled. 

वे बन्द-ए-क़बा खुले थे शायद 
सद चाक गुलों का पैरहन है
मीर तक़ी मीर 

Open were perhaps bands of her dress. 
Torn at a hundred sites, is floral dress. 

थे चाक गिरेबान गुलिसाताँ में गुलों के
आया था मगर खोले हुए बन्द-ए-क़बा तू
मीर तक़ी मीर 

In garden, is tattered each flower's dress. 
While you came with open bands of dress. 

सुब्अ होती है शाम होती है
उम्र यूँ ही तमाम होती है 
मीर तक़ी मीर 

Morning comes'n the evening goes. 
In this way, my life also goes. 

 तेज़ रखियो सर-ए-हर ख़ार को ऐ दश्त-ए-जुनूँ
शायद आ जाए कोई आबला-पाई मेरे बाद 
मीर तक़ी मीर 

Keep sharpened every thorn of the desert
 in lunacy. 
With blistered feet, may be, after me, one crosses thee. 

मेरी गोर पे जो आना तो रक़ीब को न लाना
मेरी जाँ ! मुसलमाँ मुर्दे जलाया नहीं करते
(पहला मिसरा मेरा है दूजे का पता नही) 

In case you visit my grave, 
don't bring rival O naive! 
My love! Don't play this game
 putting Muslim dead to flame. 



रहने को सदा दहर में आता नहीं कोई 
तुम जैसे गए ऐसे भी जाता नहीं कोई 
कैफ़ी आज़मी 

None comes to world for all time stay. 
But none leaves it in your unique way. 

ये बात तर्क-ए-तअल्लुक़ के बाद हम समझे
किसी से तर्क-ए-तअल्लुक़ भी इक तअल्लुक़ है
अज्ञात 

I learnt it only after losing contact. 
Losing contact is a way of contact. 

ज़ोर से साँस जो लेता हूँ तोअक्सर शब-ए-ग़म
दिल की आवाज़ अजब दर्द भरी आती है
बशीरुद्दीन अहमद देहलवी 

Often in painful nights, breathing deep. 
Heart sound is strange grievous bleep. 

रात थी जब तुम्हारा शहर आया 
फिर भी खिड़की तो मैंने खोल ही ली
शारिक़ कैफ़ी 

When your city was there, it was night. 
I opened the window to look at the site. 

कभी पाओं में पड़ते हैं 
कभी दामन पकड़ते हैं 
कोई मेहमाननवाज़ी सीख ले 
ख़ार-ए बयाबाँ से 

They fall on your feet and cling to your dresses. 
Worth learning from thorns, their hospitality impresses 

दामन-ए-यार से 
जा लिपटे हमारे आँसू 
गिर के इस तरह 
सम्भलते हैं सम्भलने वाले

My tears clung to darling's hem on fall. 
That's how the fallen rise after fall. 

वो लोग जिन्होंने ख़ूँ देकर 
इस बाग़ को ज़ीनत बख़्शी है 
दो चार से दुनिया वाकिफ़ है 
गुमनाम न जाने कितने हैं

Who who bestowed blood to honour the garden, this land. 
The world knows very few, most are out of recognition band

जाम-ए-मय तौबा-शिकन
तौबा मिरी जाम-शिकन
सामने ढेर है 
टूटे हुए पैमानों का

Wine cup breaks promise, promise shatters wine cups. 
Confronting me is a heap of shattered wine cups

हमारा दिल सवेरे का सुनहरा जाम हो जाए
चरागों की तरह आँखें जलें जब शाम हो जाए

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो
न जाने किस गली में ज़िन्दगी की शाम हो जाए

कल न हो ये कि मकीनों को तरस जाए ये घर
दिल के आसेब का हर एक से चर्चा न करो

जैसे वर्क़-ए-गुल पर अंगारा कोई रख दे
यूँ दस्त-ए-हिनाई पर आँसू अभी टपका है

As an ember is placed on floral sphere. 
On hennaed hands, has dropped a tear

दिल की बस्ती भी शहर-ए-दिल्ली है
जो भी गुज़रा है उस ने लूटा है

City of Delhi and my heart are just the same. 
Whoever has traversed, looted in the game. 

उड़ते उड़ते आस का पंछी दूर उफ़क़ में डूब गया
रोते-रोते बैठ गई आवाज़ किसी सौदाई की
क़तील शफ़ाई

Bird of hope kept flying, in horizon, got lost. 
While crying for long, fanatic ''s voice got lost

कहते हैं उम्र-ए-रफ़्ता कभी लौटती नहीं 
जा मैकदे  से मेरी जवानी उठा के ला

 It's said lost youth never comes back. 
God to the tavern and get my youth pack

एक गुस्ताख़ी करूँगा वो भी मर जाने के बाद 
यार तुम पैदल चलोगे मैं जनाज़े पर सवार 

जाती हुई मय्यत देख तो ली पर देख के भी तुम आ न सके
दो चार क़दम तो दुश्मन भी तकलीफ़ गवारा करते हैं

You watched corpse rally but  joined it not. 
Even enemies take a few steps in such spot. 




मेरे ख़ुदा मुझे थोड़ी सी ज़िंदगी दे दे
उदास मेरे जनाज़े से जा रहा है कोई 

Allot me O Lord ! A little life for a while. 
One is leaving my carcus sad, 'd smile. 

मेरी लाश के सिराहने वो खड़े ये कह रहे हैँ 
इसे नींद यूँ न आती अगर इंतज़ार होता

Standing by my body, she is saying in disdain. 
He wouldn't sleep well, having waited in vain. 

तेरे वादे पर मितमगर अभी और सब्र करते
अगर अपनी ज़िन्दगी का हमें एतबार होता

O torturer! I could wait longer on your hope. 
If I had known , that for it my life would cope

ग़ैर ने तुम को जाँ कहा समझे भी तुम कि क्या कहा
यानी कि बे-वफ़ा कहा जान का एतबार क्या 

To my rival you labelled life, do you know what you have said? 
You have called him disloyal, can life ever 
 be believed as said. 

ग़ज़ब किया तेरे वादे पे ए'तिबार किया 
तमाम रात क़यामत का इंतजार किया 

It was too much to believe in what you said. The night was spent for doom' 's morn' instead 

बाद-ए-मुर्दन कुछ नहीं यह फ़लसफ़ा मरदूद है
 देखिए इंसान को मुर्दा है और मौजूद है

There's nothing after death, this theory is a lie
Look at men, they are there, even when they die

उन की याद आई है साँसों ज़रा आहिस्ता चलो
धड़कनों से भी इबादत में ख़लल पड़ता है

Move slow O breaths, her memory
 is on move. 
Even heart throbs disrupt prayers in
 the groove. 

चूम लेती हैं कभी लब कभी आरिज़-ए-गुल
तूने ज़ुल्फ़ों को बड़ा सर पे चढ़ा रक्खा है

Flowery cheeks it kisses, 
then lips it kisses.
 Heady is your tress,
 so haughty to impress. 

यार-आशना नहीं कोई टकराएँ कि से जाम
किस बे-वफ़ा की याद में ख़ाली सुबू करें

Neither love nor chums, with whom to tinkle cup. 
For which infidel dame, should I gulp the wine cup. 

मै से ग़रज़ निशात है किस रू-सियाह को
इक गूना बे-ख़ुदी मुझे दिन - रात चाहिए 

आया ही था ख़याल कि आँखें छलक पड़ीं
आँसू किसी की याद के कितने क़रीब हैं 

A thought came, eyes oozed out tears.
How near with her memory are tears? 

दिल टूटने से थोड़ी सी तकलीफ़ तो हुई 
लेकिन तमाम उम्र का आराम हो गया

It caused discomfort when the heart broke. 
But a lifetime relief was there in a stroke. 

दिल में किसी के राह किए जा रहा हूँ मैं
कितना हसीं गुनाह किए जा रहा हूँ मैं

I am making inroad in someone ''s heart. 
What a beautiful sin it is , on my part? 

ज़ाहिद शराब पीने दे मस्जिद में बैठ कर
या वो जगह बता दे जहाँ पर ख़ुदा न हो

Let me drink inside mosque O priest! 
Or tell me where he isn't there at least. 

मस्जिद दिखा हिला के दुआ में जो अस्र है
दो घूँट पी वगर्ना औ' मस्जिद को हिलता देख

If there is power in prayers, make the
 mosque shake. 
Or take a few sips and then watch the mosque shake. 

जब वो मेरे क़रीब से हँस कर गुज़र गए
कुछ ख़ास दोस्तों के भी चेहरे उतर गए 

When she passed by me and whisked a  smile. 
Even some close friends didn't bear for a while. 

किसी को क्या हो दिलों की शिकस्तगी की ख़बर
कि टूटने में ये शीशे सदा नहीं करते

Who can keep account of breaking heart? 
 No sound emits as these glasses fall apart

चाह नहीं मैं सुरबाला के गहनों में गूँथा जाऊँ
चाह नहीं मैं चढूँ देव के शीश भाग्य पर इठलाऊँ
मुझे तोड़ लेना वनमाली औ' उस पथ पर देना फेंक
मातृभूमि पर शीश चढ़ाने जिस पथ जाएँ वीर अनेक

माखन लाल चतुर्वेदी 

To decorate mane of a beautiful dame is not my desire.
Or adorn god's heads and turn heads With envy 'n fire. 
O gardener of  jungle, just don't bungle, pluck me and throw. 
With heads on  hand to sacrifice for motherland, soldiers' d go. 


तुम्हारे हुस्न की बस और क्या करूँ तारीफ़
नहीं कोई भी शै ऐसी, कहूँ मैं तुझ जैसी
रवि मौन

How can I appreciate you, your beauty.
There's nothing to compare with you cutie. 

No comments:

Post a Comment