Sunday 17 December 2023

कौन दिल की ज़बाँ समझता है

कौन दिल की ज़बाँ समझता है
दिल मगर ये कहाँ समझता है
रसा चुग़ताई

Who can learn  language of heart? 
When 'll my heart know this art? 

नहीं जुड़ता ख़याल में भी ख़याल 
ख़्वाब में भी तो कोई ख़्वाब नहीं 
जौन एलिया 

No thought joins another one. 
Even dream mingles with none. 

जो एक लफ़्ज़ की ख़ुशबू न रख सका महफ़ूज़
मैं उस के हाथ में पूरी किताब क्या देता

Who didn't retain fragrance of a word.in hand. 
How to place an entire book in that hand? 

हस्ती ही अपनी क्या है ज़माने के सामने 
इक ख़्वाब हैं जहाँ में बिखर जाएँ हम तो क्या 
मुनीर नियाज़ी

What's my entity in this world? 
As a dream I'll scatter in the world. 

आख़िर को हँस पड़ेंगे किसी एक बात पर
रोना तमाम उम्र का बेकार जाएगा
ख़ुर्शीद रिज़्वी

Finally I 'll laugh sometime some day. 
Weeping life long' ll be wasted this way. 

ज़ख़्म और पेड़ ने इक साथ दुआ माँगी है
देखिए पहले यहाँ कौन हरा होता है
आबिद मलि

Wound and tree have prayed same day. 
Let's see which gets green first one day? 

तुम मेरे साथ हो ये सच तो नही है लेकिन 
मैं अगर झूठ न बोलूँ तोअकेला हो जाऊँ
*
It is true you aren't with me in a tie. 
I will be left alone without this lie. 

मैं हैराँ हूँ कि क्यों उस से हुई थी दोस्ती अपनी
मुझे कैसे गवारा हो गई थी दुश्मनी अपनी
एहसान दानिश

It surprises me how could he be my friend? 
How could I tolerate being my foe offhand? 

अपने होने का कुछ अह्सास न होने से हुआ
ख़ुद से मिलना मुझे इक शख्स के खोने से हुआ
मुसव्विर सब्जवारी

After losing the self could I realise.
On losing someone did I so realise. 

सब लोग जिधर वो हैं उधर देख रहे हैं 
हम चाहने वालों की नज़र देख रहे हैं 
दाग़ देहलवी

All are looking only her way. 
I know looks of all this way. 

ज़ीस्त से तंग हो ऐ दाग़ तो जीते क्यों हो
जान प्यारी भी नहीं जान से जाते भी नहीं
दाग़ 

O'Daagh:! If you are sick of life, why live? 
You neither like nor leave desire to survive. 

दिल दे तो इस मिज़ाज का परवरदिगार दे
जो रंज की घड़ी भी ख़ुशी से गुज़ार दे
दाग़ 
*
O Almighty! Give me a heart of the sort 
Who can pass even grief in joyous retort. 

रहा न दिल मे वो बेदर्द और दर्द रहा
मुक़ीम कोई हुआ है मक़ाम किस का था
दाग़ 

My heart was occupied not by him but pain. 
To be resident isn't one who lays it's claim

 बड़ा मज़ा हो जो महशर में हम करें शिकवा
वो मिन्नतों से कहें चुप रहो ख़ुदा के लिए
दाग़ 
*
What a pleasure if I lament on doomsday. 
"For God's sake", she'll plead, not to say. 

ग़ज़ब किया तेरे व'अदे पे एतबार किया
तमाम रात क़यामत का इंतजार किया 
दाग़

Amazing how did I believe in your vow?
Whole night I waited for the doom to tow. 

अयादत को मेरी आकर वो ये ताकीद करते हैं। 
तुझे हम मार डालेंगे नहीं तो जल्दी अच्छा हो
दाग़
*
She instructs coming to meet me sick. 
I 'll kill you if you don't get well quick. 

आशिक़ी से मिलेगा ऐ ज़ाहिद 
बंदगी से ख़ुदा नहीं मिलता
दाग़ 

O priest! Only with love, you' ll meet Lord. 
The prayer alone  would be of no accord. 


जिन को अपनी ख़बर नहीं अब तक
वो मेरे दिल का राज़ क्या जानें
दाग़ 

वक़्त मुझ पर दो कठिन गुज़रे हैं सारी उम्र में 
इक तेरे आने से पहले इक तेरे जाने के बाद 
दाग़

Only two times in life were so hard to pass. 
One before you came,then when out en mass 

ले चला जान मेरी रूठ के जाना तेरा 
ऐसे आने से तो बेहतर था न आना तेरा
दाग़ 

वो क़त्ल कर के मेरा हर किसी से पूछते हैं 
ये काम किस ने किया है ये काम किस का था
दाग़ 

ख़बर सुन कर मेरे मरने की वो बोले रक़ीबों से
ख़ुदा बख़्शे बहुत सी खूबियाँ थी मरने वाले में
दाग़ 

BASHIIR BADR.. COUPLETS

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो 
न जाने किस गली में ज़िंदगी की शाम हो जाए 

Let the glow of your memories be ever with me. 
Who knows, which lane, marks the eve' of life?  

इक समन्दर के प्यासे किनारे थे हम
अपना पैगाम लाती थी मौज-ए- रवाँ
आज दो रेल की पटरियों की तरह
साथ रहना है और बोलना तक नहीं 

We were thirsty ocean shore 
our message rode on waves that roar. 
Today we are like railway lines
that stay nearby but talk no more. 
 
न जी भर के देखा न कुछ बात की 
बड़ी आरज़ू थी मुलाक़ात की 

Neither saw you in full measure, 
nor talked with pleasure. 
I always had this desire, 
to meet you  entire. 
 
कुछ तो मजबूरियाँ रही होंगी 
यूँ कोई बेवफ़ा नहीं होता 

Some compulsions must have been on stake. 
No one can be disloyal, just for it's sake.  
 
ज़िंदगी तू ने मुझे क़ब्र से कम दी है ज़मीं 
पाँव फैलाऊँ तो दीवार में सर लगता है 

 O life you allotted me space, lesser than 
the grave, so small. 
When I stretch the legs, my head bangs against the wall. 
  
बड़े लोगों से मिलने में हमेशा फ़ासला रखना 
जहाँ दरिया समुंदर से मिला दरिया नहीं रहता

When you meet big persons in life,
 maintain some distance in strife. #
When a river meets with the sea, 
the river just ceases to be. 

दुश्मनी जम कर करो लेकिन ये गुंजाइश रहे 
जब कभी हम दोस्त हो जाएँ तो शर्मिंदा न हों 

Let enmity be on full scale,
 but let there be space to regale. #
 Later when we become friends,
 let there be no shameful ammends. 
 
मोहब्बतों में दिखावे की दोस्ती न मिला 
अगर गले नहीं मिलता तो हाथ भी न मिला 

 In love, don't mix friendship for show
 sake. 
If you can't embrace, let there be no handshake. 
 
यहाँ लिबास की क़ीमत है आदमी की नहीं
मुझे गिलास बड़े दे शराब कम कर दे 

What matters here is his get up and not the man. 
Reduce my drink measure, but serve in big can. 

मुसाफ़िर हैं हम भी मुसाफ़िर हो तुम भी 
किसी मोड़ पर फिर मुलाक़ात होगी 

You are also a traveller and so am I. 
Will meet again at a crossing on high. #
 
हर धड़कते पत्थर को लोग दिल समझते हैं 
उम्रें बीत जाती हैं दिल को दिल बनाने में 

 People think that every throbbing stone is
 a heart. 
It takes many lives to shape a heart as the heart. 
 
तुम मोहब्बत को खेल कहते हो 
हम ने बर्बाद ज़िंदगी कर ली 

 You say that love is just a game.
I 've ruined my life for the same. 
  
कोई हाथ भी न मिलाएगा जो गले मिलोगे तपाक से 
ये नए मिज़ाज का शहर है ज़रा फ़ासले से मिला करो 

None will even shake hand, 
if you embrace offhand. 
It's a city of new style,
 keep distance all the while. 
 
इतनी मिलती है मिरी ग़ज़लों से सूरत तेरी 
लोग तुझ को मिरा महबूब समझते होंगे 

My ghazals and your face resemble so much. 
People will be calling you my lover as such. 

ख़ुदा की इतनी बड़ी काएनात में मैं ने 
बस एक शख़्स को माँगा मुझे वही न मिला

In this world which is stretched so far and wide. 
I asked for one person, God couldn't provide. 

तुम मुझे छोड़ के जाओगे तो मर जाऊँगा 
यूँ करो जाने से पहले मुझे पागल कर दो 

 I will die, if you leave me and go. 
 Make me a lunatic before you go. 
 
हम तो कुछ देर हँस भी लेते हैं 
दिल हमेशा उदास रहता है 

Sometimes I smile,
 once in a while. 
But heart sublime,
 is sad all the time.  
 
सर झुकाओगे तो पत्थर देवता हो जाएगा 
इतना मत चाहो उसे वो बेवफ़ा हो जाएगा 

If you bow your head, 
stone 'll be God instead. 
Don't like him so much, 
he' ll be faithless as such. 
 
हसीं तो और हैं लेकिन कोई कहाँ तुझ सा 
जो दिल जलाए बहुत फिर भी दिलरुबा ही लगे 

 There are many a lovely cutie,
 but who can match you in beauty. 
One who sets the heart on fire, 
yet retains the longing desire. 
  
पत्थर मुझे कहता है मिरा चाहने वाला 
मैं मोम हूँ उस ने मुझे छू कर नहीं देखा 
 
One who loves me, calls me a stone. 
I am wax, he did not touch me alone. 
 
मैं जब सो जाऊँ इन आँखों पे अपने होंट रख देना 
यक़ीं आ जाएगा पलकों तले भी दिल धड़कता है 

When I sleep, O mate! On my eyes,keep your shapely lips 
A heart throbs under eyelashes, I' ll be sure, without tips. 

पत्थर के जिगर वालो ग़म में वो रवानी है 
ख़ुद राह बना लेगा बहता हुआ पानी है 

O stone hearted men!
 Grief has it's own flow then. 
Carves path of it's own, 
the flow of water is on.  
 
शोहरत की बुलंदी भी पल भर का तमाशा है 
जिस डाल पे बैठे हो वो टूट भी 
लोगlहिन्दी peak of fame is a moment's facade. 
 The branch you sit on, can break,delayed. 
  
 टूट जाते हैं एक घर बनाने में 
तुम तरस नहीं खाते बस्तियाँ जलाने में 

People get broken erecting a house to live in. 
Setting afire hutments, you don't hesitate within. 
 
इसी लिए तो यहाँ अब भी अजनबी हूँ मैं 
तमाम लोग फ़रिश्ते हैं आदमी हूँ मैं 

That's why I am still a strange one here. 
Every one is an angel, I am human here. 

तुम्हें ज़रूर कोई चाहतों से देखेगा 
मगर वो आँखें हमारी कहाँ से लाएगा 

Someone will watch you with fond ties. 
But wherefrom 'll he get my longing eyes? 
 
उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा में 
फिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते 

Let birds fly in wanton wind' n find. 
Childhood days! You can't rewind. 
   
वो चेहरा किताबी रहा सामने 
बड़ी ख़ूबसूरत पढ़ाई हुई 

That bookish face was before eyes. 
A beautiful study was there as prize. 

दुश्मनी का सफ़र इक क़दम दो क़दम 
तुम भी थक जाओगे हम भी थक जाएँगे 

Journey of enmity is a step or two. 
You will get tired and me too. 
 
सात संदूक़ों में भर कर दफ़्न कर दो नफ़रतें 
आज इंसाँ को मोहब्बत की ज़रूरत है बहुत 

Chain in seven boxes 'n bury hate deep. 
Today humans need only love to keep. 
 
घरों पे नाम थे नामों के साथ ओहदे थे 
बहुत तलाश किया कोई आदमी न मिला 

Houses were named, tagged with title as well
I searched a lot, didn't a get man in this spell. 
 
भूल शायद बहुत बड़ी कर ली 
दिल ने दुनिया से दोस्ती कर ली 

Probably I committed a very big mistake. 
Heart made friends with world for it's sake. 

भला हम मिले भी तो क्या मिले वही दूरियाँ वही फ़ासले 
न कभी हमारे क़दम बढ़े न कभी तुम्हारी झिजक गई 
 
  What if we have met, 
same distance in between is set. 
Neither a step I could proceed, 
nor your hesitation went indeed. 

 
अगर तलाश करूँ कोई मिल ही जाएगा 
मगर तुम्हारी तरह कौन मुझ को चाहेगा 

On search , me too would get someone 
But who will like me as you have done ? 
 
अगर फ़ुर्सत मिले पानी की तहरीरों को पढ़ लेना 
हर इक दरिया हज़ारों साल का अफ़्साना लिखता है 

If there is some time of leisure,
 read what's kept on water as treasure. 
Written on each  and everyone stream,
  thousand years tale is on froth cream. 

अभी राह में कई मोड़ हैं कोई आएगा कोई जाएगा 
तुम्हें जिस ने दिल से भुला दिया उसे भूलने की दुआ करो 

There are many turns on the way, 
someone 'll come, some move away. 
One who erased you from heart, 
pray to forget that one from start. 

ख़ुदा ऐसे एहसास का नाम है 
रहे सामने और दिखाई न दे

God is the name of a feeling as such. 
He confronts but can't be seen as such. 

मोहब्बत एक ख़ुशबू है हमेशा साथ चलती है 
कोई इंसान तन्हाई में भी तन्हा नहीं रहता 

Love is a fragrance, always moves with you. 
Even in solitude, no one is alone to pursue. 
 
न तुम होश में हो न हम होश में हैं 
चलो मय-कदे में वहीं बात होगी 

Neither you are in senses, nor am I. 
Let's go to tavern 'n talk on a high.  
 
कभी कभी तो छलक पड़ती हैं यूँही आँखें 
उदास होने का कोई सबब नहीं होता 

At times,the eyes just simply overflow. 
To be sad, it needs no reason, you know. 
 
आँखों में रहा दिल में उतर कर नहीं देखा 
कश्ती के मुसाफ़िर ने समुंदर नहीं देखा 

It stayed in the eyes, didn't step in heart. 
Boat traveller never saw wide ocean part. 
  
इसी शहर में कई साल से मिरे कुछ क़रीबी अज़ीज़ हैं 
उन्हें मेरी कोई ख़बर नहीं मुझे उन का कोई पता नहीं 

 For years in this town, 
are relatives close down. 
  They haven't known me, 
for me, they ceased to be. 
 
जी बहुत चाहता है सच बोलें 
क्या करें हौसला नहीं होता 

To speak only the truth , I want a lot. 
What to do, my courage isn't in that slot. 
 
अजीब शख़्स है नाराज़ हो के हँसता है 
मैं चाहता हूँ ख़फ़ा हो तो वो ख़फ़ा ही लगे 

 That man is so strange,
laughs in unpleasant range. 
I want him to look angry, 
when he is really angry. 
   
अजब चराग़ हूँ दिन रात जलता रहता हूँ 
मैं थक गया हूँ हवा से कहो बुझाए मुझे

I am a strange lamp in sight,
 keep burning day and night. 
Now I have got tired about ,
 ask the wind to put me out. 

आशिक़ी में बहुत ज़रूरी है 
बेवफ़ाई कभी कभी करना 

It's essential that in love sublime. 
To be faithless from time to time. 

कभी तो आसमाँ से चाँद उतरे जाम हो जाए 
तुम्हारे नाम की इक ख़ूब-सूरत शाम हो जाए 

Let moon step down from sky,
 be a wine cup for a high 
Let there be in  your name, 
a beautiful eve' in the game. 

बहुत दिनों से मिरे साथ थी मगर कल शाम 
मुझे पता चला वो कितनी ख़ूबसूरत है 

Since long we were together,
 but last eve' I could gather. 
Came to know for sure, 
how beautiful she is to allure. 
 
है अजीब शहर की ज़िंदगी न सफ़र रहा न क़याम है 
कहीं कारोबार सी दोपहर कहीं बद-मिज़ाज सी शाम है 

City life is so strange, 
no travel no goal in range. 
There is business like noon, 
a bad mood eve' so soon. 
 
दिल की बस्ती पुरानी दिल्ली है 
जो भी गुज़रा है उस ने लूटा है 

Like old Delhi is this city of heart. 
Each passer by plundered on his part. 
 
गुफ़्तुगू उन से रोज़ होती है 
मुद्दतों सामना नहीं होता 

 Daily we talk like a song. 
Didn't confront since long. 
  
एक औरत से वफ़ा करने का ये तोहफ़ा मिला 
जाने कितनी औरतों की बद-दुआएँ साथ हैं 

Being faithful to a woman I got this gift. 
Ill will from so many accompany in shift. 

महक रही है ज़मीं चाँदनी के फूलों से 
ख़ुदा किसी की मोहब्बत पे मुस्कुराया है 

Moonlight flowers impart fragrance to earth. 
God has smiled on someone ''s love with
 mirth. 
 
न उदास हो न मलाल कर, किसी बात का न ख़याल कर 
कई साल ब'अद मिले हैं हम, तेरे नाम आज की शाम है 

Don't feel sad, don't regret, 
don't think about anything as yet. 
We have met after many years, 
to your name is this eve, cheers! 
 
रोने वालों ने उठा रक्खा था घर सर पर मगर 
उम्र भर का जागने वाला पड़ा सोता रहा 

Those who were near cried, 
had house on head or tried. 
One who was awake life long, 
did not bother, slept strong. 
 
काग़ज़ में दब के मर गए कीड़े किताब के 
दीवाना बे-पढ़े-लिखे मशहूर हो गया 

The bookworms died,
 crushed by weight of papers, cried. 
Fanatic didn't read a line, 
got fame, well that was fine. 
 
मैं हर हाल में मुस्कुराता रहूँगा 
तुम्हारी मोहब्बत अगर साथ होगी 

I will keep smiling in every state. 
If your love is with me O mate ! 

हम भी दरिया हैं हमें अपना हुनर मालूम है 
जिस तरफ़ भी चल पड़ेंगे रास्ता हो जाएगा 

 I am a fast flowing river,
 know my skill to deliver. 
Any way that I move, 
'll pave path 'n prove. 
  
शबनम के आँसू फूल पर, ये तो वही क़िस्सा हुआ 
आँखें मिरी भीगी हुई, चेहरा तिरा उतरा हुआ 

On flower, there are dew tears,
 it's that tale O peers! 
My eyes are filled with mist,
 your face pulled down in twist. 

कभी मैं अपने हाथों की लकीरों से नहीं उलझा 
मुझे मालूम है क़िस्मत का लिक्खा भी बदलता है 

I have never struggled with lines of hand.. 
I know the fate changes and it's a trend. 
 
जिस दिन से चला हूँ मिरी मंज़िल पे नज़र है 
आँखों ने कभी मील का पत्थर नहीं देखा 

From the day i have moved, 
goal is well grooved. 
My eyes didn't see
mile stone, it's to be. 
 
उतर भी आओ कभी आसमाँ के ज़ीने से 
तुम्हें ख़ुदा ने हमारे लिए बनाया है 

Come downstairs,
 from the sky layers. 
Almighty has cast
you for me, at last. 
 
अच्छा तुम्हारे शहर का दस्तूर हो गया 
जिस को गले लगा लिया वो दूर हो गया 

This is a fine system of your town 
Whoever I embrace, goes out 'n down 
  
उस की आँखों को ग़ौर से देखो 
मंदिरों में चराग़ जलते हैं 

Carefully look at her eyes, you' ll find.
Within temple are shining lamps of a kind. 
 
उन्हीं रास्तों ने जिन पर कभी तुम थे साथ मेरे 
मुझे रोक रोक पूछा तिरा हम-सफ़र कहाँ है 

The tracks on which you had walked with me. 
Halted me to ask,  the cotraveller I can't see? 
  
मैं बोलता हूँ तो इल्ज़ाम है बग़ावत का 
मैं चुप रहूँ तो बड़ी बेबसी सी होती है 

There's a tag of rebellion if I speak. 
Being silent, I feel helpless , not at peak. 

चाँद सा मिस्रा अकेला है मिरे काग़ज़ पर 
छत पे आ जाओ मिरा शेर मुकम्मल कर दो 

A moon like sentence, stands on paper so alone. 
You come to terrace, complete couplet full blown. 
 
तुम्हारे साथ ये मौसम फ़रिश्तों जैसा है 
तुम्हारे बा'द ये मौसम बहुत सताएगा 

When you are with me, the weather has angelic tone. 
This weather will trouble me when you are gone. 

बहुत अजीब है ये क़ुर्बतों की दूरी भी 
वो मेरे साथ रहा और मुझे कभी न मिला 

This distance in nearness is very strange. 
He was with me but never met within range. 
 
कभी तो शाम ढले अपने घर गए होते 
किसी की आँख में रह कर सँवर गए होते 

Someday you should have gone home, when evening was over. 
You could stay in someone's eyes and get a caring blower. 
 
मैं चाहता हूँ कि तुम ही मुझे इजाज़त दो 
तुम्हारी तरह से कोई गले लगाए मुझे 

I wish that you permit me to do that much. 
Let someone embrace me like you as such. 
 
पहली बार नज़रों ने चाँद बोलते देखा 
हम जवाब क्या देते खो गए सवालों में 

 I could see moon talking for the first time. 
What to answer, I was lost in questions prime. 
  
ये एक पेड़ है आ इस से मिल के रो लें हम 
यहाँ से तेरे मिरे रास्ते बदलते हैं 

It's a tree, let us embrace it and weep. 
Our routes turn from here, for keep. 
 
तुम अभी शहर में क्या नए आए हो 
रुक गए राह में हादसा देख कर 

Are you new to this city my dear? 
You stopped at tragedy site, so near! 

तिरी आरज़ू तिरी जुस्तुजू में भटक रहा था गली गली 
मिरी दास्ताँ तिरी ज़ुल्फ़ है जो बिखर बिखर के सँवर गई 

I roamed from lane to lane,
 in your search 'n desire gain. 
My story is that of your tress, 
which scattered simply to redress. 
 
मैं तमाम दिन का थका हुआ तू तमाम शब का जगा हुआ 
ज़रा ठहर जा इसी मोड़ पर तेरे साथ शाम गुज़ार लूँ 

I am tired all day long,
you are. awake night long
On this crossing you just stay,
 'll spend eve' together our way. 

ख़ुदा हम को ऐसी ख़ुदाई न दे 
कि अपने सिवा कुछ दिखाई न दे 

 Let not the Lord
grant such an accord. 
That I can't see
anyone but me. 
  
मुख़ालिफ़त से मिरी शख़्सियत सँवरती है 
मैं दुश्मनों का बड़ा एहतिराम करता हूँ 

 Enmity groom's my identity to a shape. 
My enemies get respect without escape. 
 
रात का इंतिज़ार कौन करे 
आज कल दिन में क्या नहीं होता 

 Why should one bother to wait for fall ot night? 
These days, what isn't done in broad daylight? 
 
लहजा कि जैसे सुब्ह की ख़ुश्बू अज़ान दे 
जी चाहता है मैं तिरी आवाज़ चूम लूँ 
 
 Tone is like morn' fragrance on prayer call. 
My heart likes to kiss your voice after all. 
 
ख़ुदा की उस के गले में अजीब क़ुदरत है 
वो बोलता है तो इक रौशनी सी होती है 

God has given a strange nature in his voice. 
 There is a glow when he speaks, no choice. 
 
हम दिल्ली भी हो आए हैं लाहौर भी घूमे
ऐ यार मगर तेरी गली तेरी गली है 

 I have been to Delhi, roamed in Lahore as well. 
 O lover! But your lane casts so unique a spell. 
 
वो जिन के ज़िक्र से रगों में दौड़ती थीं बिजलियाँ 
उन्हीं का हाथ हम ने छू के देखा कितना सर्द है 

Whose mention sparked currents in my veins as such
Today her hand was found to be so cold to touch. 
 
मोहब्बत अदावत वफ़ा बे-रुख़ी 
किराए के घर थे बदलते रहे

Love, enmity, faith and neglect too much. 
Were rented flats, to be changed as such. 

सब लोग अपने अपने ख़ुदाओं को लाए थे 
इक हम ही ऐसे थे कि हमारा ख़ुदा न था 

All persons brought gods with them
I had no God to hold his hem. 
 
नए दौर के नए ख़्वाब हैं नए मौसमों के गुलाब हैं 
ये मोहब्बतों के चराग़ हैं इन्हें नफ़रतों की हवा न दे 

 These are new age dreams, 
new season roses, it seems. 
These are lamps of love domain , 
don't blow hate in this terrain. 
   
अजीब रात थी कल तुम भी आ के लौट गए 
जब आ गए थे तो पल भर ठहर गए होते 

Night was strange, you too came and  got back. 
When you came, could stay for a while in the shack. 
 
फिर याद बहुत आएगी ज़ुल्फ़ों की घनी शाम 
जब धूप में साया कोई सर पर न मिलेगा 

I will remember then, dense eve' of your tress laid. 
When over head from the sun,there will be no shade
 
इस शहर के बादल तिरी ज़ुल्फ़ों की तरह हैं 
ये आग लगाते हैं बुझाने नहीं आते 

 This city clouds are as your tress O spouse! 
These set afire,but do not care to douse. 
   
हक़ीक़तों में ज़माना बहुत गुज़ार चुके 
कोई कहानी सुनाओ बड़ा अँधेरा है 

Quite a life is spent
 in truths unbent. 
Let a tale uncork
 it is stark dark.. 
  
उस ने छू कर मुझे पत्थर से फिर इंसान किया 
मुद्दतों बअ'द मिरी आँखों में आँसू आए

She touched and turned me to man from stone. 
After so long, tears from my eyes have
 flown. 

मैं ने दिन रात ख़ुदा से ये दुआ माँगी थी 
कोई आहट न हो दर पर मिरे जब तू आए 

For night and day, 
from Him did I pray. 
 Not even a faint sound, 
when you are around. 
  
ये फूल मुझे कोई विरासत में मिले हैं 
तुम ने मिरा काँटों भरा बिस्तर नहीं देखा 

 Are these flowers my ancestral gift? 
You didn't see my bed thorns adrift. 
 
कितनी सच्चाई से मुझ से ज़िंदगी ने कह दिया 
तू नहीं मेरा तो कोई दूसरा हो जाएगा 

How truely life has said clearly to me. 
If you aren't mine, someone else 'll be
 
उदास आँखों से आँसू नहीं निकलते हैं 
ये मोतियों की तरह सीपियों में पलते हैं 

From sad eyes, a tear hardly ever twirls. 
Within oysters, these are groomed as pearls. 

दुआ करो कि ये पौदा सदा हरा ही लगे 
उदासियों में भी चेहरा खिला खिला ही लगे 

 Pray that this plant always looks green. 
Even if sad, the face retains it's sheen. 
  
यारो नए मौसम ने ये एहसान किए हैं 
अब याद मुझे दर्द पुराने नहीं आते 

New season has done a favour to me. 
Old griefs don't flash in my memory. 
 
मैं यूँ भी एहतियातन उस गली से कम गुज़रता हूँ 
कोई मासूम क्यूँ मेरे लिए बदनाम हो जाए 

 I cross her lane so rare, 
that too with care. 
Why should innocent bear
 my daring stare?
 
चराग़ों को आँखों में महफ़ूज़ रखना 
बड़ी दूर तक रात ही रात होगी 

Preserve in your eyes these lamps light. 
For so far, there will only be night. 
  
वो इत्र-दान सा लहजा मिरे बुज़ुर्गों का 
रची-बसी हुई उर्दू ज़बान की ख़ुश्बू 

 Like a cassolette, there's my ancestral accent. 
Fragrant Urdu language sunk deep in 
content. 

हम ने तो बाज़ार में दुनिया बेची और ख़रीदी है 
हम को क्या मालूम किसी को कैसे चाहा जाता है 

 I have sold and purchased world in mart. 
I know not how to love someone, that art ! 
 
मुझे मालूम है उस का ठिकाना फिर कहाँ होगा 
परिंदा आसमाँ छूने में जब नाकाम हो जाए 

I know it's destiny then, it's plight
When a bird fails to touch sky in flight. 
 
कई साल से कुछ ख़बर ही नहीं 
कहाँ दिन गुज़ारा कहाँ रात की 
 
  I know not about night and days dears. 
Where did I spend time all these years? 
 
वो बड़ा रहीम ओ करीम है मुझे ये सिफ़त भी अता करे 
तुझे भूलने की दुआ करूँ तो मिरी दुआ में असर न हो 

 So generous is my Lord,
 let Him this grace award. 
When to forget her, I pray
let it not affect that way. 
   
इक दीवार पे चाँद टिका था 
मैं ये समझा तुम बैठे हो 

Moon placed on a wall was in view 
I understood , just seated were you. 
 
अहबाब भी ग़ैरों की अदा सीख गए हैं 
आते हैं मगर दिल को दुखाने नहीं आते 

Friends have also learned rivals style. 
They come, not to hurt heart for a while. 
 
किसी ने चूम के आँखों को ये दुआ दी थी 
ज़मीन तेरी ख़ुदा मोतियों से नम कर दे 

Someone after a kiss
gave eyes that bliss. 
May the Lord wet
earth by pearly tear set. 
 
कभी यूँ भी आ मिरी आँख में कि मिरी नज़र को ख़बर न हो 
मुझे एक रात नवाज़ दे मगर इस के बाद सहर न हो 

Come this way in my eye
even my view cannot pry. 
Serve me just one night
with no morn' in sight.  
 
कई सितारों को मैं जानता हूँ बचपन से 
कहीं भी जाऊँ मिरे साथ साथ चलते हैं 

Since childhood days, I know many a star. 
These travel with me even while going far.  
 
नहीं है मेरे मुक़द्दर में रौशनी न सही 
ये खिड़की खोलो ज़रा सुब्ह की हवा ही लगे

Let it be so if no light is in fate. 
Open this window for breeze O mate! 

फिर से ख़ुदा बनाएगा कोई नया जहाँ 
दुनिया को यूँ मिटाएगी इक्कीसवीं सदी 

 God will shape a world of new sort. 
Twenty first century will it distort. 
  
ग़ज़लों का हुनर अपनी आँखों को सिखाएँगे 
रोएँगे बहुत लेकिन आँसू नहीं आएँगे 

 I will teach ghazal style to my eyes. 
No tear will appear even within cries.   
 
मुझ से क्या बात लिखानी है कि अब मेरे लिए 
कभी सोने कभी चाँदी के क़लम आते हैं 

What's it that for me is meant. 
To write golden, silver pens are sent. 
 
इजाज़त हो तो मैं इक झूट बोलूँ 
मुझे दुनिया से नफ़रत हो गई है 

If you just allow 
I'll tell lie somehow. 
I simply hate
world in this state. 
  
मुझे इश्तिहार सी लगती हैं ये मोहब्बतों की कहानियाँ 
जो कहा नहीं वो सुना करो जो सुना नहीं वो कहा करो 

 As banners to advertise 
is love tale enterprise. 
Listen what isn't said
say where ear hasn't lead. 

मैं जिस की आँख का आँसू था उस ने क़द्र न की 
बिखर गया हूँ तो अब रेत से उठाए मुझे 

I was tear of his eye 
didn't care that guy. 
I have dropped now 
from dust pick somehow. 
 
बे-वक़्त अगर जाऊँगा सब चौंक पड़ेंगे 
इक उम्र हुई दिन में कभी घर नहीं देखा 

My untimely arrival would disarm all. 
At day home didn't get my footfall. 
 
बिछी थीं हर तरफ़ आँखें ही आँखें 
कोई आँसू गिरा था याद होगा 

Eyes were there this way, that way. 
Recollect, some tear fell that day. 
 
नाम पानी पे लिखने से क्या फ़ाएदा 
लिखते लिखते तिरे हाथ थक जाएँगे 

Writing name on water is of no gain. 
Your hand will tire in this domain. 

मुद्दत से इक लड़की के रुख़्सार की धूप नहीं आई 
इस लिए मेरे कमरे में इतनी ठंडक रहती है 

Since long it hasn't got sun of a girl's cheek. 
That's why my room is bearing  cold streak. 
 
तहज़ीब के लिबास उतर जाएँगे जनाब 
डॉलर में यूँ नचाएगी इक्कीसवीं सदी 

 The gentle covers of culture will just unroll. 
  Dollars of twenty first century 'll take toll. 
 
हज़ारों शेर मेरे सो गए काग़ज़ की क़ब्रों में 
अजब माँ हूँ कोई बच्चा मिरा ज़िंदा नहीं रहता 

Thousands of my couplets have got a papery grave
I am a mother whose children aren't worth a save. 
 
बहुत दिनों से है दिल अपना ख़ाली ख़ाली सा 
ख़ुशी नहीं तो उदासी से भर गए होते 

  Since long my heart is-an empty lot. 
If not pleasure, then grief could trot. 
 
वो शख़्स जिस को दिल ओ जाँ से बढ़ के चाहा था 
बिछड़ गया तो ब-ज़ाहिर कोई मलाल नहीं 

One whom I liked more than body and heart. 
There was no gesture of lament, on his depart
 
मंदिर गए मस्जिद गए पीरों फ़क़ीरों से मिले 
इक उस को पाने के लिए क्या क्या किया क्या क्या हुआ 

 I visited temple, mosque, met saints of hue. 
To acquire him, did everything that was due. 
  
प्यार ही प्यार है सब लोग बराबर हैं यहाँ 
मय-कदे में कोई छोटा न बड़ा जाम उठा

None is big or small  here, love is around. 
In tavern, all are equal, pick cup frm ground. 

मान मौसम का कहा छाई घटा जाम उठा 
आग से आग बुझा फूल खिला जाम उठा 

 Listen to the weather, pick cup, clouds are dark
  Douse fire with fire, drink  for the flower in park. 
 
हाथ में चाँद जहाँ आया मुक़द्दर चमका 
सब बदल जाएगा क़िस्मत का लिखा जाम उठा 

With moon in hand, your fate will glow. 
 Fate lines will change with one drink blow. 
  
ये परिंदे भी खेतों के मज़दूर हैं 
लौट के अपने घर शाम तक जाएँगे 

 These birds are also workers in field. 
At evening, get back to nest shield. 
   
तुम्हारे घर के सभी रास्तों को काट गई 
हमारे हाथ में कोई लकीर ऐसी थी 

 It cut through all routes of your home. 
One line of hand was hard as stone. 
 
इक शाम के साए तले बैठे रहे वो देर तक 
आँखों से की बातें बहुत मुँह से कहा कुछ भी नहीं 

 Under shade of eve', they had sat for long. 
Eyes had much to say, lips kept mum strong. 
  
मेरी आँख के तारे अब न देख पाओगे 
रात के मुसाफ़िर थे खो गए उजालों में 

The stars of my eyes, you won't now find. 
  Were travellers of night, in light go blind. 
 
यहाँ एक बच्चे के ख़ून से जो लिखा हुआ है उसे पढ़ें 
तिरा कीर्तन अभी पाप है अभी मेरा सज्दा हराम है 

Written with child blood  just read with care. 
Our prayers are still sins, even if we dare. 

उसे पाक नज़रों से चूमना भी इबादतों में शुमार है 
कोई फूल लाख क़रीब हो कभी मैं ने उस को छुआ नहीं 

 Kissing it with poius glance
Is a prayer of substance. 
However near may flower be. 
I haven't touched it per se. 
  
वो इंतिज़ार की चौखट पे सो गया होगा 
किसी से वक़्त तो पूछें कि क्या बजा होगा 

He might have slept waiting on frame. 
What's the time, let's know and name. 
 
मिरे साथ चलने वाले तुझे क्या मिला सफ़र में 
वही दुख-भरी ज़मीं है वही ग़म का आसमाँ है 

 Travelling with me what did you get ? 
Same sad earth, grief struck sky yet. 
  
दादा बड़े भोले थे सब से यही कहते थे 
कुछ ज़हर भी होता है अंग्रेज़ी दवाओं में 

 Grandpa would simply complain
to each man probably in vain. 
A little poison is there
in English drugs somewhere. 
  
न जाने कब तिरे दिल पर नई सी दस्तक हो 
मकान ख़ाली हुआ है तो कोई आएगा 

None knows when a fresh knock will be there
House is now vacant, sometimes will be there
 
 
गले में उस के ख़ुदा की अजीब बरकत है 
वो बोलता है तो इक रौशनी सी होती है 

 In his throat here's a strange divine craft. 
When he speaks there is a luminous shaft. 
 
वो अब वहाँ है जहाँ रास्ते नहीं जाते 
मैं जिस के साथ यहाँ पिछले साल आया था 

Now he is where there's no way ahead. 
Last year I came here with her to tread. 
 
हँसो आज इतना कि इस शोर में 
सदा सिसकियों की सुनाई न दे 

 Today, laugh so loud that in the den. 
Sounds of sobs one can not listen. 
  
दिन में परियों की कोई कहानी न सुन 
जंगलों में मुसाफ़िर भटक जाएँगे 

Don't listen to fairy tales during day. 
Passengers in jungles 'll get astray. 
 
लोबान में चिंगारी जैसे कोई रख जाए 
यूँ याद तिरी शब भर सीने में सुलगती है 

As if someone puts  in incense an ember prong. 
Your memory keeps burning in chest night long. 

कोई बादल हो तो थम जाए मगर अश्क मिरे 
एक रफ़्तार से दिन रात बराबर बरसे 

Had there been clouds would stop but my tears. 
Kept showers day 'n nght without changing gears. 
 
कोई फूल सा हाथ काँधे पे था 
मिरे पाँव शो'लों पे जलते रहे 

On shoulder was a flowery hand. 
On embers, feet kept moving trend. 
  
मुझे लगता है दिल खिंच कर चला आता है हाथों पर 
तुझे लिक्खूँ तो मेरी उँगलियाँ ऐसी धड़कती हैं 

 Heart comes on to hand that moves it appears. 
While writing to you, fingers throb, mind stears. 
 
फूल बरसे कहीं शबनम कहीं गौहर बरसे 
और इस दिल की तरफ़ बरसे तो पत्थर बरसे 

Flowers, dew, hailed  some precious stones 
Towards this heart hailed some simple stones
 
जिस पर हमारी आँख ने मोती बिछाए रात भर 
भेजा वही काग़ज़ उसे हम ने लिखा कुछ भी नहीं 

My eyes had spread pearls all through night. 
I sent her that page writing nothing for sight. 
 
मेरा शैतान मर गया शायद 
मेरे सीने पे सो रहा है कोई 

 My satan has probably died one piece. 
 On my chest she is sleeping in peace. 
 
ये शबनमी लहजा है आहिस्ता ग़ज़ल पढ़ना 
तितली की कहानी है फूलों की ज़बानी है 

Recite ghazal slowly in a dewy style
It's a butterfly story in a flowery guile. 
 
वो माथा का मतला हो कि होंठों के दो मिसरे 
बचपन से ग़ज़ल ही मेरी महबूबा रही है 

Whether forehead precinct or lips as a couplet 
All through the ghazal was my beloved 
. asset. 
 
मैं तमाम तारे उठा उठा के ग़रीब लोगों में बाँट दूँ 
वो जो एक रात को आसमाँ का निज़ाम दे मिरे हाथ में

हयात आज भी कनीज़ है हुज़ूर-ए-जब्र में 

जो ज़िंदगी को जीत ले वो ज़िंदगी का मर्द है 

टैग: ज़िंदगी
 
  
 
ये ज़ाफ़रानी पुलओवर उसी का हिस्सा है 

कोई जो दूसरा पहने तो दूसरा ही लगे 

टैग: फ़ेमस शायरी
 
  
 
महलों में हम ने कितने सितारे सजा दिए 
लेकिन ज़मीं से चाँद बहुत दूर हो गया 

 We have set stars for palaces to glow. 
But moon and earth got distant in show. 
  
 
पहचान अपनी हम ने मिटाई है इस तरह 

बच्चों में कोई बात हमारी न आएगी 

 
  
 
दिल उजड़ी हुई एक सराए की तरह है 
अब लोग यहाँ रात जगाने नहीं आते 

Heart is like a ruined down in. 
People don't spend night within. 
 
  
 कमरे वीराँ आँगन ख़ाली फिर ये कैसी आवाज़ें 

शायद मेरे दिल की धड़कन चुनी है इन दीवारों में 

टैग: दिल
 
 
 
पीछे पीछे रात थी तारों का इक लश्कर लिए 

रेल की पटरी पे सूरज चल रहा था रात को 

 
  
 
जिस को देखो मिरे माथे की तरफ़ देखता है 

दर्द होता है कहाँ और कहाँ रौशन है 

 
 
 
फूलों में ग़ज़ल रखना ये रात की रानी है 

इस में तिरी ज़ुल्फ़ों की बे-रब्त कहानी है 

 
  
 
ग़ज़लों ने वहीं ज़ुल्फ़ों के फैला दिए साए 

जिन राहों पे देखा है बहुत धूप कड़ी है 

 
 
 
यूँ तरस खा के न पूछो अहवाल 

तीर सीने पे लगा हो जैसे 

टैग: तीर
 
  
 
सुनाते हैं मुझे ख़्वाबों की दास्ताँ अक्सर 

कहानियों के पुर-असरार लब तुम्हारी तरह 

 
  
 
गुलाबों की तरह शबनम में अपना दिल भिगोतें हैं 

मोहब्बत करने वाले ख़ूबसूरत लोग होते हैं 

टैग: मोहब्बत


मैं चुप रहा तो और ग़लत-फ़हमियाँ बढ़ीं 

वो भी सुना है उस ने जो मैं ने कहा नहीं 

 
  
 
सुना के कोई कहानी हमें सुलाती थी 

दुआओं जैसी बड़े पान-दान की ख़ुशबू 

टैग: पान
 
  
 
सोचा नहीं अच्छा-बुरा देखा-सुना कुछ भी नहीं 

माँगा ख़ुदा से रात-दिन तेरे सिवा कुछ भी नहीं 

 
 
 
इक 'मीर' था सो आज भी काग़ज़ में क़ैद है 

हिन्दी ग़ज़ल का दूसरा अवतार मैं ही हूँ 

टैग: मीर तक़ी मीर
 
 
 
RECITATION

अच्छे अश'आर

उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है
- मिर्ज़ा ग़ालिब
*
A glimpse of her, showers glow on my face. 
She thinks the patient is getting well, on pace.

पा-ब-गिल सब हैं रिहाई की करे तदबीर कौन 
दस्त-बस्ता शहर में खोले मिरी ज़ंजीर कौन 
परवीन शाकिर 
*
All feet are stuck in mud, who can try to 
cut the bands? 
Who will open my chains in this city with
 folded hands? 

यूँ लगे दोस्त तेरा मुझसे ख़फ़ा हो जाना 
जिस तरह फूल से ख़ुशबू का जुदा हो जाना
क़तील शफ़ाई

When you get annoyed, to me it appears. 
As fragrance from the flower disappears. 

निजात हो गई नासेह से उम्र भर के लिए 
उसी को भेज दिया यार की ख़बर के लिए 
जलाल 

I am relieved from the preacher for life. 
He was sent in pursuit to her lane for life. 

हमने देखी है उन आँखों की महकती ख़ुशबू 
हाथ से छू के इसे रिश्तों का इल्ज़ाम न दो
सिर्फ़ अह्सास है ये रूह से महसूस करो
प्यार को प्यार ही रहने दो कोई नाम न दो
गुलज़ार 
*
Don't defile by touch something so sublime as love. 
Just feel it by soul, let love remain unalloyed love. 

मैं उस के बदन की मुक़द्दस किताब
निहायत अक़ीदत से पढ़ता रहा
मोहम्मद अल्वी
*
I kept reading by reverent look. 
Her lovely body as a pious book. 

तू ही शाहिद-ओ-अमीं है मेरी पाक ख़िलवतों का
सर-ए-शाम आने वाले सर-ए-सुब्ह जाने वाले 

To my undefiled attitude, you are the sole witness. 
Who stay at  night without a wrinkle in soul 
or dress. 

शोरिश-ए-इश्क़ में है हुस्न बराबर का शरीक
सोच कर जुर्म-ए-तमन्ना की सज़ा दो हम को
अहसान दानिश

In this tumult of love, equal culprit is beauty. 
Punish with care, it's desire of criminal duty. 

मुझे ज़िंदगी की दुआ देने वाले 
हँसी आ रही है तेरी सादगी पर
गोपाल मित्तल
*
Praying for my life 'n that too far. 
I just laugh how simple you are! 

 अब तो कुछ भी याद नहीं है 
हम ने तुम को चाहा होगा
मज़हर इमाम

It is not even in memory now. 
I must have liked you somehow. 

झूट बोला है तो क़ायम भी रहो उस पर' ज़फ़र'
आदमी को साहिब-ए-किरदार होना चाहिए 
ज़फ़र इक़बाल 

If a lie is told, stick to it man. 
Be true to the self, if you can. 

वो हवा दे रहे हैं दामन की 
हाय! किस वक़्त नींद आई है
शकील बदायूनी
*
She is swaying her hem for air. 
A sleep at this time! Is it fair? 

मैं नज़र से पी रहा था तो ये दिल ने बद-दुआ दी 
तिरा हाथ ज़िंदगी भर कभी जाम तक न पहुँचे
शकील बदायूनी

I was drinking through the eyes 
 heart cursed in between sighs. 
Let your hand never hold a glass
it's for the drink of any class. 

इक़रार में कहाँ है इंकार की सी ख़ूबी
होता है शौक़ ग़ालिब उस की नहीं नहीं पर
मीर तक़ी मीर 
*
How can a yes be as joyous as no? 
One yearns more when she says no. 

साहिल के सुकूँ से किसे इंकार है लेकिन 
तूफ़ान से लड़ने का मज़ा और ही कुछ है
आल-एअहमद सुरूर
*
Who doesn't like the peace of shore  zone
But fighting storm is a charm of it's own. 

नज़र में ढल के उभरते हैं दिल के अफ़साने 
ये और बात है दुनिया नज़र न पहचाने
सूफ़ी तबस्सुम

  Shaped in looks, surface tales of heart. 
World may not recognize works of art. 

हँस के फरमाते हैं वो देख के हालत मेरी
क्यूँ तुम आसान समझते थे मोहब्बत मेरी
अमीर मीनाई 

She says with a smile,
 looking at me all the while. 
Why then did you think
my love was easy as blink? 

तुम्हारे पास हूँ लेकिन जो दूरी है समझता हूँ
तुम्हारे बिन मेरी हस्ती अधूरी है समझता हूँ
तुम्हें मैं भूल जाऊँगा ये मुमकिन है नहीं लेकिन 
तुम्हीं को भूलना सबसे ज़रूरी है समझता हूँ
कुमार विश्वास 

I am near you but so far, I understand. 
My entity sans you is a part I understand. 
To forget you, isn't possible and I know it
To forget you is urgent and I understand. 

जब से तूने मुझे दीवाना बना रक्खा है
संग हर शख़्स ने हाथों में उठा रक्खा है
हकीम नासिर 

 The time since you have made me mad 
Is when a stone each hand securely had. 

जैसे दो मुल्कों को इक सरहद अलग करती हुई 
वक़्त ने ख़त ऐसा खींचा  मेरे उस के दरमियाँ 
मोहसिन ज़ैदी 
*
As a boundary keeps two nations apart. 
Time drew a line between us from start. 

पूछा जो उन से चाँद निकलता है किस तरह
जुल्फों को रुख़ पे डाल के झटका दिया कि यूँ
*
When asked how does moon appear in sky? 
Tossed the tress on face, then jerked it high. 

इन अंधेरों से ही सूरज कभी निकलेगा ज़रूर 
रात के साए ज़रा और निखर जाने दे
नज़ीर बाक़री

Sometime from this dark shall steer sun. 
Let the shadows of night glisten with fun. 

जागता हूँ मैं एक अकेला दुनिया सोती है
कितनी वहशत हिज्र की लम्बी रात में होती है 

Alone am I awake while the world is asleep. 
How savage is parting night long and deep? 

फ़ासला रख कर भी क्या हासिल हुआ 
आज भी उस का ही कहलाता हूँ मैं 

Keeping distance was of no use. 
, I am still called for her use. 

ये हुस्न - ओ-इश्क में क्या रब्त है ख़ुदा जाने
चराग़-ए-बज़्म को लौ दे रहे हैं परवाने
मेहदी शैख़पुरवी
*
God knows about contact between love 'n beauty.. 
Adding spark to flame looks like a moth' s duty. 

अगर तू इत्तिफ़ाक़न मिल भी जाए
तेरी फ़ुरक़त के सदमे कम न होंगे

Even if by chance we meet here. 
Grief of departure would be there. 

जब भी तन्हाई में घबरा के सिमट जाते है 
हम तेरी याद के दामन से लिपट जाते हैं 
*
Whenever I tremble 'n in solitode squeeze 
I embrace hem of your memory with ease. 

उन पे तूफ़ाँ को भी अफ़सोस हुआ करता है
वो सफ़ीने जो किनारे पे उलट जाते हैं 
*
Even the storm feels sorry for these. 
Ships that capsize at bank with ease. 

हम तो आए थे रह-ए-शौक में फूलों की तरह
तुम अगर ख़ार समझते हो तो हट जाते हैं 

I had come as flowers on a joyous route. 
If you  think I am thorn, wiill go with breeze. 

है इख़्तियार में तेरे तो मोजज़ा कर दे
जो शख़्स मेरा नहीं हे उसे मिला कर दे
राणा सहरी

 Let a miracle be there, if you can. 
One who isn't mine, be in my span. 

ये रेगज़ार कहीं ख़त्म ही नहीं होता
ज़रा सी दूर तो रस्ता हरा भरा कर दे

This thorny way is limitless to me. 
For a short while let greenery span

यैं उस के ज़ोर को देखूँ वो मेरा सब्र-ओ-सुकूँ
मुझे चराग़ बना दे उसे हवा कर दे

Let me test his might, he my patience. 
Let me be a lamp he be wind if you can. 

अकेली शाम बहुत ही उदास करती है 
किसी को भेज कोई मेरा हमनवा कर दे

A forlorn eve' brings sadness on fore. 
Send someone to be a companion man. 

दामन-ए-यार से जा लिपटे हमारे आँसू 
गिर के इस तरह सम्भलते हैं संभलने वाले 
*
 My tears got lost in beloved's hem. 
"How to rise after a fall?" , it's for them. 

आईने के तो मुँह मैं ज़बाँ ही नहीं 
वर्ना बेसाख्ता उन से कहता यही
देखिए टूट जाएँगी दिल की रगें
आप यूँ लें न भरपूर अँगड़ाइयाँ
*
The mirror just can not speak
or it 'd be rude' n cry on  peak. 
Don't twist torso and provoke
to collapse one with heart stroke. 

तुमको देखा तो ये ख़याल आया 
ज़िंदगी धूप तुम घना साया 
 जावेद अख्तर 
*
Seeing you thoughts have played. 
Life is sun, you are dense shade. 

आज फिर दिल ने इक तमन्ना की
आज फिर दिल को हम ने समझाया 

Today heart had a new desire. 
A fresh suggestion I made. 

तुम चले जाओगे तो सोचेंगे 
हम ने क्या खोया हम ने क्या पाया 

After you leave, I will think
What have I lost, what's made? 

 हम जिसे गुनगुना नहीं सकते
वक़्त ने ऐसा गीत क्यूँ गाया

A tune, I can't even hum
Why has time just played? 

अब अगर आओ तो जाने के लिए मत आना
सिर्फ अहसान जताने के लिए मत आना

If you come now, don't come to be gone. 
Do not come to show ubligation alone. 

हर मुलाक़ात का अंजाम जुदाई क्यूँ है
अब तो हर वक़्त यही बात सताती है मुझे 

Why should very meeting in departure end? 
This is what to me does always offend. 

मौत का एक दिन मुअय्यन है
नींद क्यूँ रात भर नहीं आती? 
ग़ालिब 

A fixed date for death is made. 
Why does night sleep evade? 

हर तरफ़ हर जगह बेशुमार आदमी 
फिर भी तन्हाइयों का शिकार आदमी 
*
All around countless men abound. 
Yet loneliness continues to hound. 

मयखाने की बात न कर वाइज़ हम से
आना जाता तेरा भी है मेरा भी

Don't talk about tavern O priest! 
You and me too go there at least

 वक़्त में साथ ख़यालात बदल जाते हैं 
ये हक़ीक़त हैं मगर मुझ को सुनाता क्यूँ है? 

It's a true that thoughts change with time. 
Though it's a fact, but why make it chime? 

ख़ुदा की इतनी बड़ी कायनात में मैंने 
बस एक शख़्स को चाहा मुझे वही न मिला
बशीर बद्र 

In this vast expanse of the Lord. 
I asked for one. He didn't accord. 

भला हम मिले भी तो क्या मिले वही दूरियाँ वही फ़ासले
न कभी हमारे क़दम बढ़े न कभी तुम्हारी झिझक गई 
बशीर बद्र 
*
What if we have met
distance is still set. 
My step is within grill
and you hesitate still. 

मोहब्बत की तो कोई हद कोई सरहद नहीं होती 
हमारे दरमियाँ ये फ़ासले कैसे निकल आए? 
ख़ालिद मोइन

There exists no boundary or limit in love. 
Did distance in between grow from above? 

उसे ख़बर है कि अंजाम-ए-वस्ल क्या होगा 
वो क़ुर्बतों की तपिश फ़ासलों में रखती है
ख़ालिद यूसुफ़ 

She knows very well what 'll be fate of love? 
 Keeps heat of nearness as distance above. 

क़रीब आओ तो शायद समझ में आ जाए
ये फ़ासले तो ग़लत-फ़हमियाँ बढ़ाते हैं 
मुज़फ़्फ़र रज़्मी

You may understand by coming a little near. 
Distance breeds misunderstandings O dear. 

ज़ेहन-ओ-दिल के फ़ासले थे हम जिन्हें सहते रहे
एक ही घर में बहुत से अजनबी रहते रहे
इफ़्फ़त ज़र्रीं
*
Distance of mind 'n heart
 is what has kept us apart. 
Within confines of a home
so many strangers roam. 

दूरी हुई तो उस के क़रीं और हम हुए 
ये कैसे फ़ासले थे कि दूरी से कम हुए
अज्ञात 

We' ve developed kinship as distance departs. 
What a distance was it that drew nearer hearts. 

तुम ने बदले हम से गिन गिन के लिए 
क्या तुम्हें चाहा था इस दिन के लिए? 
*
Your revenge in counts dismay. 
Did I love you for this day? 

वस्ल का दिन और इतना मुख़्तसर
दिन गिने जाते थे जिस दिन के लिए 

Day of meeting is so short. 
Days were counted for the day. 

बाग़बाँ कलियाँ हों हल्के रंग की
भेजनी हैं एक कमसिन के लिए 

Choose light color buds O gardner. 
For a dame with youth in sway. 

ज़िंदगी और मौत का मतलब
तुम को पाना है तुम को खोना है

Meaning of life and death too. 
Is to get you or lose you ! 

दामन पे कोई छींट न ख़ंजर पे कोई दाग़ 
तुम क़त्ल करो हो कि करामात करो हो? 
कलीम अज़ीज़
*
There isn't a drop on hem 'n the dagger is clear. 
Do you murder or perform miracles O dear? 

कहते हैं उम्र-ए-रफ़्ता कभी लौटती नहीं 
जा मयकदे से मेरी जवानी उठा के ला
अब्दुल हमीद अदम 
*
It's said, "bygone age never comes back." 
Go to the tavern, bring my youth pack. 

वैसे तो इक आँसू ही बहा कर मुझे ले जाए
ऐसे कोई तूफ़ान हिला भी नहीं सकता 
वसीम बरेलवी 

Even one tear can sweep me away. 
A storm can not displace anyway. 

इतनी पी जाए कि मिट जाए मैं और तू की तमीज़
यानी ये होश की दीवार गिरा दी जाए
फ़रहत शहज़ाद
*
Drink so much that 'I' and 'you' are gone. 
It means wall of senses is overthrown. 

अब तो उस के बारे में तुम चाहे जो कह डालो
वो अंगड़ाई मेरे कमरे तक तो बहुत रूहानी थी
जौन एलिया 
*
Now anyway you may pen it, anyway you may sketch. 
Within confines of my room, spiritual was her stretch. 

ले दे के अपने पास फ़क़त इक नज़र तो है
क्यूँ देखें ज़िंदगी को किसी की नज़र से हम
साहिर लुधियानवी 

Only one view is there with me after all. 
To watch life, why other's vision install? 

कोशिश भी कर उमीद भी रख रास्ता भी चुन
फिर इस के ब'अद थोड़ा मुक़द्दर तलाश कर 
निदा फ़ाज़ली 
*
Keep trying and have hope 
choose a way you can cope. 
It's only then O mate! 
search for a little fate. 

औरों की बुराई को न देखूँ वो नज़र दे
हाँ अपनी बुराई को परखने का हुनर दे
ख़लील तनवीर 

Give me that eye not to see
other's evil whatever it be. 
Well, also attribute that skill
to keep prying my evil still. 

तेरे आने की क्या उम्मीद मगर
कैसे कह दूँ कि इंतज़ार नहीं 
फ़िराक़ गोरखपुरी 
*
What's the hope you' ll come anyway?
But how to say," I don't wait every day. "

अपने चेहरे से जो ज़ाहिर है छुपाएँ कैसे 
तेरी मर्ज़ी के मुताबिक़ नज़र आएँ कैसे 
वसीम बरेलवी 

How to conceal what's evident from face? 
How to appear what you like at that place? 

तंग आ के ज़िंदगी के ग़म-ए-ला-ज़वाल से
हम रो दिए लिपट के तुम्हारे ख़याल से 
*
Troubled with eternal grief of life, unable 
to face. 
I wept with your thoughts held in a tight embrace. 

हज़ारों काम मोहब्बत में हैं मज़े के 'दाग़'
जो लोग कुछ नहीं करते कमाल करते हैं
- दाग़ देहलवी 

O 'Daagh'! Many jobs in love are matters of pleasure. 
Those persons who do nothing, are worth a treasure. 

राह-ए-दूर-ए-इश्क़ में रोता है क्या
आगे आगे देखिए होता है क्या
- मीर तक़ी मीर 
*
Why do you cry if  goal of love is far away? 
Just see what's going to befall on the way? 

हर धड़कते पत्थर को लोग दिल समझते हैं
उम्रें बीत जाती हैं दिल को दिल बनाने में
- बशीर बद्र 
*
People think that each throbbing stone is a heart. 
Many lives are spent  shaping a heart into heart. 

जहाँ रहेगा वहीं रौशनी लुटाएगा
किसी चराग़ का अपना मकाँ नहीं होता
- वसीम बरेलवी 
*
Stay where it might ,
 it 'll scatter light. 
No lamp can own,
 a home of it's own. 

ग़म और ख़ुशी में फ़र्क़ न महसूस हो जहाँ
मैं दिल को उस मक़ाम पे लाता चला गया
- साहिर लुधियानवी 
*
Where no difference is felt between pleasure and pain. 
I have been bringing my heart  on such a terrain. 

ऐ सनम वस्ल की तदबीरों से क्या होता है
वही होता है जो मंज़ूर-ए-ख़ुदा होता है
- मिर्ज़ा रज़ा बर्क़

O beloved! What can change with our efforts of love? 
That happens, what's destined by Him, sitting above. 

ख़ंजर चले किसी पे तड़पते हैं हम 'अमीर'
सारे जहाँ का दर्द हमारे जिगर में है
- अमीर मीनाई 

O 'Ameer'! I am to suffer,
 whoever is hurt by dagger. 
Bearing hurt is my heart
 of the world on it's part. 

ये जब्र भी देखा है तारीख़ की नज़रों ने
लम्हों ने ख़ता की थी सदियों ने सज़ा पाई
- मुज़फ़्फ़र रज़्मी
*
The history has witnessed a torture of that grade,that's it
Centuries suffered for a mistake, moments did commit. 

चुपके चुपके रात दिन आँसू बहाना याद है
हम को अब तक आशिक़ी का वो ज़माना याद है
- हसरत मोहानी  

I remember shedding tears day and night. 
That period of love is in memory,so bright. 

हम आह भी करते हैं तो हो जाते हैं बदनाम
वो क़त्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होता
- अकबर इलाहाबादी 
*
Even for a sigh, we get a bad name. 
They murder 'n yet none lays a blame. 

सितारों से आगे जहाँ और भी हैं
अभी इश्क़ के इम्तिहाँ और भी हैं
- अल्लामा इक़बाल  
*
There are many worlds,beyond stars far away. 
Many tests are to be cleared by love, on it's way. 

दफ़्न कर सकता हूँ सीने में तुम्हारे राज़ को
और तुम चाहो तो अफ़्साना बना सकता हूँ मैं
- मजाज़ लखनवी 
*
I can entomb your secret, within my own heart. 
If you like, I can shape it as a story of some sort.

अब के हम बिछड़े तो शायद कभी ख़्वाबों में मिलें
जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलें
- अहमद फ़राज़ 
*
We may only meet in dreams, if departed
 now. 
As dried out flowers, found in books, somehow. 

तुम पूछो और मैं न बताऊँ ऐसे तो हालात नहीं
एक ज़रा सा दिल टूटा है और तो कोई बात नहीं
- क़तील शिफ़ाई 

You enquire 'n I don't tell, such is not the state. 
My heart is a little shattered, nothing else
 O mate! 

इंसाँ की ख़्वाहिशों की कोई इंतिहा नहीं
दो गज़ ज़मीं भी चाहिए दो गज़ कफ़न के बाद
- कैफ़ी आज़मी 
*
There is simply no limit, for the desire of human awards. 
Two yards of land is needed, with a shroud
 of two yards. 

भूले हैं रफ़्ता रफ़्ता उन्हें मुद्दतों में हम
क़िस्तों में ख़ुद-कुशी का मज़ा हम से पूछिए
- ख़ुमार बाराबंकवी 

I could forget her after so long, at such slow pace, was the task. 
It was a pleasure of suicide, committed in instalments, if you ask. 

ये इश्क़ नहीं आसाँ इतना ही समझ लीजे
इक आग का दरिया है और डूब के जाना है
- जिगर मुरादाबादी 
*
Love is not so easy, just understand this little fact. 
It is a river on fire, you have to drown 'n cross intact. 

बहुत नज़दीक आती जा रही हो
बिछड़ने का इरादा कर लिया क्या 
- जौन एलिया 
*
You are coming far too near ! 
Have you planned to part O dear? 

हर आदमी में होते हैं दस बीस आदमी. 
जिस को भी देखना हो कई बार देखना
- निदा फ़ाज़ली 
*
There are tens of men, within every man. 
Must watch many times, whoever you scan. 

ख़िदमत-ए-गश्त बगूलों को तो दी सहरा ने
मैं भी बेकार हूँ मुझ को भी कोई काम बता 
मुज़तर ख़ैराबादी

Desert granted norms
to rise as sand storms. 
I am in need of work
tell me, do not shirk. 

Tuesday 12 December 2023

कुछ पसन्दीदा अश'आर

फूल ख़ुशबू बिखरते हर सू
और काँटे कभी नहीं खिलते 
फिर भी काँटों की मेहरबानी है 
वर्ना ये फूल याँ नहीं मिलते 

कभी पाओं में पड़ते हैं 
कभी दामन पकड़ते हैं 
कोई मेहमाननवाज़ी सीख ले 
ख़ार-ए बयाबाँ से 

दामन-ए-यार से 
जा लिपटे हमारे आँसू 
गिर के इस तरह 
सम्भलते हैं सम्भलने वाले

वो लोग जिन्होंने ख़ूँ देकर 
इस बाग़ को ज़ीनत बख़्शी है 
दो चार से दुनिया वाकिफ़ है 
गुमनाम न जाने कितने हैं

जाम-ए-मय तौबा-शिकन
तौबा मिरी जाम-शिकन
सामने ढेर है 
टूटे हुए पैमानों का

हमारा दिल सवेरे का सुनहरा जाम हो जाए
चरागों की तरह आँखें जलें जब शाम हो जाए

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो
न जाने किस गली में ज़िन्दगी की शाम हो जाए

कल न हो ये कि मकीनों को तरस जाए ये घर
दिल के आसेब का हर एक से चर्चा न करो

जैसे वर्क़-ए-गुल पर अंगारा कोई रख दे
यूँ दस्त-ए-हिनाई पर आँसू अभी टपका है

दिल की बस्ती भी शहर-ए-दिल्ली है
जो भी गुज़रा है उस ने लूटा है

उड़ते उड़ते आस का पंछी दूर उफ़क़ में डूब गया
रोते-रोते बैठ गई आवाज़ किसी सौदाई की

कहते हैं उम्र-ए-रफ़्ता कभी लौटती नहीं 
जा मैकदे  से मेरी जवानी उठा के ला

एक गुस्ताख़ी करूँगा वो भी मर जाने के बाद 
यार तुम पैदल चलोगे मैं जनाज़े पर सवार 

जाती हुई मय्यत देख तो ली पर देख के भी तुम आ न सके
दो चार क़दम तो दुश्मन भी तकलीफ़ गवारा करते हैं

मेरे ख़ुदा मुझे थोड़ी सी ज़िंदगी दे दे
उदास मेरे जनाज़े से जा रहा है कोई 

मेरी लाश के सिराहने वो खड़े ये कह रहे हैँ 
इसे नींद यूँ न आती अगर इंतज़ार होता

तेरे वादे पर मितमगर अभी और सब्र करते
अगर अपनी ज़िन्दगी का हमें एतबार होता

ग़ैर ने तुम को जाँ कहा समझे भी तुम कि क्या कहा
यानी कि बे-वफ़ा कहा जान का एतबार क्या 

ग़ज़ब किया तेरे वादे पे ए'तिबार किया 
तमाम रात क़यामत का इंतजार किया 

बाद-ए-मुर्दन कुछ नहीं यह फ़लसफ़ा मरदूद है
 देखिए इंसान को मुर्दा है और मौजूद है

उन की याद आई है साँसों ज़रा आहिस्ता चलो
धड़कनों से भी इबादत में ख़लल पड़ता है

चूम लेती हैं कभी लब कभी आरिज़-ए-गुल
तूने ज़ुल्फ़ों को बड़ा सर पे चढ़ा रक्खा है

यार-आशना नहीं कोई टकराएँ कि से जाम
किस बे-वफ़ा की याद में ख़ाली सुबू करें

मै से ग़रज़ निशात है किस रू-सियाह को
इक गूना बे-ख़ुदी मुझे दिन - रात चाहिए 

आया ही था ख़याल कि आँखें छलक पड़ीं
आँसू किसी की याद के कितने क़रीब हैं 

दिल टूटने से थोड़ी सी तकलीफ़ तो हुई 
लेकिन तमाम उम्र का आराम हो गया

दिल में किसी के राह किए जा रहा हूँ मैं
कितना हसीं गुनाह किए जा रहा हूँ मैं

ज़ाहिद शराब पीने दे मस्जिद में बैठ कर
या वो जगह बता दे जहाँ पर ख़ुदा न हो

मस्जिद दिखा हिला के दुआ में जो अस्र है
दो घूँट पी वगर्ना औ' मस्जिद को हिलता देख

जब वो मेरे क़रीब से हँस कर गुज़र गए
कुछ ख़ास दोस्तों के भी चेहरे उतर गए 

किसी को क्या हो दिलों की शिकस्तगी की ख़बर
कि टूटने में ये शीशे सदा नहीं करते

चाह नहीं मैं सुरबाला के गहनों में गूँथा जाऊँ
चाह नहीं मैं चढूँ देव के शीश भाग्य पर इठलाऊँ
मुझे तोड़ लेना वनमाली औ' उस पथ पर देना फेंक
मातृभूमि पर शीश चढ़ाने जिस पथ जाएँ वीर अनेक

माखन लाल चतुर्वेदी 

To decorate mane of a beautiful dame is not my desire.
Or adorn god's heads and turn heads With envy 'n fire. 
O gardener of  jungle, just don't bungle, pluck me and throw. 
With heads on  hand to sacrifice for motherland, soldiers' d go. 


तुम्हारे हुस्न की बस और क्या करूँ तारीफ़
नहीं कोई भी शै ऐसी, कहूँ मैं तुझ जैसी
रवि मौन 

Thursday 7 December 2023

एक पत्र मित्रों के नाम

सारे मित्र अरबपति  मेरे  मन में है यह चाह।
कभी किसी के लड़के लड़की का हो इस घर ब्याह।

किन्तु क्या कभी वह प्रसन्न रह पाए इस घर आन?
इतना अन्तर अर्थ क्षेत्र में है अपने दरम्यान। 

मैंने तो अर्जन करने की कोशिश दी है छोड़। 
मेरी सन्तानों के मन में अब भी है यह होड़। 

मगर किसी के घर केसे मैं भेजूँगा प्रस्ताव?
क्षमता अर्थ क्षेत्र की ले जाएगी बाधा भाव। 

तीन तीन सी ए हैं घर में काम न इतना पास। 
मिमण्डली के घर की यदि मिलें फ़ाइलें ख़ास? 

 है रमेश का औ अशोक का बिटिया के सर हाथ। 
अन्य किसी भी मिल का नहीं पाया इन ने साथ? 

बड़े पुत्र का काम नया है इसमें अर्थ लगेगा। 
क्या ऐसा करना मेरे मित्रों को व्यर्थ लगेगा? 

शेयर  कम्पनी के लें लें यदि मेरे सारे मित्र ? 
मेरे बच्चों के भी घर में हो उत्साही चित्र! 

बाधा हो यह दूर बनें सम्बंधी मेरे मित्र। 
क्या यह है प्रस्ताव स्वार्थ से पूरित ही हे मिन? 

मैं न रहूँगा तुम न रहोगे पर सम्बन्ध रहेंगे। 
यह मत सोचो कैसे दुनिया वाले इशे सहेंगे? 

हरि हर विधि देंगे इस आशा को अपनाआशीश। 
अर्थ भेद का नाग अगर न उठाए अपना शीश। 

मेरा है विश्वास काम बच्चे मन लगा करेंगे।
 बुद्धि नहीं कम इनमें इस की हामी सभी भरेंगे। 

कृष्ण स्वयम् कर सकते हैं अपनी बहना की शादी।
सुत कुन्ती का जो थी बुआ न उन्हें लगी बर्बादी। 

हैं आदर्श हमारे गिरधर  यह तो है विश्वास? 
इस से अधिक न कोई मेरे है उदाहरण पास। 

             रवि मौन 



Thursday 30 November 2023

FAANI BADAYUNI.. GHAZAL..

दुनिया मेरी बला जाने महँगी है या सस्ती है 

मौत मिले तो मुफ़्त न लूँ हस्ती की क्या हस्ती है 

आबादी भी देखी है वीराने भी देखे हैं 

जो उजड़े और फिर न बसे दिल वो निराली बस्ती है 

ख़ुद जो न होने का हो अदम क्या उसे होना कहते हैं 

नीस्त न हो तो हस्त नहीं ये हस्ती क्या हस्ती है 
Ruined. Life. Existence 
इज्ज़-ए-गुनाह के दम तक हैं इस्मत-ए-कामिल के जल्वे 
Modesty of sin. Complete chastity 

पस्ती है तो बुलंदी है राज़-ए-बुलंदी पस्ती है 
Lower level/ downfall/secret of rise

जान सी शय बिक जाती है एक नज़र के बदले में 
आगे मर्ज़ी गाहक की इन दामों तो सस्ती है 

A thing like life is sold in exchange of a glimpse. 
Sweet will of the customer, it's cheap at 
this price. 

वहशत-ए-दिल से फिरना है अपने ख़ुदा से फिर जाना 

दीवाने ये होश नहीं ये तो होश-परस्ती है 

जग सूना है तेरे बग़ैर आँखों का क्या हाल हुआ 

जब भी दुनिया बस्ती थी अब भी दुनिया बस्ती है 

आँसू थे सो ख़ुश्क हुए जी है कि उमडा आता है 

दिल पे घटा सी छाई है खुलती है न बरसती है 

दिल का उजड़ना सहल सही बसना सहल नहीं ज़ालिम 

बस्ती बसना खेल नहीं बसते बसते बस्ती है 

'फ़ानी' जिस में आँसू क्या दिल के लहू का काल न था 

हाए वो आँख अब पानी की दो बूँदों को तरसती है

Saturday 11 November 2023

RAAHAT INDAURI। GHAZAL। ROZ TAARON KO NUMAAISH MEN KHALAL PADTAA HAI

रोज़ तारों को नुमाइश में ख़लल पड़ता है 
चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है 

There's disturbance in star exhibition every day. 
The moon is lunatic ,goes on  night every 
day. 

एक दीवाना मुसाफ़िर है मिरी आँखों में 
वक़्त-बे-वक़्त ठहर जाता है चल पड़ता है 

There's a frenzied traveller in my eyes. 
All of a sudden stops and moves every day. 

अपनी ताबीर के चक्कर में मिरा जागता ख़्वाब 
रोज़ सूरज की तरह घर से निकल पड़ता है 

My live dream ,in an attempt to know worth. 
Leaves home just like the sun every day. 

रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं 
रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है

Daily I compose ghazal in support of stone.
Something of worth is from glasses every day. 

उस की याद आई है साँसो ज़रा आहिस्ता चलो 
धड़कनों से भी इबादत में ख़लल पड़ता है

Her memory has arrived, go slow O breaths !
Even heart throbs disturb prayers in a way. 

Friday 10 November 2023

SAQIB LAKHNAVI ..... CHOSEN COUPLETS

ज़माना बड़े शौक़ से सुन रहा था 
हमीं सो गए दास्ताँ कहते कहते 

The world was listening to it in style. 
I slept while telling the tale in a while. 
  
बाग़बाँ ने आग दी जब आशियाने को मिरे 
जिन पे तकिया था वही पत्ते हवा देने लगे 

When the gardener set my nest on fire. 
 The leaves i relied on, fanned the ire. 
    
आधी से ज़ियादा शब-ए-ग़म काट चुका हूँ 
अब भी अगर आ जाओ तो ये रात बड़ी है 

 I have finished more than half of grief night.
If you come even now, it's enough of night. 
   
मुट्ठियों में ख़ाक ले कर दोस्त आए वक़्त-ए-दफ़्न 
ज़िंदगी भर की मोहब्बत का सिला देने लगे 

 Friends came for burial with fists full of dust. 
As the parting gift for lifetime love, a must. 
  
  
मुश्किल-ए-इश्क़ में लाज़िम है तहम्मुल 'साक़िब' 

बात बिगड़ी हुई बनती नहीं घबराने से 

 
 
  
सुनने वाले रो दिए सुन कर मरीज़-ए-ग़म का हाल 

देखने वाले तरस खा कर दुआ देने लगे 

 
  
  
हिज्र की शब नाला-ए-दिल वो सदा देने लगे 

सुनने वाले रात कटने की दुआ देने लगे 

टैग्ज़ : दुआ और 1 अन्य
 
  
  
जिस शख़्स के जीते जी पूछा न गया 'साक़िब' 

उस शख़्स के मरने पर उट्ठे हैं क़लम कितने 

 
 
  
अपने दिल-ए-बेताब से मैं ख़ुद हूँ परेशाँ 

क्या दूँ तुम्हें इल्ज़ाम मैं कुछ सोच रहा हूँ 

 
 
  
सोने वालों को क्या ख़बर ऐ हिज्र 

क्या हुआ एक शब में क्या न हुआ 

 
 
  
किस नज़र से आप ने देखा दिल-ए-मजरूह को 

ज़ख़्म जो कुछ भर चले थे फिर हवा देने लगे 

 
  
  
ऐ चमन वालो चमन में यूँ गुज़ारा चाहिए 

बाग़बाँ भी ख़ुश रहे राज़ी रहे सय्याद भी 

 
 
  
बू-ए-गुल फूलों में रहती थी मगर रह न सकी 

मैं तो काँटों में रहा और परेशाँ न हुआ 

 
 
  
दीदा-ए-दोस्त तिरी चश्म-नुमाई की क़सम 

मैं तो समझा था कि दर खुल गया मय-ख़ाने का 

 
 
  
उस के सुनने के लिए जम'अ हुआ है महशर 

रह गया था जो फ़साना मिरी रुस्वाई का 

 
 
  
आप उठ रहे हैं क्यूँ मिरे आज़ार देख कर 

दिल डूबते हैं हालत-ए-बीमार देख कर 

 
 
  
बला से हो पामाल सारा ज़माना 

न आए तुम्हें पाँव रखना सँभल कर 

 
 
  
चल ऐ हम-दम ज़रा साज़-ए-तरब की छेड़ भी सुन लें 

अगर दिल बैठ जाएगा तो उठ आएँगे महफ़िल से 

 
 
  
कहने को मुश्त-ए-पर की असीरी तो थी मगर 

ख़ामोश हो गया है चमन बोलता हुआ 

 

MAJROOH SULTANPURI ... GHAZAL... AI ISHQ YE SAB DUNIYA WALE BEKAAR KI BAATEN KARTE HAIN.....

ऐ इश्क़ ये सब दुनिया वाले बे-कार की बातें करते हैं 

पायल के ग़मों का इल्म नहीं झंकार की बातें करते हैं 

हर दिल में छुपा है तीर कोई हर पाँव में है ज़ंजीर कोई 

पूछे कोई इन से ग़म के मज़े जो प्यार की बातें करते हैं 

उल्फ़त के नए दीवानों को किस तरह से कोई समझाए 

नज़रों पे लगी है पाबंदी दीदार की बातें करते हैं 

भँवरे हैं अगर मदहोश तो क्या परवाने भी हैं ख़ामोश तो क्या 

सब प्यार के नग़्मे गाते हैं सब यार की बातें करते हैं

Monday 6 November 2023

WALI MOHAMMAD WALI... GHAZAL... KIYA MUJH ISHQ NE ZAALIM KUUN AAB AAHISTA-AAHISTA

किया मुझ इश्क़ ने ज़ालिम कूँ आब आहिस्ता-आहिस्ता 
कि आतिश गुल कूँ करती है गुलाब आहिस्ता-आहिस्ता 

My love rendered glow on her ever so slowly. 
As heat turns flower in to rose ever so slowly. 

वफ़ादारी ने दिलबर की बुझाया आतिश-ए-ग़म कूँ 
कि गर्मी दफ़ा करता है गुलाब आहिस्ता-आहिस्ता 

The loyalty of beloved doused flame of grief. 
As the heat is put out by rose ever so slowly. 

अजब कुछ लुत्फ़ रखता है शब-ए-ख़ल्वत में गुल-रू सूँ 
ख़िताब आहिस्ता-आहिस्ता जवाब आहिस्ता-आहिस्ता 

It's a strange joy meeting flower.face in lonely night. 
I address slowly, she replies ever so slowly 

मिरे दिल कूँ किया बे-ख़ुद तिरी अँखियाँ ने आख़िर कूँ 
कि ज्यूँ बेहोश करती है शराब आहिस्ता-आहिस्ता 

Your eyes finally made my heart unconscious. 
As the wine casts it's effect ever so slowly. 

हुआ तुझ इश्क़ सूँ ऐ आतिशीं-रू दिल मिरा पानी 
कि ज्यूँ गलता है आतिश सूँ गुलाब आहिस्ता-आहिस्ता 

O glowing face ! Your love watered my heart. 
As  flame melts rose flower ever so slowly. 

अदा-ओ-नाज़ सूँ आता है वो रौशन-जबीं घर सूँ 
कि ज्यूँ मशरिक़ सूँ निकले आफ़्ताब आहिस्ता-आहिस्ता

With style 'n grace glowing face leaves home .
As the sun rises in the east ever so slowly. 



Wednesday 1 November 2023

KAIF BHOPALI... GHAZAL... TUM SE N A MIL KE KHUSHI HAIN VO DAAVA KIDHAR GAYAA

तुम से न मिल के ख़ुश हैं वो दावा किधर गया 
दो रोज़ में गुलाब सा चेहरा उतर गया 

I am happy not meeting you, where is that claim? 
In a couple of days, rosy face degraded to shame. 

जान-ए-बहार तुम ने वो काँटे चुभोए हैं 
मैं हर गुल-ए-शगुफ़्ता को छूने से डर गया 

O spring  love ! Your have pricked such thorns. 
I feel terrified, to touch blooming flower
 in game. 

इस दिल के टूटने का मुझे कोई ग़म नहीं 
अच्छा हुआ कि पाप कटा दर्द-ए-सर गया 

I feel no grief about shattered heart. 
It's good the sin is over, headache 
 overcame. 

मैं भी समझ रहा हूँ कि तुम तुम नहीं रहे 
तुम भी ये सोच लो कि मिरा 'कैफ़' मर गया

I am realising that you are not you. 
You also think that your 'Kaif' is dead 
in game. 

SAHIR LUDHIYANVI.. COUPLETS

तेरा मिलना ख़ुशी की बात सही 
तुझ से मिल कर उदास रहता हूँ
साहिर लुधियानवी
 
 Meeting you may be pleasure. 
Having met causes displeasure. 

देखा है ज़िंदगी को कुछ इतने क़रीब से 
चेहरे तमाम लगने लगे हैं अजीब से 

I 've seen life from such close range. 
All faces appear to be so strange
  
ग़म और ख़ुशी में फ़र्क़ न महसूस हो जहाँ 
मैं दिल को उस मक़ाम पे लाता चला गया 

Where  no difference is in pleasure 'n pain. 
I have brought heart in such a terrain. 
 
तंग आ चुके हैं कशमकश-ए-ज़िंदगी से हम 
ठुकरा न दें जहाँ को कहीं बे-दिली से हम 

I have got so bored with tussle of life. 
I may kick aside with disdain, life. 
 
ले दे के अपने पास फ़क़त इक नज़र तो है 
क्यूँ देखें ज़िंदगी को किसी की नज़र से हम 

I am left with just my own plain view. 
Why look at life with someone else ''s clue? 

अपनी तबाहियों का हमें कोई ग़म नहीं 
तुम ने किसी के साथ मोहब्बत निभा तो दी

Over my ruins I just do not moan
At least you called someone, own. 
 
हम ग़म-ज़दा हैं लाएँ कहाँ से ख़ुशी के गीत 
देंगे वही जो पाएँगे इस ज़िंदगी से हम 

I am soaked in grief, where from songs of pleasure ? 
I can only give what life gave to me as it's treasure. 
 
चंद कलियाँ नशात की चुन कर मुद्दतों महव-ए-यास रहता हूँ 
तेरा मिलना ख़ुशी की बात सही तुझ से मिल कर उदास रहता हूँ 

Choosing some buds of joy, for long I am drenched in grief. 
Having met with you I am sad, to meet you
is joy so brief. 
 
दुनिया ने तजरबात ओ हवादिस की शक्ल में 
जो कुछ मुझे दिया है वो लौटा रहा हूँ मैं 

What world gave as tragic experience. 
I am returning the same experience. 
 
तू मुझे छोड़ के ठुकरा के भी जा सकती है 
तेरे हाथों में मिरे हाथ हैं ज़ंजीर नहीं 

You can leave and kick if you so like. 
You have my hands, not chains to strike. 
 
इक शहंशाह ने दौलत का सहारा ले कर 
हम ग़रीबों की मोहब्बत का उड़ाया है मज़ाक़ 
 
With the help of people ''s wealthy slot. 
An emperor has made fun of love' 's lot. 
 
अभी ज़िंदा हूँ लेकिन सोचता रहता हूँ ख़ल्वत में 
कि अब तक किस तमन्ना के सहारे जी लिया मैं ने 

While alone, I often think though I am alive. 
With what hope did I manage to survive.?
  
हम जुर्म-ए-मोहब्बत की सज़ा पाएँगे तन्हा
जो तुझ से हुई हो वो ख़ता साथ लिए जा 

I 'll suffer alone for the crime of love
You take what you gave over' n above
 
बस अब तो दामन-ए-दिल छोड़ दो बेकार उम्मीदो 
बहुत दुख सह लिए मैं ने बहुत दिन जी लिया मैं ने 

Now leave my heart's hem O futile hopes.!
I have lived enough, suffered beyond scopes. 
  
मोहब्बत तर्क की मैं ने गरेबाँ सी लिया मैं ने 
ज़माने अब तो ख़ुश हो ज़हर ये भी पी लिया मैं ने 

I have severed love, stitched tattered dress. 
Now be happy O world ! I sipped poison press
 
ऐ ग़म-ए-दुनिया तुझे क्या इल्म तेरे वास्ते 
किन बहानों से तबीअ'त राह पर लाई गई 

You are unaware, for you O world grief ! 
With what excuses has state been in fief. 
इस रेंगती हयात का कब तक उठाएँ बार 
बीमार अब उलझने लगे हैं तबीब से 

How long to bear load of life that crawls. 
Patient and treater are on term of brawls. 

अँधेरी शब में भी तामीर-ए-आशियाँ न रुके 
नहीं चराग़ तो क्या बर्क़ तो चमकती है 

Construction should continue even in nights dark. 
If not a lamp is alit, there is electrical spark. 
 
इस तरह निगाहें मत फेरो, ऐसा न हो धड़कन रुक जाए 
सीने में कोई पत्थर तो नहीं एहसास का मारा, दिल ही तो है
  
Don't let eyes drop, heart throb may stop . 
It is a feeling heart ,not a stone made part. 

बहुत घुटन है कोई सूरत-ए-बयाँ निकले 
अगर सदा न उठे कम से कम फ़ुग़ाँ निकले 

There's congested stock, let there be free state. 
If none is having a talk, let there be wails O mate ! 


 
  
 


Sunday 29 October 2023

MUNIIR NIAZI.. GHAZAL.. GHAM KI BARISH NE BHI TERE NAQSH KO DHOYA NAHIN......

ग़म की बारिश ने भी तेरे नक़्श को धोया नहीं 
तू ने मुझ को खो दिया मैं ने तुझे खोया नहीं 

Even the grief rain, didn't wash your stain. 
You have lost me, but with me you remain. 

नींद का हल्का गुलाबी सा ख़ुमार आँखों में था 
यूँ लगा जैसे वो शब को देर तक सोया नहीं 

There was aftereffect, of sleep in eyes intact. 
It so 'd react , night long awake did I remain.

हर तरफ़ दीवार-ओ-दर और उन में आँखों के हुजूम 
कह सके जो दिल की हालत वो लब-ए-गोया नहीं 

Doors 'n windows around,lots of eyes abound.
What in heart is found, talking lips don't contain. 

जुर्म आदम ने किया और नस्ल-ए-आदम को सज़ा 
काटता हूँ ज़िंदगी भर मैं ने जो बोया नहीं 

Adam commited crime, offsprings suffer dime. 
I reap in life prime, what in soil I didn't retain. 

जानता हूँ एक ऐसे शख़्स को मैं भी 'मुनीर' 
ग़म से पत्थर हो गया लेकिन कभी रोया नहीं

O 'Muneer' I also know, one man in the show.
Grief 'd just endow, to stone but tears contain.

Wednesday 25 October 2023

SAHIR LUDHIYANVI.. GHAZAL.. CHEHRE PE KHUSHI CHHA JAATI HAI AANKHON MEN SURUUR AA JAATA HAI......

चेहरे पे ख़ुशी छा जाती है आँखों में सुरूर आ जाता है 
जब तुम मुझे अपना कहते हो अपने पे ग़ुरूर आ जाता है 

Eyes get intoxicated, there is joy on face. 
When you call me yours, pride is on my race. 

तुम हुस्न की ख़ुद इक दुनिया हो शायद ये तुम्हें मालूम नहीं 
महफ़िल में तुम्हारे आने से हर चीज़ पे नूर आ जाता है 

You are a world of beauty, probably unaware. 
When you get in gathering, glow is in each place. 


हम पास से तुम को क्या देखें तुम जब भी मुक़ाबिल होते हो 
बेताब निगाहों के आगे पर्दा सा ज़रूर आ जाता है 

How to see from near, when I confront you. 
Before restless eyes, a curtain gets in place. 

जब तुम से मोहब्बत की हम ने तब जा के कहीं ये राज़ खुला 
मरने का सलीक़ा आते ही जीने का शुऊ'र आ जाता है

It's when I loved you, this secret was revealed.
Learning death style , life ways come in place

Tuesday 24 October 2023

ANAND NARAYAN MULLA.. GHAZAL..JAB DIL MEN ZARAA BHI AAS N HO IZHAR - E-TAMANNA KAUN KARE

जब दिल में ज़रा भी आस न हो इज़्हार-ए-तमन्ना कौन करे 
अरमान किए दिल ही में फ़ना अरमान को रुस्वा कौन करे 

Why expose desire, when there is no hope? 
Engrave desires in heart, why let it unrope? 

ख़ाली है मिरा साग़र तो रहे साक़ी को इशारा कौन करे 
ख़ुद्दारी-ए-साइल भी तो है कुछ हर बार तक़ाज़ा कौन करे 

Cup is empty, let it be, why call the barmaid? 
Drunkard respect is at stake, why call after nope? 

जब अपना दिल ख़ुद ले डूबे औरों पे सहारा कौन करे 
कश्ती पे भरोसा जब न रहा तिनकों पे भरोसा कौन करे 

When my own heart drowns me, why call for help? 
Why lay  hope on straws, when ship offers no hope? 

आदाब-ए-मोहब्बत में भी अजब दो दिल मिलने को राज़ी हैं 
लेकिन ये तकल्लुफ़ हाइल है पहला वो इशारा कौन करे 

Two hearts are ready to meet, but on terms of love. 
One condition still remains, who signs for elope? 

दिल तेरी जफ़ा से टूट चुका अब चश्म-ए-करम आई भी तो क्या 
फिर ले के इसी टूटे दिल को उम्मीद दोबारा कौन करे 

Your neglect broke my heart, what caring look 'd do? 
With broken heart, why again' d I expect hope? 

जब दिल था शगुफ़्ता गुल की तरह टहनी काँटा सी चुभती थी 
अब एक फ़सुर्दा दिल ले कर गुलशन की तमन्ना कौन करे 

When heart bloomed, even branch 'd prick as thorn. 
Now heart is sad, state is bad, why have garden hope.? 

बसने दो नशेमन को अपने फिर हम भी करेंगे सैर-ए-चमन 
जब तक कि नशेमन उजड़ा है फूलों का नज़ारा कौन करे 

 I will also roam in garden,let my nest vibrate
With deserted nest, who can view flowers in scope? 

इक दर्द है अपने दिल में भी हम चुप हैं दुनिया ना-वाक़िफ़ 
औरों की तरह दोहरा दोहरा कर उस को फ़साना कौन करे 

A grief is in my heart too, world is unaware of. 
Repeated calls as others do, who'll make a tale to cope? 

कश्ती मौजों में डाली है मरना है यहीं जीना है यहीं 
अब तूफ़ानों से घबरा कर साहिल का इरादा कौन करे 

I have left the boat to waves, here to live 'n to die. 
Disturbed by storm, who' d go to shore, with what scope? 

'मुल्ला' का गला तक बैठ गया बहरी दुनिया ने कुछ न सुना 
जब सुनने वाला हो ऐसा रह रह के पुकारा कौन करे 

'Mulla' 's throat has gone sore, deaf world heard no more. 
When listener is this type, who' ll call whom with hope?