Thursday 18 April 2024

वराह अवतार

हिरणाक्ष ने हर लिया धरती दीन्ह छुपाय
देवों की सुन प्रार्थना हरि पहुँचे तहँ जाय
ललकारा जब दैत्य ने हरि ने किया संहार
रखा यथावत धरा को पाया उन का प्यार
किया धरा के साथ फिर हरि ने तुरत विवाह 
यूँ वध कर हिरणाक्ष का हरि बन गए वराह

समुद्र मंथन

कच्छप बन कर पीठ पर लें मंदर गिरि भार
किया मोहिनी रूप से फिर हरि ने श्रृंगार
देवन को अमृत मिला असुरों को मुस्कान 
वितरण श्री हरि कर रहे बैठ सुर असुर आन
राहु - केतु संदेह कर देवन के बैठे संग
अमृत उतरा गले तक शीश किए हरि भंग 

Tuesday 16 April 2024

BASHIR BADR.. GHAZAL.. WO KHUSHBUON KA BADAN CHANDANI KA SAYA HAI....

वो ख़ुशबुओं का बदन चाँदनी का साया है
बहुत अज़ीज़ हमें है मगर पराया है 

She is fragrance embodied, shadowed moonshine. 
Very dear to me but yes, she isn't mine.

उतर भी आओ कभी आस्माँ के ज़ीने से
तुम्हें ख़ुदा ने हमारे लिए बनाया है 

Step down the ladder from yonder skies.
God has crafted you for my use, fine!

कहाँ से आई ये ख़ुशबू ये घर की ख़ुशबू है 
इस अजनबी के अंधेरे में कौन आया है 

Where from it emits, it's fragrance of home. 
As dark shade of stranger, who came in line? 

महक रही है ज़मीं चाँदनी के फूलों से 
ख़ुदा किसी की मोहब्बत पे मुस्कुराया है 

Earth is fragrant with moonlit flowers. 
For earthly love, He smiles on cloud nine. 

उसे किसी की मोहब्बत का ए'तिबार नहीं 
उसे ज़माने ने शायद बहुत सताया है 

He doesn't believe in anyone's love. 
Probably world has extracted heavy fine. 

तमाम उम्र मिरा दिल इसी धुँए में घुटा
वो इक चराग़ था, मैंने उसे बुझाया है 

Life long my heart got stuffed in smoke. 
That lamp glowed, I stilled it's shine.