Monday, 31 May 2021

SAHIR...26.. COUPLETS

मुझ को कहने दो कि मैं आज भी जी सकता हूँ।
इश्क़ नाकाम सही ज़िन्दगी नाकाम नहीं।

Let me say that I can still survive. 
Failed love means no failure to  live... 1

I can still survive, let me boldly tell. 
Failure in love didn't make my life he'll. 



दुनिया ने तजुर्बात- ओ - हवादिस की शक्ल में। 
जो कुछ मुझे दिया है वो लौटा रहा हूँ मैं। 

What world gave in name of experience, mishaps. 
What I've received, am returning it all, perhaps.

तंग आ चुके हैं कश्मकश - ए-ज़िन्दगी से हम।
ठुकरा न दें जहाँ को कहीं बेदिली से हम। 

I am tired of the tussle of  life, it's pick. 
Might unwillingly give this world, a kick.

फ़क़ीर - ए-शहर के तन पर लिबास बाक़ी है।
अमीर-ए-शहर के अरमाँ अभी कहाँ निकले।

Attire on some poor bodies exist. 
Desire of city rich still persist.

दोनों वक़्त मिलते हैं दो दिलों की सूरत में 
आसमाँ ने ख़ुश हो कर रंग सा बिखेरा है।

Just like two hearts meet day and night. 
The sky has scattered colours with delight. 


मेरी तक़दीर में जलना है तो जल जाऊँगा। 
तेरा वादा तो नहीं है जो बदल जाऊँगा। 

O well I 'll be burnt out, if such is my fate.
It's not your promise that ' ll change with date.

संसार की हर शै का इतना ही फ़साना है। 
इक धुंध से आना है इक धुंध में जाना है। 

For everything in world, tale is just so precise. 
From mist it is to arise, in mist is it's demise. 

ले दे के अपने पास फ़क़त इक नज़र ही है। 
क्यूँ देखें ज़िन्दगी को किसी की नज़र से हम। 

 After all the gain 'n loss, I am left with my own view. 
Why look up on my life with someone else' s review. 

इस तरह  ज़िन्दगी ने दिया है हमारा साथ 
जैसे कोई निबाह रहा हो रक़ीब से। 

Life has behaved with me in a fantastic way. 
As if it's a rival, one gets along per se. 

कौन रोता है किसी और की ख़ातिर ऐ दोस्त ? 
सब को अपनी ही किसी बात पे रोना आया। 

Who weeps for someone else O mate ? 
Everyone weeps up on  his own state. 

वो अफ़साना जिसे अंजाम तक लाना न हो मुमकिन। 
उसे इक ख़ूबसूरत मोड़ देकर छोड़ना अच्छा। 

The tale that can't be brought to an end. 
It's good to leave it with a beautiful bend. 


देखा है ज़िन्दगी को कुछ इतने क़रीब से। 
चेहरे तमाम लगने लगे हैं अजीब से। 

I have seen this life from so near. 
All faces appear  strange O dear ! 



हज़ार बर्क़ गिरें लाख आँधियाँ उट्ठें। 
वो फूल खिल के रहेंगे जो खिलने वाले हैं।

May be a thousand sparks, million storms zoom. 
Flower's which are destined to bloom 'll bloom. 


हम तो समझे थे कि हम भूल गए हैं उन को। 
क्या हुआ आज ये किस बात पे रोना आया ? 

I have forgotten her, or so I had thought. 
What happened today that tears were sought. 

ग़म और ख़ुशी में फ़र्क़ न महसूस हो जहाँ। 
मैं दिल को उस मक़ाम पे लाता चला गया। 

Where no difference exists between joy 'n grief. 
I kept bringing my heart at that site, it's fief. 

अपनी तबाहियों का मुझे कोई ग़म नहीं। 
तुम ने किसी के साथ मोहब्बत निभा तो दी। 

I am not bothered about destruction of my name. 
You could get along with someone in love game. 

मैं ज़िन्दगी का साथ निभाता चला गया। 
हर फ़िक्र को धुँए में उड़ाता चला गया। 

I could get along with life, how so ever bent. 
Blew out in smoke each concern in contempt. 

गर ज़िन्दगी में मिल गए फिर इत्तिफ़ाक़ से। 
पूछेंगे अपना हाल तिरी बेबसी से हम। 

If we meet again in this life, by chance. 
From your helplessness, I 'll ask my stance. 

वैसे तो तुम्हीं ने मुझे बर्बाद किया है। 
इल्ज़ाम किसी और के सर जाए तो अच्छा। 

It's true, it's you, who have ruined my name. 
It's better that someone else takes the blame. 

चंद कलियाँ निशात की चुन कर मुद्दतों मह्व-ए-यास रहता हूँ। 
तेरा मिलना ख़ुशी की बात सही तुझ से मिल कर उदास रहता हूँ। 

Choosing some buds of joy, I am lost in grief for long. 
True your meeting is pleasure, but then I am sad for long. 

मैं जिसे प्यार का अंदाज़ समझ बैठा हूँ। 
वो तबस्सुम वो तकल्लुम तिरी आदत ही न हो। 

What I have thought is your love, it's style. 
May be it's  your habit to talk and smile. 

उन के रुख़सार पे ढलके हुए आँसू तौबा। 
मैंने शबनम को भी शोलों पे मचलते देखा। 

O God tears roll on her cheeks in play. 
I have seen dew drops on embers in play. 

तू मुझे छोड़ के ठुकरा के भी जा सकती है। 
तेरे हाथों में मिरे हाथ हैं, ज़ंजीर नहीं। 

You can leave me and go, setting me aside. 
Not chains but my hands are in yours, 'll slide. 

माना कि इस ज़मीं को न गुलज़ार कर सके। 
कुछ ख़ार कम तो कर गए, गुज़रे जिधर से हम। 

I couldn't turn this land into a garden, it's true. 
But reduced some thorns  where I went through. 

फिर न कीजे मिरी गुस्ताख़-निगाह का गिला। 
देखिए आप ने फिर प्यार से देखा मुझको 

Don't object to my irreverent glance again. 
 You have cast that loving stance again. 

नालाँ हूँ मैं बेदारी-ए-अहसास के हाथों। 
दुनिया मेरे अफ़्कार की दुनिया नहीं होती 

Awakened feelings distress, I  shirk. 
This world is not the world of my work. 






Sunday, 30 May 2021

NAASIR KAZMI..14.. COUPLETS

तेरे फ़िराक़ की रातें कभी न भूलेंगी।
मज़े दिए इन्हीं रातों ने उम्र भर के मुझे। 

Nights of your parting, I 'll never forget.
All pleasures of life in those nights I could get.

धूप उधर ढलती थी दिल डूबता जाता था इधर। 
आज तक याद है वो शाम-ए-जुदाई मुझ को।

Sunlight was regressing and repressing was the heart. 
Till today, I remember the parting eve' part by part.

आज खुलने को ही था दर्द-ए-मुहब्बत का भरम।
वो तो कहिए कि अचानक ही तिरी याद आई। 

To be disclosed today, was the doubt of love grief. 
Suddenly your memory stepped in to cut it brief.

दिल धड़कने का सबब याद आया। 
वो तिरी याद थी अब याद आया। 

I remember what made heart throb. 
It was just my memory  knob.

मान-ए-सहरा-नवर्दी पाँव की ईज़ा नहीं।
दिल दुखा देता ऐ लेकिन टूट जाना ख़ार का। 

 What stops roaming in jungles, foot pain is not a part.
But when my feet break thorns, it hurts my heart.

ऐ दोस्त हम ने तर्क - ए-मुहब्बत के बावजूद।
महसूस की है तेरी ज़रूरत कभी कभी 

O friend ! Despite broken relation of love.
I have felt your need often and above.

जुदाइयों के ज़ख़्म दर्द-ए-ज़िंदगी ने भर दिए।
तुझे भी नींद आ गई, मुझे भी सब्र आ गया।

Departure wounds were healed by life pain. 
You could sleep well, I too could refrain. 

इस क़दर रोया हूँ तेरी याद में। 
आईने आँखों के धुंधले हो गए।

In your memories I have wept so much. 
Eye glasses got clouded as such. 

घर के दीवार-ओ-दर राह तक तक के शल हो गए।
अब न आएगा शायद कोई, सो रहो, सो रहो।

Doors 'n windows of the home, have gone insane awaiting you
Probably now no one will come, go to sleep, sleep you too.

यादों की जलती शबनम से। 
फूल का मुखड़ा धोया होगा। 

With burning morning dew. 
Washed flower faces, a few. 

 भीग चलीं अब रात की पलकें।
तू अब थक कर सोया होगा। 

Wet are eyelashes of night. 
Exhausted, asleep are you.

ओ पिछली रुत के साथी। 
अब के बरस मैं तन्हा हूँ।

O colleague of  year gone. 
This year I am all alone.

कुछ तो नाज़ुक मिज़ाज हैं हम भी। 
और ये चोट भी नई है अभी।

I have a little delicate mood. 
This wound is recent, crude. 

आज देखा है तुझ को देर के बाद। 
आज का दिन गुज़र न जाए कहीं। 

I have seen you since so long. Let not this day paee lifelong. 

कहाँ है तू कि तिरे इंतिज़ार में अक्सर। 
तमाम रात सुलगते हैं दिल के वीराने। 

Tell me where are you, often waiting for you. 
Deserts of heart are, aflame night long no clue. 

मैं सोते सोते कई बार चौंक चौंक पड़ा। 
तमाम रात तिरे पहलुओं से आँच आई। 

Often in my sleep there's a beep, 'n it changes sides. 
Night long from your sides, your heat Gently glides. 

 तुझ को हर फूल में उरियाँ सोते। 
चाँदनी रात ने देखा होगा। 

You sleeping without a cover, within every flower. 
That moon lit night, has witnessed lovely sight. 

रात कितनी गुज़र गई, लेकिन। 
इतनी हिम्मत नहीं कि घर जाएँ। 

Much of night has passed, still I roam. 
I don't have courage to head for home. 

वो कोई दोस्त था अगले दिनों का। 
जो पिछली रात से याद आ रहा है। 

He was a friend of days, long gone. 
Whose memory since last night has flown.



MOIN AHSAN JAZBI......4 COUPLETS.

ऐ हुस्न! हम को हिज्र की रातों का ख़ौफ़ क्या।
तेरा ख़याल जागेगा सोया करेंगे हम। 

O beauty! Why should I be afraid of your parting night? Your thoughts 'll keep awake, while I' ll sleep tight.

हाय वो तेरे तबस्सुम की अदा वक़्त - ए-सहर।
सुब्ह के तारों ने अपनी जान तक कर दी निसार। 

In morning you smiled in such a style. 
Stars sacrificed their lives in a while.

ऐ मौज-ए-बला उन को भी ज़रा दो चार थपेड़े हल्के से।
कुछ लोग अभी तक साहिल से तूफ़ाँ का नज़ारा करते हैं। 

Oowerfulwave, just shove the naive, then jerk them once or more. 
As people on shore, hear storm on roar and watch the waves galore. 

जब जेब में पैसे बझते हैं, जब पेट में रोटी होती है।
उस वक़्त ये ज़र्रा हीरा है, उस वक़्त ये शबनम मोती है।

When coins tinkle in pockets, when in tummy there is bread. 
Then sand looks like diamonds
and dew as pearls spread. 

Saturday, 29 May 2021

JAVED AKHTAR.27 COUPLETS..

ख़ून से सींची है मैंने जो ज़मीं मर मर के।
वो ज़मीं एक सितमगर ने कहा उसकी है। I have shed blood for growth in the land.
Yet the cruel one claims, it is his land. 

उस ने ही इसको उजाड़ा है इसे लूटा है। 
ये ज़मीं उसकी अगर है भी तो क्या उस की है ?

  He has ruined and looted it at times.
Even if he owns it, is it his land?

वो जो बता रहा था कई रोज़ का सफ़र।
ज़ंजीर खींच कर वो मुसाफ़िर उतर गया। 

He would travel many days or so did he say.
 He pulled the chain and got down on the way.

इश्क़ की बातें ख़्वाब की बातें लगती हैं। 
अब सब रातें सूनी रातें लगती हैं। 

All talks of love look like dreams. 
Now, all the nights are vacant, it seems.

इक ग़म है जो गूँगा है और चेहरा चेहरा फिरता है। 
देखें इस ग़म को मिलती है लफ़्ज़ों की ख़ैरात कहाँ?

This sorrow is dumb, looks from face to face. 
Let 's see who donates it the words' n space.

आने न देते थे कभी हम दिल में आरज़ू।
पर क्या करें कि लेके तेरा नाम आ गई।

I hadn't allowed desire to enter my heart. 
It stepped in your name 'n I couldn't retort.

न तो दम लेती है तू और न हवा थमती है। ज़िन्दगी कोई तेरी ज़ुल्फ़ सँवारे कैसे ?

Neither the wind stops nor you rest. 
O life how to set your tress, at best. 

जब जल रहा था शहर तो सुर्ख़ आसमान था। 
मैं क्या कहूँ थी कैसी क़यामत की रौशनी? 

When city was on fire, the city was in red.
About light  of doom's day what can be said  

मिरी शिनाख,  मिरी इंफिरादियत, आवाज़।
अगर बुरा नहीं मानें हुज़ूर अब भी है। 

My identity, individuality, my voice.
Sir don't mind, mine is that poise.

मेरी सांसों में जिस की ख़ुशबू थी।
दिल के गुल दान से वो गुल भी गया।

Whose fragrance in my breath has grown.
From vase of heart that flower has gone.

कभी कभी मैं ये सोचता हूँ कि मुझ को तेरी तलाश क्यूँ है ? 
कि जब हैं सारे ही तार टूटे तो साज़ में इरतेआश क्यूँ है ?

At times I so think, why should I be searching for you still ?
When no wire is intact, why is the instrument trembling still ?

न फ़िक्र कोई न जुस्तजू है, न ख़्वाब कोई न आरज़ू है।
ये शख़्स तो कब का मर चुका है, तो बेकफ़न फिर ये लाश क्यूँ है?

 Neither worry nor quest, no dream or no desire is left.
This man is dead long ago, why in coffin none is wrapping still.

मेरी क़िस्मत में ख़ुदा जाने कहाँ से आ गए?
वो जो ख़म हैं आप की ज़ुल्फ़ - ए-परेशाँ के लिए।

God knows where from did they come in my fate ?
The twists of your tress in an entangled state !

हमें दुश्मन से भी ख़ुद्दार की उम्मीद रहती है।
किसी का भी सर क़दमों में सर अच्छा नहीं लगता। 

I expect, self respect, even from the foes. 
Be it anyone 's head, looks no good on toes. 

 बुलंदी पर इन्हें मिट्टी की ख़ुशबू तक नहीं आती। 
ये वो शाख़ें हैं जिन को अब शजर अच्छा नहीं लगता।

When at peak, they don't get fragrance of earth. 
These branches no longer like the place of birth.

तुम्हें भी याद नहीं और मैं भी भूल गया। 
वो लम्हा कितना हसीं था मगर फ़ुज़ूल गया। 

I have forgotten and you can't recollect. 
That moment was a beauty with wasted effect.

यूँ सुकूँ आश्ना हुए लम्हे। 
बूँद में जैसे आई गहराई। 

Moments are so peace bound. 
A drop gathered depth abound.

छोड़ कर जिस को गए थे आप, कोई और था।
अब मैं कोई और हूँ, वापस तो आकर देखिए।

The one you had left was other than me. 
Now I am someone else, come back to see. 

पुर सुकूँ लगती है कितनी झील के पानी पे बत। 
पाँव की बेताबियाँ पानी के अंदर देखिये। 

The duck looks at peace on surface of water. 
How turbulent it is will be seen within water.

दिल बुझा जितने थे अरमान सभी ख़ाक हुए। 
राख में फिर ये चमकते हैं शरारे कैसे ?

Burnt heart is watered, all desires turned to ashes. 
Why in this heap of ash, still glow bizzare flashes ?

अक्सर वो कहते हैं वो बस मेरे हैं। 
अक्सर क्यों कहते हैं हैरत होती है। 

He is only mine, she says so often. 
I wonder why, she says so often.

यक़ीन का अगर कोई भी सिलसिला नहीं रहा। 
तो शुक् र कीजिए कि अब कोई गिला नहीं रहा। 

If there is total breach of trust, what is left to say O mate. 
Now let us just thank the stars, no ill will is left to state.

किसी की आँख में मस्ती तो आज भी है वही। 
मगर कभी जो हमें था ख़ुमार, जाता रहा।

To anyone, drunk her eyes can still make. 
After effects of drink, I can no longer take. 

मेरा तो अब ये आलम है अक्सर ऐसा होता है। 
याद करूँ तो याद नहीं आता घर कैसा होता है। 

 Such is the state of mind, so often this effect. 
What a home is like, I just can not recollect. 

ज़ख़्म ख़ुर्दा लम्हों को मसलिहत संभाले है। 
अनगिनत मरीज़ों में एक चारागर तन्हा। 

 Policy cares for wounded moments. 
A lonely doctor for countless patients. 

बूँद जब थी बादल में ज़िन्दगी थी हलचल में। 
क़ैद अब सदफ़ में है बन के है गुहर तन्हा। 
Life was in action for a drop in cloud. 
Imprisoned in oyster, pearl laments. 

Friday, 28 May 2021

SHAAD AZEEMABADI..4.... COUPLETS.

सुनी हिकायत ए हस्ती तो दरमियाँ से सुनी।
न इब्तिदा की ख़बर है न इंतिहा मालूम। 

From the story of  life, I have listened middle part. 
Neither I know it's end, nor it's start. 

यूँ न बर्बाद कर के जा ज़ालिम। 
कुछ तो कर शर्म दिल में आने की।

Leave it not in deserted state. 
Have some shame being within heart mate.

ग़ुन्चों के मुस्कुराने पे कहते हैं हँस के गुल।
अपना करो ख़याल हमारी तो कट गई।

When buds smile, flowers laugh and say. 
Look for yourself, we have had our way.

मैं हैरत-ओ-हसरत का मारा ख़ामोश खड़ा हूँ साहिल पर।
दरिया - ए-मुहब्बत कहता है आ कुछ भी नहीं पा-याब हैं हम।

I am silent and amazed while standing on the shore. 
The stream of love calls me in, it's foot deep no more

FAANI BADAYUNI...13 ....... COUPLETS

देख 'फ़ानी' ये तेरी तदबीर की मय्यत न हो।
इक जनाज़ा जा रहा है दोश पर तक़दीर के। 

'Faani' see if it's corpse of your efforts till date.
One coffin is going on the shoulders of fate.

नाम बदनाम है नाहक़ शबे तन्हाई का। 
वो भी इक रुख़ है तेरी अंजुमन आराई का

For nothing a bad name is given to parting night. 
That's another way to arrange your meet in sight.

मिरी इक उम्र 'फ़ानी' नज़्अ के आलम में गुज़री है।
मोहब्बत ने मिरी रग रग से खींचा है लहू बरसों। 

A part of my life has passed in near death state. 
Love sucked blood from me for years at this rate.

ज़िक्र जब छिड़ गया क़यामत का। 
बात पहुँची तिरी जवानी तक। 

With start of the talk on doom. 
It reached your youth at zoom.

मौत का इंतज़ार बाक़ी है। 
आप का इंतज़ार था, न रहा।

I wait for death to settle the score. 
I waited for you but not any more.

मैं ही अपना नक़ाब हूँ वर्ना। 
तेरे मुँह पर कोई नक़ाब नहीं। 

I am my own cover. 
Your face has no cover.

सुन के तेरा नाम आँखें खोल देता था कोई। 
आज तेरा नाम लेकर कोई ग़ाफ़िल हो गया। 

He could open his eyes listening to your name. 
He lost his senses while taking your name.

'फ़ानी' यक़ीन-ए-वादा-ए-फ़र्दा को क्या कहूँ।
अब ज़िन्दगी है नाम फ़क़त इंतिज़ार का

What to talk about promises made by her in past?
'Faani'  needs to wait,as long as the life will last.

कुछ भी हो बर्क़-ओ-बाराँ पर हम ये जानते हैं।
इक बेक़रार तड़पा, इक बेक़रार रोया।

Rai and spark may be anything but to me. 
One kept on crying, other tossed in agony.

मिरी आँखों में आँसू तुम से हमदम क्या कहूँ क्या है ?
ठहर जाए तो अंगारा है बह जाए तो पानी है। 

About tears in my eyes, how to tell you O pal. 
These are embers if they stay 'n water if they fall.

जिस्म - ए-आज़ादी में फूँकी तूने मजबूरी की रूह।
ख़ैर जो चाहा किया, अब ये बता हम क्या करें ?

You breathed in restrain in a body that was free. 
Now tell us what to do, you did as per decree.

मेरी हस्ती गवाह है कि मुझे। 
तू किसी वक़्त भूलता ही नहीं।

My existence is evidence too. 
I am not forgotten by you.

देखिए क्या गुल खिलाती है बहार अब के बरस। 
ख़्वाब में देखा है 'फ़ानी' ने क़फ़स का दर खुला।

How spring shapes flowers this year for it seems. 
The door of prison is open, 'Faani' saw in dreams.

इक मुअम्मा है समझने का न समझाने का।
ज़िन्दगी काहे की है ख़्वाब है दीवाने का। 

A riddle you can't understand or tell. 
Life is a lunatic's dreamy spell.

 सुने जाते न थे तुम से मेरे दिन रात के शिकवे ।
कफ़न सरकाओ मेरी बेज़बानी देखते जाओ ।

You were sick of my grumbling day and night. 
Lift shroud from face to face my mouth tight..... 1

You couldn't listen to my complaints day and night. 
Raise coffin and watch, my lips are tight. 

Thursday, 27 May 2021

DAAGH DEHLAVI.. 5 COUPLETS

मुफ़्त बदनाम है शबे तीरा।
 रोज़े रोशन में क्या नहीं होता।

For nothing do we blame dark night. 
What's not done in broad daylight.

ये सैर है कि दुपट्टा उड़ा रही है हवा?
छुपाते हैं जो वो सीना कमर नहीं छुपती।

Air plays with your garments or is it a scene ?
If she covers the chest,then waist is seen.

शर्म से आँख मिलाते नहीं देखा उनको। 
पार होती हैं कलेजे से निगाहें क्यों कर?

She is so shy, doesn't even lock gaze. 
How do eyes cross heart, it's a maze.

रुख़-ए-रौशन के आगे शम'अ रख कर वो ये कहते हैं।
इधर आता है देखें या उधर परवाना जाता है। 

Near  glowing face, she holds a lamp but knows. 
Let us see which way this fire moth goes.

हम नहीं जानते कुछ दैर-ओ-हरम का रस्ता।
हम मय-ए-इश्क़ से सरशार चले आते हैं।

I know not the way to mosque or temple. 
Drinking love wine, I move forward to sample.

हज़ारों काम मोहब्बत में हैं मज़े के 'दाग़'।
जो लोग कुछ नहीं करते कमाल करते हैं। 

'Daagh' love has a thousand jobs of pleasure.
Those who do nothing are worth a treasure. 

JAUN ELIA..21 COUPLETS......

क्या सितम है कि अब तिरी सूरत।
ग़ौर करने पे याद आती है। 

What a pity that now your face! 
From memories, I have to trace.

मैं भी बहुत अजीब हूँ इतना अजीब हूँ कि बस ।
ख़ुद को तबाह कर लिया और मलाल भी नहीं।

I am very strange, so strange of course. 
I have ruined myself 'n there's no remorse.

बहुत नज़दीक आती जा रही हो ।
बिछड़ने का इरादा कर लिया क्या ?

You are coming far too near. 
Have you planned to part my dear ?

अब मिरी कोई ज़िन्दगी ही नहीं। 
अब भी तुम मेरी ज़िन्दगी हो क्या?

Now I have no life anyhow.
Are you still my life, my dear ?

ज़िन्दगी किस तरह बसर होगी ? 
दिल नहीं लग रहा मोहब्बत में।

How 'll this life chart ?
Love isn't liked by heart.

अब तो उस के बारे में तुम जो चाहो कह डालो। 
वो अंगड़ाई मेरे कमरे तक तो बहुत रूहानी थी ।

Any how, about her now, you in words may sketch. 
I so assume, within my room, spiritual was her stretch.

तेग़-बाज़ी का शौक़ अपनी जगह।
आप तो क़त्ल-ए-आम कर रहे हैं।

Hobby of swordsmanship has a place of it's own. 
What you are doing, is massacre of human clone.

ज़माना था वो दिल की ज़िंदगी का। 
तिरी फ़ुर्क़त के दिन लाऊँ कहाँ से ?

 That was the  life when head showed ways.
Where from to get your parting days ?

यारो कुछ तो ज़िक्र करो तुम, उस की क़यामत बाहों का। 
वो जो सिमटते होंगे उन में, वो तो मर जाते होंगे। 

Talk a little O friends about her extensive arms. 
They 'll surely die who are in those embracing arms.

अब जो रिश्तों में बँधा हूँ तो खुला है मुझ पर। 
कब परिंदे उड़ नहीं पाते हैं परों के होते। 

I now understand, as relations tie. 
Despite wings, when birds can't fly. 

शब जो हम से हुआ मुआफ़ करो। 
नहीं पी थी, बहक गए होंगे। 

Excuse me for what I did last night. 
Getting astray sans drink, I might. 

जुर्म में हम कमी करें भी तो क्यूँ ? 
तुम सज़ा भी तो कम नहीं करते। 

Why should I diminish crime ? 
You  do not punish 'less time' . 

कोई मुझ तक पहुँच नहीं पाया। 
इतना आसान है पता मेरा। 

No one can reach me, pal. 
I am easy, within one call. 

आज मुझ को बहुत बुरा कह कर। 
आप ने नाम तो लिया मेरा। 

Today telling, I am so bad. 
You uttered my name, O pal  

एक ही तो हवस रही है हमें। 
अपनी हालत तबाह की जाए। 

I have but this one lust. 
Ruining my state , a must. 

कितने ऐश से रहते होंगे, कितने इतराते होंगे। 
जाने कैसे लोग वो होंगे, जोउस को भाते होंगे। 

Must be putting on airs, very happy so to say. 
Those liked by him, what sort of men are they ? 

मुझ को आदत है रूठ जाने की। 
आप मुझ को मना लिया कीजे। 

I 've a habit to get displeased. 
You just keep me appease. 

क्या तकल्लुफ़ करें ये कहने में। 
जो भी ख़ुश है, हम उस से जलते हैं। 

Nothing is formal between you' 'n me. 
Those who are happy, I envy. 

वो जो ना आले वाला है उस से मुझ को मतलब था। 
आने वालों से क्या मतलब, आते हैं आते होंगे। 

One who won't be coming , my purpose he could serve. 
Those who come' ll come, what purpose 'll they serve ? 

ऐ शख़्स मैं तेरी जुस्तजू में। 
बे-ज़ार नहीं हूँ, थक गया हूँ। 

Searching for you, O man ! 
I am tired, not sorry I can. 

किस लिए देखती हो आईना ? 
तुम तो ख़ुद से भी ख़ूबसूरत हो ! 

What for in mirror, do you look? 
More beautiful than the self, you look. 






JAVED AKHTAR..2 COUPLETS

हमें भी याद नहीं और तुम भी भूल गए।
वो लम्हे कितने हसीं थे मगर फ़ुज़ूल गए।

I can not remember, you forgot in haste. 
Those beautiful moments have all gone waste.


दूर बजती थी रात शहनाई ।
रोया पी कर बहुत शराब कोई।

Last night clarinet tunes had drifted along. 
He drank and wailed and drank for long. 

Wednesday, 26 May 2021

MAJROOH SULTANPURI.. 5.COUPLETS

रहते थे कभी जिनके दिल में हम जान से भी प्यारों की तरह।
बैठे हैं उन्हीं के कूचे में हम आज गुनहगारों की तरह। 

I had lived in his heart, dearer than life, without a pause. 
Now I am seated in his lane, accused of sins sans a cause. 

दावा था जिन्हें हमदर्दी का ख़ुद आ के न पूछा हाल कभी। 
महफ़िल में बुलाया है हमको हँसने को गुनहगारों की तरह। 

One who claimed to be cosufferer, never ever asked how I was. 
He has called me in the meet  to laugh and hurt without a cause. 

मजरूह लिख रहे हैं वो अहले वफ़ा का नाम। 
हम भी खड़े हुए हैं गुनहगार की तरह। 

'Majrooh' she is counting loyal lovers in prime. 
I stand with those who committed this crime. 

दुआ देती हैं राहें आज तक मुझ आबला-पा को।
मिरे क़दमों की गुलकारी बयाबाँ से चमन तक है। 

The passage blesses my blistered feet till now. 
Blood prints are from desert to garden somehow. 

उस नज़र के उठने में उस नज़र के झुकने में। 
नग़्मा-ए-सहर भी है आह-ए-सुब्ह गाही भी। 

With opening of her eyes and their closure. 
Is music of morning 'n a sad composure. 


BASHIR BADR.. GHAZAL.. MUSAAFIR KE RASTE BADALTE RAHE....

मुसाफ़िर के रस्ते बदलते रहे।
मुक़द्दर में चलना था चलते रहे। 

Routes of passenger were also on move.
He kept on moving, was destined to move.

मिरे रास्ते में उजाले रहे। 
दिए उसकी आँखों में जलते रहे। 

Lit by the lamps within her eyes
My path was alit, when on move.

कोई फूल सा हाथ  कंधे पे था। 
मिरे पाँव शोलों पे जलते रहे। 

On my shoulder was a flowery hand. 
Even on cinders, I was on move.

सुना है उन्हें भी हवा लग गई।
हवाओं के रुख़ जो बदलते रहे। 

It's rumoured they were tamed with time. 
Who could change path of winds on move. 

 वो क्या था जिसे हमने ठुकरा दिया।
मगर उम्र भर हाथ मलते रहे। 

What was it that I shoed away but. 
Wept lifelong to get back in groove. 

मुहब्बत, अदावत, वफ़ा, बेरुखी। 
किराये के घर थे बदलते रहे। 

Litigacy, fidelity, apathy'n love. 
Rented houses were changed to move. 


BASHIR BADR.. GHAZAL.. NA JI BHAR KE DEKHA NA KUCHH BAAT KI...

न जी भर के देखा न कुछ बात की। 
बड़ी आरज़ू थी मुलाक़ात की। 

Neither I talked nor could heartily see. 
To meet her was a longing desire in me. 

उजाले की परियाँ नहाने लगीं। 
नदी गुनगुनाई ख़यालात की। 

Many fairies kept bathing and were aglow. 
River of thoughts was warming up within me. 

मैं चुप था तो चलती हवा रुक गई। 
ज़ुबाँ सब समझते हैं जज़्बात की। 

When I kept mum, blowing wind stopped. 
All understand emotions whoever may they be. 

मुक़द्दर मिरी चश्म- ए- पुर- आब का। 
बरसती हुई रात बरसात की। 

Incessant showers of dark rainy night. 
My tear soaked eyes were destined to be. 

कई साल से कुछ ख़बर ही नहीं। 
कहाँ दिन गुज़ारा कहाँ रात की। 

Many years passed but I never knew. 
Where were days spent, where nights 'd flee. 

Monday, 24 May 2021

RAVI MAUN 1 COUPLET, 3 LANGUAGES

नई योनि में घुस पड़े जब भी मन में आय।
आत्मा सौं बढ़ कर रसिक कोउ ना कविराय ।

नूतोन जोनिए ढुके पौड़े जोखुन मौने आशे।
रोशिकेर मोध्ये आत्ता प्रोथोम धोरे ना केऊ
पाशे। 

It gets deep within next body, whenever there's a desire. 
Soul scores over all lovers, it's tested over time with fire. 

ASGHAR GAUNDVI......5...COUPLETS .....

दास्ताँ उसकी अदाओं की है रंगीं लेकिन।
उस में कुछ ख़ून ए तमन्ना भी है शामिल मेरा। 

Her poses and style make a colourful tale. 
But for blood of my desires, it 
'll all look pale.

कारफ़र्मा है फ़क़त हुस्न का नैरंग- ए- कमाल।
चाहे वो शम'अ बने चाहे परवाना बने। 

It's a strange miracle that only beauty can handle.
Orders to shape it as a fire moth or a candle.

क़फ़स क्या हल्का हाए दाम क्या रंजे असीरी क्या?
चमन पर मिट गया जो हर तरह आज़ाद होता है। 

The prison, knots of net and pain of being a captive. 
One who dies for the garden, is free ever a captive.

क्या मिरे हाल पर सचमुच उन्हें ग़म था क़ासिद?
तूने देखा था सितारा सर ए मिज़गाँ कोई। 

Was she sad o messenger, going through my tale?
You saw tear in her eyes going through my mail.

क्या बहार-ए-नक़्श-ए-पा है ऐ नवाज़-ए-आशिक़ी।
लुत्फ़ सर रखने में क्या, सर रख के मर जाने में है। 

What a beautiful footprint, worthy of a lover to pray ! 
Charm is not in bowing the head but going the final way. 

Thursday, 20 May 2021

GHAZAL.. JAVED AKHTAR.. YAQEEN KA AGAR KOI BHI...

  यक़ीन का अगर कोई भी सिलसिला नहीं रहा।
तो शुक्र कीजिए कि अब कोई गिला नहीं रहा। 

If there's total breach of trust, what is left to say O mate. 
Now let's just thank the stars, no ill will is left to state. 

न हिज्र है न वस्ल है अब इसको कोई क्या कहे। 
कि फूल शाख़ पर तो है मगर खिला नहीं रहा।

Neither departure nor a meet, what'd someone call this phase
Flower is still on the branch, but not in a blooming state. 

ख़ज़ाने तुम ने पाए तो ग़रीब कैसे हो गए। पलक पे अब कोई भी मोती झिलमिला नहीं रहा।

With acquisition of the wealth, you look like a poor man. 
On the lashes of your eyes, no pearl twinkles on the date.

बदल गई है ज़िन्दगी बदल गए हैं लोग भी
ख़ुलूस का जो था कभी वो अब सिला नहीं रहा। 

The life has undergone a change, 'n with it  the people too.
What the affection used to breed that result was not of late. 

लहू में जज़्ब हो सका न इल्म तो ये हाल है। 
कोई सवाल ज़हन को जो दे ज़िला नहीं रहा। 

Now no question that is asked brings no glow on the face. 
Knowledge hasn't sunk in blood 'n that has lead to this state. 

GHAZAL.. JAVED AKHTAR.. MISAL ISKI KAHAAN HAI KOI..

मिसाल इसकी कहाँ है कोई ज़माने में।
कि सारे खोने के ग़म पाए हम ने पाने में। 

Nowhere can an example be cited of this state. 
That all grieves of loss could to winnings relate. 

वो शक्ल पिघली तो हर शय में ढल गई जैसे।
अजीब बात हुई है उसे भुलाने में। 

That face got melt to mould in all shapes. 
To forget her a strange thing happened of late. 

जो मुंतज़िर न मिला वो तो हम हैं शर्मिंदा। कि हम ने देर लगा दी पलट के आने में।

 Well I am ashamed that she could not wait.
Took far too long to look back at her state. 

लतीफ़ था वो तख़य्युल से ख़्वाब से नाज़ुक। 
गँवा दिया उसे हम ने ही आज़माने में। 

Softer than thought, more delicate than dream. 
I lost her out of my questioning trait. 

झुका दरख़्त हवा से तो आँधियों ने कहा।
ज़ियादा फ़र्क़ नहीं झुकने, टूट जाने में। 

 To bent tree wind storm hissed to say.
Bend or break is not such a different fate. 

GHAZAL.. JAVED AKHTAR.. SAARI HAIRAT HAI MERI....

सारी हैरत है मेरी सारी अदा उसकी है।
बेगुनाही है मिरी और सज़ा उसकी है। 

All wonders are mine and style her stand. 
Innocence is mine, her's punishing hand.

इक मोहब्बत की ये तस्वीर है दो रंगों में।
शौक़ सब मेरे हैं और सारी हया उसकी है। 
It's a picture of love in two colours. 
Desire is all mine, shame her hand. 

शे'र मेरे हैं मगर उनमें मोहब्बत उसकी।
फूल मेरे हैं मगर बाद- ए- सबा उसकी है।

Couplets are mine but love in these her's.
Flowers are mine, her morning breeze grand. 

हमने क्या उनसे मोहब्बत की इजाज़त ली थी। 
दिल शिकन ही सही पर बात बजा उसकी है। 

I had not asked her permission for love. 
Heart breaking it is, but right is her stand. 

एक मेरे ही सिवा सबको पुकारे है कोई। 
मैंने पहले ही कहा था ये सदा उसकी है। 

But for me, all others are called
I said that this voice is her brand. 

AATISH..3..... COUPLETS

तेरे अब्रू- ए - पैबस्ता का आलम में फ़साना है।
किसी उस्ताद शायर का ये बैत- ए- आशाक़ाना है।

The story of your paired eye- brows in universe.
Is a lovely couplet by a master crafter in verse.

उस बला- ए - जाँ से 'आतिश' देखिए क्यूँ कर निभे।
दिल सिवा शीशे से नाज़ुक दिल से नाज़ुक ख़ू- ए - दोस्त।

O 'Atish' let me see how can I get along with that dreaded dame.
The heart is delicate than glass, more than that are her habits 'n fame.

न होगा पाक कभी हुस्न - ओ-इश्क़ का झगड़ा।
ये किस्सा वो है कि जिस का कोई गवाह नहीं। 

Never will the tussle of love   and beauty be over. 
For it there is no ground evidence to cover. 

Sunday, 16 May 2021

SHAHAR YAR..4... COUPLETS

मैं जिस को लिखने के अरमान में जिया अब तक।
वरक़ वरक़ वो फ़साना बिखर गया यारो। 

With a desire to pen it I lived so far. 
Page by page that story scattered O chums!

हर एक नक़्श तमन्ना का हो गया धुँधला। 
हर एक ज़ख़्म मिरे दिल का भर गया यारो। 

All the marks of desire turned foggy. 
All wounds of heart have healed O chums. 

हर मुलाक़ात का अंजाम जुदाई क्यूँ है। 
अब तो हर वक़्त यही बात सताती है हमें। 
Why each meeting leads to separation finale. 
Now all the time does this hurt prevail.

न जिस का नाम है कोई न जिस की शक्ल है कोई।
इक ऐसी शै का क्यूँ हमें अज़ल से इंतिज़ार है? 

Neither it has a name nor a face on chart. 
Why am I waiting for such a thing from start? 

GHAZAL.. SHAHAR YAR.. ZINDAGI JAISI TAVAQUO THI...

ज़िन्दगी जैसी तवक़्क़ो थी नहीं कुछ कम है।
हर घड़ी होता है अहसास कहीं कुछ कम है।

What was expected, life is a little less than that.
Every time there's a feeling, it's a little less than that. 

घर की तामीर तसव्वुर ही में हो सकती है। अपने नक़्शे के मुताबिक यह ज़मीं कुछ कम है। 

The construction of home is possible only in dream. 
According to plan this land is a little less than that. 

बिछड़े लोगों से मुलाक़ात कभी फिर होगी। 
दिल में उम्मीद तो काफ़ी हैयक़ीं कुछ कम है। 

Those who part will meet once again. 
Hope is much but faith is a little less than that.

अब जिधर देखिए लगता है कि इस दुनिया में। 
कहीं कुछ चीज़ ज़ियादा है कहीं कुछ कम है। 

Where you look it appears that in this world. 
At places it's more at others a little less than that. 

आज भी है तेरी दूरी ही उदासी का सबब। ये अलग बात कि पहले सी नहीं कुछ कम है। 

Even today our distance is the reason of gloom. 
Not so much as before, is a little less than that. 

GHAZAL.. SHAHAR YAR.. DIL CHIIZ KYA HAI AAP MIRI JAAN

दिल चीज़ क्या है आप मिरी जान लीजिए।
बस एक बार मेरा कहा मान लीजिए। 

Take my life, what a thing is heart. 
Only once as I say, in line you chart. 

इस अंजुमन में आपको आना है बार बार। दीवार ओ दर को ग़ौर से पहचान लीजिए। You need come here many times for meet.
Recognize these walls 'n doors by heart.

माना कि दोस्तों को नहीं दोस्ती का पास। 
लेकिन ये क्या कि ग़ैर का अहसान लीजिए। 

Friends don't regard this relation is true.
But not that rivals need oblige from start. 

कहिए तो आसमाँ को ज़मीं पर उतार लायँ। 
मुश्किल नहीं है कुछ भी अगर ठान लीजिए। 

If you say, even sky can be brought to earth. 
Nothing is difficult, if determination is smart. 

GHAZAL.. SHAHAR YAR.. IN ANKHON KI MASTII KE....

इन आँखों की मस्ती के मस्ताने हज़ारों हैं। इन आँखों से वाबस्ता अफ़साने हज़ारों हैं।

Intoxicated by these are thousands. 
Stories about these eyes are thousands. 

इक तुम ही नहीं तन्हा उल्फ़त में मेरी रुस्वा। 
इस शहर में तुम जैसे दीवाने हज़ारों हैं। 

Not only you are disgraced in my love. 
Crazy like you in city are thousands.

इक सिर्फ हमीं मय को आँखों से पिलाते हैं। 
कहने को तो दुनिया में मैख़ाने हज़ारों हैं।

To lovers only I serve drink with eyes. 
The world over, there are taverns in thousands.

इस शम'अ ए फ़रोज़ाँ को आँधी से डराते हो। 
इस शम'अ ए फ़रोज़ाँ के परवाने हज़ारों हैं। 

Why frighten a lighted lamp with storm. 
For this lighted lamp are fire moths in thousands. 

Tuesday, 11 May 2021

RAHIIM...6.... COUPLETS

रहिमन वो नर मर गए जो कहँ माँगन जाहिं।
तातें आगे वो मुए जेहि मुख निकस्यो नाहि

O Rahiim they are dead who spread their palms.
They die before hand, who say no to alms.

Rahim Bolen taaraa moreche, jaara bhikkhe cheye nilen. 
Taar aage taarak moreche, jaara naa bole dilen. 

थोरो किए बड़ैन की बड़ी बड़ाई होय। 
ज्यों 'रहीम' हनुमंत को गिरिधर कहे न कोय।

Even a little done by bigwigs gets a splendid name. 
None calls Hanumaan a mount bearer by his name.

कह'रहीम' संपति सगे बनत बहुत बहु रीत
बिपति कसौटी जे कसे तेई साँचे मीत। 

While rich O Rahim in many ways, people relate as pals. 
While poor, only few remain, but they are real pals.

देनहार कोई और है देता जो दिन रैन। 
लोग भ्रम हम पर करें ताते नीचे नैन। 

 O He is someone else who gives me day and night.
My eyes are downcast as people think I might.

कमला थिर न रहीम कहँ यह जानत सब कोय।
पुरुष पुरातन की वधू क्यूँ न चंचला होय?

Goddess of wealth is fickle, does not hold her ground. 
First man Vishnu's wife is pretty, shows herself around.... 1

The Goddess of wealth is unstable'Rahim'and it's known to all. 
Why wife of God, the senior most, should not change her stall. 

छिमा बड़न को चाहिए छोटन को उत्पात।
कहा विष्णु को घटि गयो जो भृगु मारी लात।

Younger's trait is making trouble but elders excuse still.
Hit by Bhrigu's foot, Vishnu's fame brimmed over the fill. 

SHAKEB JALAALI....GHAZAL.. JAHAN TALAK BHI YE SAHARAA DIKHAI DETA HAI.....

जहाँ तलक भी ये सहरा दिखाई देता है।
मेरी तरह ही अकेला दिखाई देता है। 

As far as this desert is seen. 
It's lonely, as I have been.

न इतना तेज़ चले सरफिरी हवा से कहो। 
शजर पे एक ही पत्ता दिखाई देता है। 

Don't blow off the top O wind. 
To fall, last leaf is keen.
(Keen.... To weep over the dead, eager)

बुरा न मानिए लोगों की ऐब जूई का। 
उन्हें तो दिन का भी साया दिखाई देता है। 

Don't feel bad if people find faults. 
For them even shadow of day is seen. 

ये एक अब्र का टुकड़ा कहाँ कहाँ बरसेे। 
तमाम दश्त ही प्यासा दिखाई देता है। 

How at places can shower one little cloud? 
The whole jungle is thirsty, so is seen. 

वहीं पहुँच के लगाएँगे बादबाँ अब तो। 
वो दूर कोई जज़ीरा दिखाई देता है। 

We 'll set sail after reaching that site. 
There, far away, is an island seen. 

 वो अलविदा'अ का मंज़र वो भीगती पलकें। 
पस - ए-ग़ुबार भी क्या क्या दिखाई देता है। 

 That scene of departure, the watery eyes! 
O what not can behind dust be seen. 

मिरी निगाह से छुप कर कहाँ रहेगा कोई। 
कि अब तो संग भी शीशा दिखाई देता है। 
Where can he conceal from my eyes?
Now even stone as clear glass is seen.

सिमट के रह गए आख़िर पहाड़ से क़द भी।
ज़मीं से हर कोई ऊँचा दिखाई देता है। 

Dwarfed were finally mountain heights. 
Higher from earth every object is seen.

खिली है दिल में किसी के बदन की धूप 'शकेब'।
हर एक फूल सुनहरा दिखाई देता है। 

The sun of one's body is shining in heart. 
Every flower turns golden, so is seen. 

BASHIR BADR.. GHAZAL.. KHUSHBUON KA ATA PATA RAKHIYE....

ख़ुशबुओं का अता पता रखिए।
कोई मौसम हो दिल हरा रखिए। 

Keep track of fragrance around. 
In all weathers, keep heart sound.

मुझ से कहता है मेरा आईना। 
और पत्थर से वास्ता रखिए। 

So says to me my mirror. 
Have stony relations around. 

चलिए लोगों के साथ रस्ते में। 
और अलग अपना रास्ता रखिए। 

Join people who are on way. 
But keep your own track bound.

Sunday, 9 May 2021

SAAQIB LAKHNAVI....14 .. COUPLETS.

सुबह को राज़- ए- गुल- ओ- शबनम खुला।
हँसने वाले रात भर रोते रहे। 

 morning secret of dew on flWithowers was in sight. 
Those who smiled had kept crying the whole night.

नहीं मालूम किस हालत में हूँ मैं बाग़ ए आलम में। 
क़फ़स वाले भी मुझ को देख कर फ़रियाद करते हैं। 

In worldly garden I don't know my condition O mate. 
Even prisoners pray for me seeing in this state. 

बू ए गुल फूलों में रहती थी मगर रह न सकी।
मैं तो काँटों में रहा और परेशाँ न हुआ। 

Fragrance was in flowers but couldn't stay still.
While I lived in thorns, unperturbed, at will.

चार दिन की इस बुलंदी में भी थी पस्ती निहाँ। 
आशियाने से नज़र आता था घर सैयाद का। 

Fall seemed hidden while up for short while to roam. 
Even from my nest, I could see the captor's home.

फ़ितरत- ए - आदम में थी अल्लाह क्या नश्व- ओ- नुमा। 
एक मुट्ठी ख़ाक यूँ फैली कि दुनिया हो गई। 

In the nature of Adam was a unique way to grow. 
A fistful of dirt covered the world with it's flow. 

दुआएँ दे मेरे बाद आने वाले मेरी वहशत को। 
बहुत काँटे निकल आए मेरे हमराह मंज़िल से। 

Bless my lunacy O dear one with these path strolls. 
Many thorns were removed by my clothes and soles. 

बाग़बाँ ने आग दी जब आशियाने को मेरे। जिन पे तकिया था वही पत्ते हवा देने लगे

When the gardener himself set my nest on fire. 
Dry leaves that I trusted, gave wind to fire. 

कहने को मुश्ते पर की असीरी तो है मगर। 
ख़ामोश हो गया है चमन बोलता हुआ। 

Only a nightingale is captivated but see it's role. 
Silence has prevailed in the garden as a whole. 

शबे फ़िराक़ की मैं जानूँ या ख़ुदा जाने। 
जो ख़ुद समझ नहीं सकते उन्हें बताऊँ क्या? 

About parting night either I 'd know or Lord. 
One who can't understand, is of no accord. 

एवज़ ले लिया हिज्र का मैंने मर के। 
वो तुर्बत पे रोते थे मैं सो रहा था। 

In death, I took the revenge of parting. 
I slept in grave, she wept, kept smarting. 

कहने को मुश्त-ए-पर की असीरी तो है मगर। 
ख़ामोश हो गया है चमन बोलता हुआ। 

To say, only nightingale has been arrested. 
In effect, all sounds in the garden are rested. 

नामा लिखते वक़्त क्या जाने क़लम क्यूँ कर चला ? 
इज़्तराब-ए-दिल नज़र आने लगा तहरीर में ! 

Writing her a letter, pen got fluent to quote. 
Tormented heart appeared in what I wrote. 

दिल कि जिस की ख़ाना वीरानी का तुम को ग़म नहीं। 
क्या बताएँ हम तुम्हें इस घर में कौन आबाद था ? 

You don't care about this deserted heart here. 
How to tell you who used to live in it dear. 

बाँट लें दुनिया को हम तुम मिल के ऐश-ओ-रंज में। 
एक जानिब क़हक़हे हों, इक तरफ़ फ़रियाद हो। 

Let's divide this world in pleasure and pain O brother ! 
Prayers from a side and laughter from the other. 


SEEMAAB AKBARAABAADI.. TETRAD 1....AND 45.... COUPLETS

सजदे करूँ सवाल करूँ इल्तिजा करूँ।
यूँ दे तो कायनात मिरे काम की नहीं। 
वो ख़ुद अता करें तो जहन्नुम भी है बहिश्त।
माँगी हुई निजात मिरे काम की नहीं। 

I pray, ask for, beg over and over again. 
Universe granted like this to me was in vain. 
If He gives it Himself, even he'll is heaven
Useless to me is the begged worldly domain.

कहानी मेरी रूदाद- ए - जहाँ मालूम होती है।
जो सुनता है उसी की दास्ताँ मालूम होती है। 

My story appears to be of universal accord. 
Whoever listens, thinks, it's his  on record.

मंज़िल मिली मुराद मिली मुद्दआ मिला। 
सब कुछ मुझे मिला जो तिस नक़्श-ए-पा मिला। 

 I got desire, goal and issue as well. 
I got all, with your footprint 's spell. 

वो सजदा क्या रहे अहसास जिस में सर उठाने का।
इबादत और ब-क़द- होश तौहीन- ए- इबादत है।

While kneeling to ground, if you know when to rebound,it's not taking his name.
When in prayer, if you are aware, not in trans, it's a matter of utter shame. 

आ ऐ गुल- ए- फ़सुर्दा लगा लूँ गले तुझे।। 
तू भी तो मेरी तरह लुटा है शबाब में। 

Let me embrace you O dwindling flower. 
You too, in youth have lost your power. 

कर रहे थे जाने हम अल्लाह से किस का गिला। 
आप अपना सर झुका कर क्यों पशेमाँ हो गए। 

I was complaining about someone before Lord. 
Why did your head droop with regret on record.

उम्र ए दराज़ माँग कर लाई थी चार दिन। 
दो आरज़ू में कट गए दो इंतिज़ार में।

Long life had begged for four days O mate. 
Two were spent longing and other two to wait.

फिर मैं आया हूँ तिरे पास ऐ अमीर- ए- कारवाँ ।
छोड़ आया था जहाँ तू वो मेरी मंज़िल न थी। 

O head of the caravan! I have come to you again.
Where you left, wasn't the goal, I wanted to attain.

मैं जिया भी दुनिया में और जान भी देदी। 
ये न खुल सका लेकिन आप की ख़ुशी क्या थी ?

I lived in this world and died on my own. 
But what could please you, was never known.

जी दुख के रह गया ये अलग बात है मगर। 
हम तो तेरे ख़याल से मसरूर हो गए।

Heart is aggrieved, it's a separate tale. 
But I am pleased with your thought gale.

 मैं अपने हाल से ख़ुद बेख़बर हूँ।
तुम्हारी कम निगाह का गिला क्या?

I am unaware of my own state. 
Why blame your neglect O mate? 

तुम्हें दानिस्ता महफ़िल में जो देखा हो तो मुजरिम हैं। 
नज़र आख़िर नज़र है बेइरादा उठ गई होगी। 

I am a culprit if in meeting, I picked you as a prize. 
I can not check my eyes, for an unintentional rise. 

रोज़ कहता हूँ कि उन को न देखूँगा कभी।
रोज़ उस कूचे में इक काम निकल आता है। 

Daily I say, never to see her again. 
Then a new work takes me to her lane. 
Everyday a new job finds me in her street .

दिल की बिसात क्या थी निगाह-ए-जमाल में। 
इक आईना था टूट गया देखभाल में। 

My heart was nothing in that aesthetic glance. 
A mirror it was , broken in upkeep, by chance. 

दिल-ए-आफ़त-ज़दा का मुद्दआ क्या? 
शिकस्ता साज़ क्या उसकी सदा क्या? 

What's purpose of afflicted heart around? 
A broken music gadget and it's sound ! 

मोहब्बत में इक ऐसा वक़्त भी आता है इंसाँ पर। 
सितारों की चमक से चोट लगती है रग-ए-जाँ पर। 

In love, for man, comes a time in flow. 
Heart vessels get hurt as the stars glow. 

दुनिया है ख़्वाब हासिल- ए- दुनिया ख़याल है। 
इंसान ख़्वाब देख रहा है ख़याल में।

Benefit of world is a thought 'n life is a dream. 
Man is dreaming about it within thought stream. 

तेरे जल्वों ने मुझे घर लिया है ऐ दोस्त। 
अब तो तन्हाई के लम्हे भी हसीं लगते हैं। 

Your glimpses have surrounded me O friend ! 
Even moments of solitude look lovely in end. 

हाय ' सीमाब`! उस की मजबूरी। 
जिस ने की हो शबाब में तौबा ! 

O Seemaab! How helpless he remains. 
Who in youth, from wine abstains! 

 मंज़िल मिली मुराद मिली मुद्द'आ मिला। 
सब कुछ मिला मुझे जो तिरा नक़्श-ए-पा मिला। 

I got matter, desires and goal  hint. 
All these were mine, with your foot - print. 

हुस्न में जब नाज़ शामिल हो गया। 
एक पैदा और क़ातिल हो गया । 

When love was joined by grace.
Another assassin came to  race! 

क्या ढूँढने जाऊँ मैं किसी को ? 
अपना मुझे ख़ुद पता नहीं है ! 

How to go in search of unknown? 
I have no whereabout of my own. 

मिरी ख़ामोशियों पर दुनिया मुझ को 
 तअन देती है। 
ये क्या जाने कि चुप रह कर भी की जाती हैं तकरीरें। 

For my silence, world often taunts me on face. 
It isn't aware, silent discussions also take place. 

वो दुनिया थी जहाँ तुम बंद रखते थे ज़ुबाँ मेरी। 
ये महशर है यहाँ सुननी पड़ेगी दास्ताँ मेरी। 

That was world, where my voice, you could curtail. 
It's doom's day ! Here you have to listen to my tale. 

है हुसूल-ए-आरज़ू का राज़ तर्क - ए-आरज़ू। 
मैंने दुनिया छोड़ दी तो मिल गई दुनिया मुझे। 

Renouncing desire is secret of fulfilment of desire. 
When I set aside the world, I could get it entire. 

देखते ही देखते दुनिया से उठ जाऊँगा मैं। देखती ही देखती रह जाएगी दुनिया मुझे। 
As you watch, from world I'll be gone. 
The world would be looking at me alone. 

ख़ुलूस - ए-दिल से सज्दा हो तो उस सज्दे का क्या कहना। 
वहीं काबा सरक आया जबीं हम ने जहाँ रख दी। 

What to say if you bow before Him with purity of heart. 
Where I touched my forehead, Kaaba slid towards that part. 

मिरी दीवानगी पर होश वाले बहस फ़रमाएँ। 
मगर पहले उन्हें दीवाना बनने की ज़रूरत है। 

Let those who are conscious, my lunacy address. 
But they need first be lunatic 'n then express. 

 ग़म मुझे वहशत मुझे हसरत मुझे सौदा मुझे। 
एक दिल दे कर ख़ुदा ने दे दिया क्या क्या मुझे। 

Grief, savagery, lunacy and desire. 
God gave me a heart 'n these entire. 

मोहब्बत में इक ऐसा वक़्त भी आता है इंसाँ पर। 
कि तारों की चमक से चोट लगती है रग-ए-जाँ पर। 

There's a phase in love when man gets a blow. 
It hurts deep within heart, as the stars glow. 

रंग भरते हैं वफ़ा का जो तसव्वुर में तिरे। 
तुझ से अच्छी तिरी तस्वीर बना लेते हैं। 

 Colouring with fidelity and thinking of you. 
They paint your portrait better than you. 

जब दिल पे छा रही हों घटाएँ मलाल की। 
उस वक़्त अपने दिल की तरफ़ मुस्कुरा के देख। 

When clouds of melancholy are spread all over heart. 
That time just smile and look towards your heart. 

मरकज़ पे अपने धूप सिमटती है जिस तरह। 
यूँ रफ़्ता रफ़्ता तेरे क़रीं आ रहा हूँ मैं। 

As sunlight gradually shrinks towards sun. 
So slowly I am coming towards my sweet one. 

 वो आईना हो या हो फूल तारा हो कि पैमाना। 
कहीं जो कुछ भी टूटा मैंने ये समझा मिरा दिल है। 

Whether it's a mirror, flower, star or a cup of wine. 
Where something breaks, I think it's heart of mine. 

कहानी है तो बस इतनी फ़रेब-ए-ख़्वाब-ए-हस्ती की। 
कि आँखें बंद हों और आदमी अफ़साना हो जाए। 

Such is the trick of human dream tale. 
With closure of eyes, man becomes stale. 

गुनाहों पर यही इंसान को मजबूर करती है। 
जो इक बेनाम सी फ़ानी सी लज़्ज़त है गुनाहों में। 

It's what compels man to be a part of sins. 
There is a mortal, nameless pleasure in sins. 

मैं देखता हूँ आप की हद्द-ए-निगाह तक। 
लेकिन मिरी निगाह का क्या एतबार है? 

I can see upto limit of your vision 'n adjust. 
But on my own eyes, how can I trust ? 

तअ' ज्जुब क्या लगी जो आग ऐ 'सीमाब' सीने में। 
हज़ारों दिल में अंगारे भरे थे, लग गई होगी। 

What's so strange O 'Seemab' if the chest is on fire. 
There are thousands of embers in heart entire. 

बरहमन कहता था ब्रह्म शैख़ बोल उठा अहद।
हर्फ़ के इक फेर से दोनों में झगड़ा हो गया। 

Brahmin labelled Brahm, sheikh said Ahad by name. 
A change of word made rivals, though they meant the same. 

'सीमाब' दिल हवादिस - ए-दुनिया से बुझ गया ।
अब आरज़ू भी तर्क-ए-तमन्ना से कम नहीं। 

O 'Seemab' world calamities doused heart of any fire. 
Now even a wish isn't  lesser than renouncing desire. 

क्यूँ जाम-ए-शराब-ए-नाब माँगूँ? 
साक़ी की नज़र में क्या नहीं है? 

Why ask for a drink of heaven, skies ? 
What is not there in bar-girl's eyes ? 

ये शराब - ए-इश्क़ ऐ 'सीमाब' है पीने की चीज़। 
तुंद भी है बद-मज़ा भी है मगर इक्सीर है। 
O 'Seemab'! Wine of love is a drink worth a fill. 
It is hot, tastes bad but is cure- all still. 

सहरा से बार बार वतन कौन जाएगा ? 
क्यूँ ऐ जुनूँ यहीं न उठा लाऊँ घर को मैं?

Who 'll go from desert to home times ' n again?
Why not bring  home here, as a lunatic bargain ? 

देखते रहते हैं छुप छुप के मुरक्क़ा तेरा ।
कभी आती है हवा भी तो छुपा लेते हैं। 

I look at your portrait, hidden from all. 
Hidden from wind, from every foot-fall. 

सारे चमन को मैं तो समझता हूँ अपना घर। 
जैसे चमन में मेरा कोई आशियाँ बना।

 I view whole garden, as home of my  own. 
As if within the garden, a nest I could own. 

 चमक जुगनू की बर्क़-ए-बे-अमाँ मालूम होती है। 
कफ़स में हो के क़द्र-ए-आशियाँ मालूम होती है। 

Fatal lightening appears to be a glow worm's glow. 
When in prison, you know worth of garden's show. 

लहू से मैंने लिखा था जो दीवार - ए-ज़िंदा पर। 
वो बिजली बन के चमका दामन-ए-सुब्ह-ए-गुलिस्ताँ पर। 

What I wrote with blood upon prison-wall. 
It was lightening for garden's morning call.. 

लूटने वाले हमारी नींद के। 
रात भर किस चैन से सोते रहे। 

One who stole my sleep. 
Slept in peace, so deep. 

ख़ाली है जाम-ए-ज़ीस्त, मगर कह रही है मौत। 
लबरेज़ तेरी उम्र का पैमाना हो गया। 

The cup of life is empty but death has this to say. 
Cup of age is to the brim, no longer can you stay. 

मिरे दिल की है ये फ़सुर्दगी कि ख़याल - ए-ऐश भी ख़ार है। 
तो फिर ऐ नसीब मैं क्या करूं जो शब-ए-निशात-ए-बहार है। 

Thought of pleasure is a thorn, so sad is heart's state. 
It's a pleasant spring night, but what if not in my fate. 

रौशनी डाल के दुनिया को दिखाता था म'आल। 
ये चराग़-ए-सर-ए-तुर्बत मिरा बेकार न था। 

It threw light and showed the world it's end. 
My grave' s lamp wasn't useless, set trend. 

हो गए रुख़सत 'रईस' ओ 'आली' ओ 'वासिफ़' 'निसार' । 
रफ़्ता रफ्ता आगरा 'सीमाब' सूना हो गया। 

'Raees', 'Aali,' 'Naasif' and 'Nissaar' have gone. 
Gradually in Agra, 'Seemaab' is left alone. 

ये मिरी तीरा-नसीबी, ये सादगी, ये फ़रेब। 
गिरी जो बर्क़, मैं समझा चराग़-ए-ख़ाना मिला। 

My simplicity, deceit and dark fate. 
Took lightening for a lamp of home O mate. 

क़फ़स की तीलियों में जाने क्या तरकीब रक्खी है ? 
कि हर बिजली क़रीब-ए-आशियाँ मालूम होती है। 

I don't know what is the sequence of sticks in the cage. 
Each lightening appears so close to my nest in rage. 

नशात-ए-हुस्न हो जोश-ए-वफ़ा हो या ग़म-ए-इश्क़। 
हमारे दिल में जो आए वो आरज़ू हो जाए। 

Pleasure of beauty, excitement of constancy or love pangs of pain. 
Let whatever comes within my heart, always as desire remain. 

अब यहाँ दामन-कशी की फ़िक्र दामन-गीर है। 
ये मिरे ख़्वाब-ए-मोहब्बत की नई ताबीर है। 

Demanding justice is labelled any attempt to hold seam. 
It's a brand new interpretation of my love dream. 









। 

 




KABIIR.. COUPLETS..27.........

प्रेम छिपाए ना छिपे जा घट परघट होय।
जो पै मुख बोले नहीं नैन देत हैं रोय।

Love can not be hidden, from heart to heart will leak. 
Eyes will shed the tears, even if mouth does not speak. 

आजा प्यारे नयन में पलक ढाँप तोय लूँ।
ना मैं देखूँ और को ना तोय देखन दूँ। 

Come in my eyes O lover, with lids I 'll cover thee. 
Neither will I see someone else nor' ll I let you see.

प्रेम प्रेम सब कोई कहे प्रेम न जाने कोय। 
आठ पहर भीनो रहै प्रेम कहावै सोय। 

Everyone talks about love but no one really knows. 
When one is drenched in love, it's an all time dose. 

प्रेम पियाला जो पिए सीस दच्छिना देय। लोभी सीस न दे सके नाम प्रेम का लेय। 

One who drinks a cup of love, as a present vhops his head. 
Greedy can't chop the head, chants name of love instead. 

कबिरा खड़े बजार में लिए लाकुटी हाथ। 
जो घर फूँके आपनो चले हमारे साथ। 

Kabir is standing in market with a walking stick in hand. 
Who ever can torch his home, is welcome to join the band. 

ऐसी बानी बोलिए मन का आपा खोय। 
अपना तन सीतल करे औरन को सुख देय। 

Talk in such a tone that it takes away the pride. 
It 'll cool your heart, for others a pleasure guide. 

सात समंद की मसि करौं लेखिनि सब बनराय। 
धरती सब कागद करौं तउ हरि गुण लिख्यो न जाय। 

Pens made out of all woodlands, ink from all the seas. 
Paper as large as earth, isn't enough to pen His qualities. 

पानी केरा बुदबुदा अस मानुस की जात। 
देखत ही छिप जाएगा ज्यों तारा परभात

Human life is so short, a bubble of water at par. 
It will be lost to vision, like a morning star. 

जा घट प्रेम न संचरै सो घट जान मसान ।जैसे खाल लुहार की साँस लेत बिनु प्रान 

That heart is like a crematorium, where love does not thrive. 
As skin at blacksmith's workshop, breathes but isn't alive. 

माला तो कर में फिरे जीभ फिरे मुख माहिं। 
मनवा तो चहुँ दिस फिरे यह तो सुमिरन नाहिं। 

Rosary rotates in hand, in mouth the tongue goes round. 
Thoughts travel everywhere, it isn't meditation profound. 

वस्तु कहीं ढूँढे कहीं केहि बिधि आवे हाथ। 
कह 'कबीर' तब पाइयो जब भेदी लीजे साथ। 

It's somewhere, you search elsewhere, how can you lay your hand?
Until accompanied by one who knows, O 'Kabir'! Where do you stand? 

बड़ा हुआ तो क्या हुआ जैसे पेड़ खजूर। 
पंथी को छाया नहीं फल लागें अति दूर ।

What good is a dates tree, see how high it can be. 
No shade for passer bye and distant fruit to see. 

ये तो घर है प्रेम का खाला का घर नाहिं। 
सीस उतारे भुहिं धरे तब पैठे घर माहिं। 

It's a house of love, neither of relative nor spouse. 
Just chuck your head on gate, then enter in this house. 

चलती चाकी देख कर दिया कबीरा रोय। 
दो पाटन के बीच में साबुत बचा न कोय। 

'Kabir' wept seeing grinding stone in motion. 
None survives in their midst, is the notion.

जिन ढूँढा तिन पाइयाँ गहरे पानी पैठ। 
मैं बुरा बूड़न डरा रहा किनारे बैठ। 

Those who dived deep and searched, could find. 
Scared of drowning, I was just left behind. 

बुरा जो देखने मैं चला बुरा न पाया कोय। जो दिल खोजा आपना मुझ से बुरा न कोय। 

I searched all around in search of an evil man. 
When I searched my own heart, found the evil man. 

पोथी पढ़ पढ़ जुग भया पंडित भया न कोय। 
ढाई आखर प्रेम के पढ़े सो पंडित होय। 

Reading books for ages, no one became wise. 
Reading a few letters of love, can make anyone wise. 

सतगुर हम सौं रीझ कर कहा एक परसंग 
बरसा बादल प्रेम का भीजि गया सब अंग

My teacher, pleased with my devotion, narrated one tale. 
Love cloud burst open, wetting from head to toenail. 

चकई बिछुरी रैन की  आइ मिले परभाति। जे नर बिछरे राम सौं ते दिन मिलै न राति। 
Love birds meet in morning, when parted for the night. 
Those who part with Ram meet neither at day nor night. 

सब रग ताँति रबाब तन, बिरह बजावै नित्त। 
और न कोई सुनि सकै, के साईं के चित्त। 

Blood vessels are strings of music, separation plays tune with art. 
No one else can listen to these, but for the Lord or my heart. 

कबिरा खड़ा बजार में माँगे सब की खैर। 
ना काऊ सौं दोस्ती ना काऊ सौं बैर। 

Asking for everyone 's goodwill Kabir stands in the market still. 
He has friendship with no one  and with none  an ill will. 

चिड़ी चोंच भर ले गई, सरवर घट्यो न नीर।
दान दिए धन ना घटे, कह गए संत कबीर।
A little bird filled it's beak, pond' s water level didn't slid. 
With charity says saint 'Kabir', coffers retain their bid. 

गुरु गोविंद दोऊ खड़े, का के लागूँ पाय। 
बलिहारी गुरु आप की गोविंद दियो मिलाय। 

Teacher 'n Lord are standing in front, touch first which pair of feet. 
It's the grace of my great teacher, who made Almighty meet. 

तन का मनका डारि के मन का मनका फेर। 

Drop rosary of hand from hand. 
Take rosary of heart in hand. 

सतगुर मार्या बाण भरि, धरि करि सीधी मूठि। 
अंग उघाड़ै लागिया, गई दवा सूं फूटि। 

Teacher aimed flaming arrow, straight at my heart. 
Spirit got exposed, burning covers part by part. 

 राम नाम लै पटंतरै, देवे को कुछ नांहिं। 
क्या ले गुर संतोषिए, टौंस रही मन मांहिं

Teacher gave Ram's name in my coffer, what in exchange can I offer ? 
There's a strong desire in my heart, but nothing is worth the proffer. 

पीछै लागा जाइ था, लोक बेद के साथि । 
आगै थैं सतगुर मिल्या, दीपक दीया हाथि 

Following Vedic trend, I tread the path that was shown. 
Teacher gave lamp of knowledge, to search it on my own. 

दीपक दीया तेल भरि, बाती दई अघट्ट। 
पूरा किया दिसाहुणां, बहुरि न आवौं हट्ट। 

Lamp full of love oil 'n unending wick, with it did teacher part. 
All sales 'n purchases are made, won't re-enter world mart. 

भली भई जु गुर मिल्या, नहीं तर होती हांणि। 
दीपक दिष्टि पतंग ज्यूं, पड़ता पूरी जांणि। 

It was good that I met the teacher, or loss would have been so great. 
Could burn me like a moth in flame, worldly pleasures in their spate. 

निस अंधियारी कारणैं, चौरासी लख चंद। 
अगि आतुर ऊदै किया, तऊ दिष्टि नहिं मंद। 

Lacking light of knowledge, you suffered eighty four lacs of rebirths.
O fool ! Even in human life, you are still running after worldly mirths. 

प्रीत करो ऐसी करो जैसे करे कपास। 
जीते जी या तन ढके, मरे न छोड़े साथ

One should love like cotton, his lover. 
Apparel for alive, even when dead his cover. 







Saturday, 8 May 2021

GHAZAL.. KAIFI AZMI.. MEIN DHOONDHTA HUUN JISE...

मैं ढूँढता हूँ जिसे वो जहाँ नहीं मिलता।
नई ज़मीन नया आसमाँ नहीं मिलता।

The world I am searching, is not found. 
New earth and new sky are not found. 

  नई ज़मीन नया आसमाँ भी मिल जाए।
नए बशर का कहीं कुछ निशाँ नहीं मिलता।

Even if new earth and sky are there. 
New man, even in trace is not found. 

वो तेग़ मिल गई जिस से हुआ है क़त्ल मिरा। 
किसी के हाथ का उस पर निशाँ नहीं मिलता। 

The sword that's killed me is on show. 
But on it, a hand print is not found. 

वो मेरा गाँव है वो मेरे गाँव के चूल्हे। 
कि जिन में शोले तो शोले धुँआ नहीं मिलता। 

This is my village and it's ovens. 
Cinders aside, even smoke is not found. 

जो इक ख़ुदा नहीं मिलता तो इतना मातम क्यूँ। 
यहाँ तो कोई मिरा हम-ज़ुबाँ नहीं मिलता। 

If God isn't met with, why this gloom. 
One who speaks my language is not found. 

खड़ा हूँ कब से मैं चेहरों के एक जंगल में। तुम्हारे चेहरे का कुछ भी यहाँ नहीं मिलता। 

In a jungle of faces I stand since long. 
Here, any trace of your face is not found.