Friday, 28 October 2016

Wali Dakni.. A ghazal 'n loose couplets SAJAN TUM MUKH...

सजन तुम मुख सिती उल्टो निक़ाब आहिस्ता आहिस्ता।
कि ज्यूँ गुल सों निकसता है गुलाब आहिस्ता आहिस्ता।
From face slowly slowly you raise the cover.
As a rose comes out slowly from it's cover.... 

अजब कुछ लुत्फ़ रखता है शब ए ख़ल्वत में गुलरू सूँ।
खिताब आहिस्ता आहिस्ता जवाब आहिस्ता आहिस्ता।। 
It is a  pleasure to meet at night the flower face.
You address her slowly, slowly replies the lover........ 


अजब नईं गर गुलाँ दौड़ें पकड़ कर सूरत ए कुुमरी।
अदा सूँ जब चमन भीतर वह सर्व ए सरफ़राज़ आवे।
It is not strange if flowers run like singing birds.
When my tall beloved comes to the garden in style. 


वली उस गौहर  ए कान ए हया की क्या कहूँ खूबी।
मिरे घर इस तरह आता है ज्यूँ सीने में राज़ आवे।। 
What to say about that modest pearl of the treasure.
She visits Wali s home as a secret to heart in style.... 


सफ़र ए इश्क़ का अगर है ख़याल।
हिम्मत ए दिल को ज़ाद ए राह करो।
If you want to travel love route.
Courage at heart as luggage will suit..... 

इक बार हँस के बोल सुख़न, वर्ना हश्र तक। 

जूँ बर्क़ बेक़रार रहेंगे कफ़न में हम।।

Just smile and speak with me once or till doom. 

Impatient like lightning, I'll be in grave room. 


मेरी तरफ़ साग़र बकफ़ आया है वह मस्त ए हया।
अय दिल तकल्लुफ़ बर तरफ़ मस्तानः हो मस्तानः हो।
Intoxicated, shy with wine cup in hand she comes to me.
Do not be formal o heart, be overjoyed, careless and see.... 


ज्यूँ गुल शिगुफ़्तः रू हैं  सुख़न के चमन में हम।
ज्यूँ शम्अ सरबलन्द हैं हर अंजुमन में हम।
I am a flower with smiling face in the garden of written art.
Glowing as a candle, head held high in every gathering's part....

मुफ़लिसी सब बहार खोती है।

मर्द का ऐतबार खोती है।।

In poverty, glory is off at every cost. 

The confidence of man is finally lost.


दिल क्यूँ न जावे उस गली में। 

गली उस दिलरुबा की दिलकुशा है। 


Why in that lane, shouldn't go my heart ?

Her lane attracts and e snares my heart. 

Couplets 12 .. Wali Dakni... Ajab naeen gar gulaan...


अजब नईं गर गुलाँ दौड़ैं पकड़ कर सूरत ए क़ुमरी। 
अदा सूँ जब चमन भीतर वह सर्व ए सरफ़राज़ आवे। 


It is nt strange if flowers run like singing birds.
When my tall beloved comes to the garden in style.

 
वली उस गौहर ए कान- ए- हया की क्या कहूँ ख़ूबी। 
मिरे घर इस तरह आता है ज्यूँ सीने में राज़ आवे।


What to say about that modest pearl of treasure.
She visits Wali s home as heart s secret in style.


सफ़र ए इश्क़ का अगर है ख़याल
हिम्मतदिल को ज़ादराह करो।


If you think about travelling love  route.
Courage at heart as luggage will suit.


मेरी तरफ़ सागर बकफ़ आया है वो मस्त- ए- हया।
ऐ दिल तकल्लुफ़ बर तरफ़, मस्तानःहो मस्तानः हो। 

Intoxicated, shy, with wine cup in hand, she comes towards me.
Do not  be formal O heart! Be overjoyed, careless and see.


ज्यूँ गुल शिगुफ़्तः रू हैं सुख़न के चमन में हम
ज्यूँ शम्अ सरबलन्द हैं हर अंजुमन में हम


I am like a flower with smiling face in the garden of written art.
Glowing as a candle, head held high  in every gathering'  s part.


इक बार हँस के बोल सुख़न वर्ना हश्र तक। 

ज्यूँ बर्क़ बेक़रार रहेंगे कफ़न में हम।

Just smile and speak with me once or till doom. 

I patient, like lightening I 'll be in coffin room. 


मुफ़लिसी सब बहार खोती है। 

मर्द का ऐतबार खोती है। 


In poverty, glory is off at no cost. 

The confidence of man is virtually lost.


मिलना तुमन का ग़ैर से कोई झूट कोई सचमुच कहे। 

किस किस का मुँह मूँदूँ सनम कोई कुछ कहे कोई कुछ कहे। 


Your meeting with my rival, is it true or lie?

People say many things, whose tongue can I tie?


तिरे बिन मुझको ऐ साजन तो घर और बार क्या करना ?

अगर तू ना इछे मुझ कन  तो ये संसार क्या करना ?

O love ! Without you, of a house what 'll I do? 

If you aren't mine, of the world what 'll I do ?

ऐ' वली' दुनिया में रहने को मुकाम- ए- आशिक़ ।

कूच ए ज़ुल्फ़ है आग़ोश - ए-तन्हाई है।

O Wali ! In this world for a lover to stay.

Are embrace of solitude' n tress gone astray.


आरसी देख कर न हो मग़रूर। 

ख़ुद नुमाई न कर ख़ुदा सों डर।


Looking in mirror with self regard. 

Exhibitive ! Just be afraid of Lord.


तुझ लब की सिफ़त लाल-ए-बदुख़्शाँ से कहूँगा। 

जादू हैं तेरे नैन ग़ज़ालाँ से कहूँगा।


Before precious Badukhshan stones, I 'll praise your lips dear

So magical are your eyes, I' ll talk with the deer. 

Thursday, 27 October 2016

GHAZAL MIR TAQI MIR.. KYA MEIN BHI PARESHANI.....

क्या मैं भी परीशानि-ए-ख़ातिर से क़रीं था।
आँखें तो कहीं थीं दिलेग़मदीदः कहीं था।

Had I also reached  the peak of heart's plight.
Eyes were elsewhere, sad heart had you in sight.

किस रात नज़र की है सू-ए-चश्म के अंजुम।
आँखों के तले अपने तो वो माहजबीं था।

When did I look towards stars on any night.
Only that moon face was always in my sight.

आया तो सही वो कोई दम के लिए लेकिन
होंटों पे मिरे जब नफ़से बाज़पसींं था।

Oh yes she came to me for a while, but
On my lips were then last breaths alright.

नाम आज कोई याँ नहीं लेता है उन्हों का।
जिन लोगों के कल मुल्क यह सब ज़ेरेनगीं था।

Today no one utters the name of those.
The people who had this nation under might.

मस्जिद में इमाम आ के हुआ जाने कहाँ से।
कल तक तो यही मीर ख़राबात नशीं था।

From where did he become priest at the mosque.
Not long ago only tavern was Mir's  site.

GHAZAL... BASHIR BADR.. ROSHANI KE MUQADDAR...

रोशनी के मुक़द्दर में नींदें कहाँ, चाँद में, ताक़ पर वो सजाएँ कहीं। 

हम चिराग़े वफ़ा, जलना है रात भर, आस्माँ ता ज़मीं वो जलाएँ कहीं। 

There is no sleep in the fate of light, they may set in the moon or roof somewhere. 

We have to burn like two loyal bodies, from sky to earth they may burn anywhere. 

दो भटकती हुई रूह जैसे मिलें, यूँ मिलीं वो निगाहें मगर ख़ौफ़ है। 

ज़ीस्त है रात में जंगलों का सफ़र, इस जनम में भी हम खो न जाएँ कहीं।। 

As if two wandering souls have met, those eyes have met but I am still afraid. 

Life is a journey of woods at night, even in this life we may part  somewhere. 

शोहरतें मिस्ले मीनारे अज़्मत हमें, आस्माँ  की तरफ़ ले चली हैं मगर। 

जी में है सब्ज़ पैग़म्बरों की तरह, सीनए संग से सर उठाएँ कहीं। 

The fame has taken me towards the sky, like a minaret of name and fame. 

My heart still longs to raise it's head, like green grass on stones somewhere. 

बर्फ़ सी उजली पोशाक पहने हुए, पेड़ जैसे दुआओं में मसरूफ़ हैं। 

वादियाँ पाक मरियम का आँचल हुईं, आओ सजदा करें सर झुकाएं कहीं। 

As if the trees are busy in prayer, wearing their snowy glistening garb. 

Valleys are pious Mary's dress, let us pray and bend our heads somewhere . 

अनकहे शे'र हैं वादिए ज़हन में, मुख़्तलिफ़ रंग के झिलमिलाते दिये। 

दस्ते अल्फ़ाज़ महफ़ूज़ कर ले इन्हें, चल रही है हवा बुझ न जाएँ कहीं ।

In the valley of mind are untold couplets, the flickering flames of various colours. 

Let words extend their arms to shield, lest blowing wind should have it's share. 



 

यह दिवाली वीरों के नाम

जगमग जगमग दिए जलेंगे, आई आज दिवाली।
रोएँगे कुछ बच्चे और रोएँगी कुछ घरवाली।

सरहद पर जो गिरे वीर, रोएँ उनकी माताएँ।
उनकी स्मृति में आओ, हर घर एक प्रदीप जलाएँ।

श्रद्धांजलि उन वीरों को देना, कर्तव्य हमारा।
जिनको मेरा देश लगा, अपने प्राणों से प्यारा।।...... 

Saturday, 15 October 2016

संस्कृत के श्लोक हिन्दी के दोहे

नमः पंकज नाभाय नमः पंकज  मालिने।
नमः पंकज नेत्राय नमस्ते पंकजांघ्रये। ।

पंकज नाल नाभि से निकले, पंकज की है माला।
पंकज श्री चरणों पर चित्रित, पंकज नयन विशाला।।

कराग्रे वसते लक्ष्मी कर मध्ये सरस्वती।
कर मूले तु गोविंदः प्रभाते कर दर्शनम्।।

अग्र हस्त में बसें लक्ष्मी, मध्य सरस्वति मात
मूल भाग में गोविंदा के, दर्शन करें प्रभात।।

समुद्र वसने देवी पर्वत स्तन मंडले।
विष्णु पत्नी नमस्तुभ्याम् पाद स्पर्श क्षमस्य मेव।।

वस्त्र समुद्र विष्णु पत्नी के, स्तन सब पर्वत माल
छुऊँ पाँव से, क्षमा करें माँ, नमन करूँ मैं भाल।।

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभः।

निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा। 


टेढ़ी सूँड महा काया है, कोटि सूर्य सम करें प्रकाश ।

कारज सब सम्पन्न करें मम, औ ' विघ्नों का करें विनाश ।।

अनुवादक-  रवि मौन

Friday, 30 September 2016

Iqbaal ke ashaar... na bacha bacha ke tu... 49 couplets.....


Na bachaa bachaa ke tu rakh ise, tera aina hai woh aina.
Jo shikastaa ho to azeeztar hai nigaahe ainasaaz mein...... 

Doesn't matter, let it shatter, your mirror on a platter.
It is dear, O my dear, when He peers from above! ....


Apne man mein doob kar paajaa suragh_ezindagee.

 Too agar meraa naheen banataa n ban, apnaa to ban. 

Delve deep within your self 'n find secrets of life unknown. Well, you may not be mine, but at least be your own. 

Duniya ki mahfilon se uktaa gayaa hun yaarab. 

Kya lutf anjuman ka jab dil hi bujh gayaa ho? 

I am bored with assemblies of world, their part.

 What good is organization with a doused heart? 

Moti samajh ke shaane kareemee ne chun liye. 

Qatare gire Jo mere ashqe infiyal men. 

Like pearls, these were picked by divine grace. 

As tears of repentance rolled down my face. 

Saudagari nahin, ye ibaadat khuda ki hai. 

Ai bekhabar, jazaa ki tamanna bhi chhodh de. 

It's not business, but  prayer of the Lord. 

Don't desire for anything as a reward. 

Khudaa to miltaa hai, insaan hi naheen miltaa. 

Ye cheez vo hai, jo dekhi kahin kahin mainen. 

God can be traced but not the man. 

The vision of man, one rarely can. 

Toone ye Kya ghazab Kiya, mujh ko faash kar diyaa. 

Main hi to ek raaz Tha, seena e kaaynaat main. 

What have you done? I was also exposed. 

I was lone secret in chest of universe reposed. 

Alam e soz o saaz men vasl se badh ke hai firaaq! 

Vasl men marg e aarzoo, hijr men lazzat e talab. 

In this grand set up of world, parting is greater than love. 

It's a pleasure to wait in  parting, there's death of desire in love. 

 Hazaron saal nargis apni benoori pe roti hai., 

Badi mushkil se hota hai chaman meñ deedavar paida. 

For a thousand years, daffodil weeps on lack of glory. 

One who can truely visualise, enters late in the story.

Taameere ashiyan se maine ye raaz paya. 

Ahale navaa ke haq men bijlee hai aashiyana. 

While making a home this secret was found O lark! 

O singer, your nest is within the range of spark. 

Nishane barge gul tak bhi na chhodh is bagh men gulchin. 

Teri Qismat se razm araiyan hain baghbanon men. 

O destroyer don't leave even a flower petal in the garden. 

It's your luck that there are quarrels in gardeners so often.

Ai taire lahooti us rizk se maut achchhi.

Jis rizk se aati ho parvaz meñ kotahi. 

Death is better than that food, 0 heavenly bird don't alight. 

Food that might bring narrowness in your own flight. 

Aankh Jo kuchh dekhti hai lab pe aa saktaa nahin. 

Mahve hairat hoon, ye duniya kya se kya ho jaegi. 

The lips can not record what eyes can see. 

I am surprised what world is, what it can be... 1


Whatever my eyes can see, the lips just fail to tell. 

Changes the world goes through, leave me in a spell. ...2


What eyes behold, words can't express. 

I am surprised, the way world changed it's dress... 3


Zindagi insan ki hai maninde marg e khush navaa. 

Shakh par baitha, koi dam chahchahaaya, udh gaya. 

Life of man 'n singing bird are alike, nothing new. 

Perched on a branch, sang for a while and then flew. 

Tuhi nadaan chand kaliyon par qanaa' at kar gaya. 

Varna gulshan men ilaj  tangiye daaman bhi hai . 

You are stupid to be satisfied with buds so few. 

In the garden, they  can enlarge the hem or renew. 

Fard qaayam rabto millat men hai tanhaa kuchh nahin. 

Mauj hai dariya men aur berune dariyaa kuchh nahin. 

A person exists in company and not when alone. 

The wave is in a river, ceases when overflown. 

Raf'at men maqasid ko hamdoshe suraiya kar. 

Khuddariye sahil de, azadiye dariya de. 

Desires should have height, that of stars in a night. 

Have the freedom of stream and  shore's self esteem. 

Zindagi insaan ki hai maninde murghe khushnavaa

Shaakh par baithaa koi dam chahchahaayaa udh gayaa. 

The human life is like a bird living in a pleasant way. 

Perched on a branch, sang a while and then flew away. 

Ek bhi patti agar kam ho to voh gul hi naheen. 

Jo khizan nadeeda bulbul hai voh bulbul hi naheen. 

If a single petal is missing, it is not a flower any more. 

Until exposed to autumn, it isn't nightingale to it's core. 

Gham jawaani ka jaga deta hai lutfe khwab se. 

Khwab ye bedaar hota hai isee mizraab se. 

Sorrows of youth awaken you from sweet dream. 

From this instrument fiows this tune in a stream. 

Is sharaabe rango bu ko gulsitan samjhaa tha too. 

Aah ai nadaan qafas ko aashiyan samjhaa tha too. 

You mistook the wine smell as of a garden at its best. 

O unwise! You have considered the prison as your nest. 

Haadsaate gham se hai insaan ki fitrat ko kamaal. 

Ghaazaha  hain aainaye dil ke 

garde malaal. 

Sad incidents invigorate and complete the nature of man. 

This powder thus cleans the mirror of heart from every tan.

Kabhi ai haqeeqate muntzar nazar aa libaase majaz men. 

Ki hazaron sajde tadap rahe hain teri jabeene niyaz men. 

O waiting realty! If at times, in spiritual garb you are found. 

A thousand prayers will emerge as  your forehead touches ground. 


Paanii ko chhuu rahii ho jhuk-jhuk ke  gul ki Tahnii. 

Jaise hasiin koii aaiinaa dekhtaa ho. 


As  a flower twig bends to touch water, out of shame. 

Confronting the mirror, is a really beautiful dame. 


Dhuundhtaa firtaa huuñ mein 'Iqbal' apne aap ko. 

Aap hii goyaa musaafir, aap hii manzil huuñ mein. 


O 'Iqbaal'! I am in search of myself everywhere. 

As if I am a traveller and also the goal here. 


Wajood - e - zan se hai tasveer- e - kaaynaat men rang. 

Isee ke saaz se hai zindagee ko soaz - e - daroon. 


The existence of woman colours universal portrait

It's music imparts  life with a latent pain trait. 


सुकूनेदिल जहाँ में बेशोकम हैं ढूंढने वाले 

यहाँ हर चीज़ मिलती है सुकूनेदिल नहीं मिलता। 


O searcher in this world, there's little peace of heart. 

What ever you search for, is there in this mart. 


मैं जो सर ब सजदा कभी हुआ तो ज़मीं से आने लगी सदा। 

तेरा दिल तो है सनम आश्ना तुझे क्या मिलेगा नमाज़ में ।


When ever my head touched ground, therefrom came out the sound. 

Your heart is idol bound, what's there in prayer to be found. 


बनाएँ क्या समझ कर शाख़- ए- गुल पर आशियाँ अपना। 

चमन में आह क्या रहना जो हो बे- आबरू रहना। 


Make nest on a flowering tree, well with what in mind? 

Why live inside a garden, when you leave prestige behind


सौ सौ उम्मीदें  बँधती है इक इक निगाह पर। 

हम को न ऐसे प्यार से देखा करे कोई। . 


Each look produces hundreds of hope. 

Let no one watch me with such scope...... 1..


Each time you see, a hundred hopes abound. 

With so much love, don't look for me around. 


अच्छा है दिल के पास रहे पासबान- ए- अक़्ल। 

लेकिन कभी-कभी इसे तन्हा भी छोड़ दे। 


It's good that brain stands guard to heart. 

But at times let them just stand apart.... 1


It's good that the sense keeps guard of heart. 

But at times, let heart just play it's part.... 2.


उस मौज के मातम में रोती है भँवर की आँख। 

दरिया से उठी लेकिन साहिल से न टकराई। 


On the death of that wave, eye of storm cries galore. 

Which heaved from the sea but couldn't reach the shore.


माना कि तेरी दीद के क़ाबिल नहीं हूँ मैं। तू मेरा शौक़ देख मेरा इंतज़ार देख ।


It's true that I am not worth your look. 

How much I desire and wait, just look. 


काबे में बुतकदे में है यकसाँ तिरी ज़िया।

मैं इम्तियाज़ ए दैर ओ हरम में फँसा हुआ। 


Whether it's Kaaba or temple, your glow is the same. 

I am stuck in the controversy and it's name. 


 अगर कुछ आश्ना होता मज़ाके जिब्हसाई का।

तो संग- ए - आस्तान - ए- काबा जा मिलता जबीनों में। 

Had it been aware of pleasure of bowing touching heads. 

Then the stone at Kaaba 'd have mingled with foreheads. 


 नहीं बे गानगी अच्छी रफ़ीक़- ए - राह- ए- मंज़िल से। 

ठहर जा ऐ शरर हम भी तो आख़िर मिटने वाले हैं। 


When you travel with a rival, it isn't good to ignore. 

Simply wait O spark, we' ll also be no more. 


ख़ुदी को कर बुलंद इतना कि हर तदबीर से पहले। 

ख़ुदा बंदे से ख़ुद पूछे बता तेरी रज़ा क्या है? 


Raise your soul to a level that before writing future slate. 

Let God himself enquire, "what do you want in fate?" 


चमनज़ार - ए- मोहब्बत में ख़ामोशी मौत है बुलबुल। 

यहाँ की ज़िन्दगी पाबन्दी- ए- रस्म- ए- फ़ुगाँ की है। 


O nightingale! In the garden of love, silence is death. 

Here life is a ritual of crying with each breath. 


मैं इंतिहा- ए - इश्क़ हूँ तू इंतिहा- ए- हुस्न 

देखे मुझे कि तुझ को तमाशा करे कोई। 


You are ultimate beauty I am love ultimate. 

Whether someone should watch you or see my state. 


शम'अ की तरह जलें बज़्म- गह- ए- आलम में। 

ख़ुद जलें दीद- ए - अग़यार को बीना कर दें। 


Burn like a candle in world premise. 

Self burning, enlightening rival' s eyes. 


क़रीब है यारो रोज़े महशर छुपेगा कुश्तों का ख़ून क्यों कर। 

जो चुप रहेगी ज़ुबाने ख़ंजर लहू पुकारेगा आस्तीं का ।


Nearby is the doom's day, blood of generations will say. 

If tongue of knife is kept away, blood on sleeves'll cry 'n pray. 


बाग़ - ए - बहिश्त से मुझे भेजा था पहले क्यों यहाँ? 

कार - ए - जहाँ दराज़ है अब मेरा इंतज़ार कर।


From garden of heaven, why did you send me here? 

The work of world is huge, now wait for me there. 


जहाँ में अहल- ए - ईमाँ सूरत - ए- ख़ुर्शीद रहतै हैं। 

इधर डूबे उधर निकले उधर डूबे इधर निकले। 


Those who know the facts of this world, like sun remain. 

Setting on one side and rising from the other again. 


नश'आ पिला के गिराना तो सब को आता है।

मज़ा तो तब है कि गिरतों को थाम ले साक़ी। 


Serving drinks and let the drunk swerve is known to all

What pleases wine girl is how to arrest that fall. 


ग़म जवानी का जगा देता है लुत्फ़- ए- ख़्वाब से। 

साज़ ये बेदार होता है इसी मिज़राब से। 

Sorrows of youth awaken you from a sweet dream. 

From this instrument flows this tune in a stream. 


कैफ़ियत बाक़ी पुराने कोह- ओ- सहरा में नहीं। 

है जुनूँ तेरा नया पैदा नया वीराना कर। 


There's nothing in jungles or hills of old. 

With fresh jest, make a new desert. Be bold.. 

नाला है बुलबुल - ए-शोरीदा तिरा ख़ाम अभी। 

अपने सीने में ज़रा और इसे थाम अभी। 


Your cry O nightingale, is as yet immature. 

Hold it in your heart, till it becomes pure. 


त 'अम्मुल तो था उन को आने में क़ासिद। मगर ये बता तर्ज़-ए-इंकार क्या थी ? 

O massenger, she hesitated to come. 

The way she said it, tell me some. 


मुझे रोकेगा तू ऐ नाख़ुदा क्या ग़र्क होने से।

 कि जिन को डूबना है डूब जाते हैं सफ़ीनों में। 

You can't stop me from drowning, just mind your boat. 

Those destined, would drown even inside the boat. 


तुम्हारी तहज़ीब अपने ख़ंजर से आप ही ख़ुदकुशी करेगी। 

जो शाख़-ए-नाज़ुक पे आशियाना बनेगा, नापाएदार होगा। 


To commit suicide, your culture 'll dig a dagger in it's  heart. 

A nest built on weak twig, will not last, will fall apart... 1


Your culture will die with a dagger of it's own. 

Nest built on a weak twig, crumbles, it is known... 2

 त








 



 



Thursday, 29 September 2016

couplets of several poets.. Tanha uthaa loon main bhi...

Tanha uthaa loon main bhi zaraa lutfe gumrahee. 
Ai rahnuma mujhe meri qismat pe chhod de .
-Himalayan Shaah

Let me enjoy alone being off the track. 
O Guide, let the  destiny back or sack. 


Thee kisee darmandaa rahee ki sada e dardnaak. 
Jis ko aawaaz e rahaane kaarvaan samjhaa thaa main. 
-Iqbaal

Tired passenger's anguished cry was what I took for. 
Blowing of a caravan's conch shell coming from afar. 


Barsaat ke aate hi tauba bhi meri tooti. 
Badali jo nazar aaye, badli meri niyat bhi.    
-Hasarat mohani.

With dark clouds, promise not to drink said goodbye.
My intentions got clouded as clouded got the sky.


Go dard hai seene men hoton pe hai tabassum.
Ik dars le raha hoon phoolon ki zindagi se.

With pain in heart, there is smile on lips.
From the life of a flower, I take vital tips. 

Jinse insaan ko pahunchtie hai hamesha takleef. 

Un ka daavaa hai ki wo asl khuda vaale hain. 

Those who hurt humans all 

the time.

Claim, they are close to God sublime.

भरे जहाँ में कोई मेरा यार था ही नहीं।

किसी नज़र को मेरा इंतज़ार था ही नहीं। 

........ क़तील शफ़ाई.....

In this world no one was my own. 

Never an eye had waited for me to own.

बदन तो ख़ुश हे कि उस पर हैं रेशमी कपड़े ।

ज़मीर चीख़ रहा है कि बिक गया हूँ मैं। 

Wearing silk, the body is happy, walks bold. 

Conscience is crying that it has been sold. 

GHAZAL... FAIZ... NAHEEN NIGAAH MEN MANZIL...

नहीं निगाह में मंज़िल, तो जुस्तजू ही सही। 
नहीं विसाल मयस्सर, तो आरज़ू ही सही।
Let there be search, if no goal is in sight. 
If there is no meeting, desire is alright. 
न तन में ख़ून फ़राहम, न अश्क आँखों में।
नमाज़े शौक़ तो वाजिब है, बेवजू ही सही। No blood is in body, no tear in the eyes. 
Even when unwashed, the prayer is alright. 
किसी तरह तो जमे बज़्म मयकदे वालो। 
नहीं जो बादाओ साग़र, तो हा औ हू ही सही। 
Let there be gathering in the wine house. 
If there isn't drink, noise 'n tussle it might. 
गर इंतज़ार कठिन है, तो तब तलक ऐ दिल। 
किसी के वादा ए फ़र्दा की गुफ़्तगू ही सही। 
If waiting is tough, till then O heart. 
Let's talk one' s 'morrow' s promise, it's plight. 
दयारे ग़ैर में मरहम नहीं अगर कोई। 
तो 'फ़ैज़' ज़िक्रे वतन, अपने रूबरू ही सही। 
If there's no balm in foreign land O 'Faiz'. 
Let 's discuss the motherland, out of sight. 

 

Wednesday, 28 September 2016

दास्ताने इश्क़ - गज़ल


दास्ताने इश्क़ वो भी कह गये।
शर्म से आँखें झुकीं चुप रह गये।

चश्मे तर बैठे हैं हम तुम रूबरू।
हाय वो आँसू जो यूँ ही बह गये।

याद कर कर के तेरी कुछ शोख़ियाँ।
हादसे हम उम्र भर के सह गये।

हम कहानी सुन रहे थे ग़ैर की।
कौन जाने अश्क कैसे बह गये।

डाल से पत्ता गिरा एक टूट कर।
झूमते थे हम सहम कर रह गये।

दिल धडकना छोड़ देगा हमनवा।
आप भी गर गै़र हो कर रह गये।

ज़िंदगी  इतनी  बड़ी  भी  तो  नहीं।
कहिये यूँ क्यूँ 'मौन' हो कर गये।

Tuesday, 27 September 2016

ग़ज़ल... हाय ज़ुल्फ़ों का ये शानों पे...

हाय जुल्फों का वो शानों पे परेशाँ होना।
ख़्वाब है देखिए इतना नहीं आसाँ होना।।

आप बेकार फरिश्तों की बात करते हैं।
ऐसे माहौल में मुश्किल हुआ इन्साँ होना।।

जिस्म से रूह को छू लेने की कोशिश की है
क़ाबिले रश्क़ है काँटों  का पशेमां होना।।

मश्क़ करना भी तो लाज़िम है हरेक फ़न के लिए।
सिर्फ़ तक़दीर से मुमकिन नहीं अच्छा होना।।

दोस्तों को भी हरेक बात न दिल की कहिए।
सह सकोगे क्या किसी राज़ का उरियाँ होना।।

एक ग़म है जो सताता रहा मुझको ता उम्र।   
मैं वजह  और सबब उनका परेशाँ होना।।

है ये सच पर तू वहम समझे तो हर्ज़ा क्या है।
मैंने चाहा है तेरे दिल में ही मेहमाँ होना।।

ज़ख्म पहले भी बहुत खाऐ हैं तूने ऐ 'मौन'।
हो न आग़ाज़ नया उनका मेहरबाँ होना।।
--------------------------------------------------------

Hai  zulfon ka wo shaannon pe pareshaan hona.
Khwaab hai dekhiye itna nahin aasaan hona.

Aap bekaar farishton ki baat karte hain.
Aise mahaul mein mushkil hua insaan hona. 

Jism se rooh ko chhoo lene ki koshish ki hai.
Qabil e rashk hai kaanton ka pashemaan hona.

Mashq karna bhi  to laazim hai harek fun ke liye.
Sirf taqadeer se mumkin nahin achchha hona.

Doston ko bhi harek baat na dil kee kahiye.
Sah sakoge kya kisi raaz ka uriyan hona.

Zakhm pahle bhi bahut khaye hain toone ai 'Maun'.
Ho n aaghaaz naya un ka meherbaan hona.

Ek gham hai jo sataataa raha mujhko ta umr.
Mein vajah aur sabab  unka pareshaan hona.

Hai ye such par tu vahan samjhe to harza kya hai.
Maine chaha hai tere dil mein hi mehmaan  hona.

रुबाई रवि मौन

वक़्त जाता है याद रहती है।
एक दरिया की तरह बहती है।
जो भी गुज़रा है बीते लम्हों में।
उसको ये धीरे धीरे कहती है।

सुंदर तेरे अंग सब, सुंदर तेरे बाल।
मनमोहक तेरी हँसी, मतवाली है चाल।
कल की सी तो बात है, मिले जब प्रथम रैन।
लोगों को यह भरम है, बीत गए कुछ साल।

मिलन तुम्हारा अद्भुत सुख है।
और बिछड़ना भीषण दुःख है।
देखे आस जगे जीवन की।
इतना सुंदर तेरा मुख है।।

Sunday, 25 September 2016

HAZARON KHAHISHAEN AISI ....GHALIB....GHAZAL..

हज़ारों ख़ाहिशें ऐसी कि हर ख़ाहिश पे दम निकले।

बहुत निकले मेरे अरमान, लेकिन फिर भी कम निकले।

Hazaron khahishaen aisi ki har khahish pa dam ninkle.

Bohut nikle mere arman, lekin phir bhi kam nikle.

Each worth dying for, a thousand wishes galore.

Many got fulfilled, still I craved for more.

मुहब्बत मे नहीं हैं फ़र्क जीने ओर मरने में।

उसी को देख कर जीते हैँ जिस काफ़िर पे दम निकले।

Mohabbat men nahin hai farq jeene aur marne me.

Usi ko dekh kar jeete hain jis  kafir pe dum nikle.

Between life and death there is no difference in love. 

With the same infidel is life and death  in store.

निकलना खु़ल्द से आदम का सुनते आए थे लेकिन।

बड़े बेआबरू होकर तेरे कूचे से हम निकले।

Nikalna khuld se aadam ka sunte aye the lekin

Bade beaabroo ho kar tere kooche se hum nikle.

Adam's eviction from heaven is a tale heard by all.

I was chucked out of your lane disgraced far more.

खु़दा के वास्ते परदा न काबे का उठा वाइज़।

कहीं एसा न हो,याँ भी कही काफि़र सनम निकले।

Khuda ke waaste parda naa kabe ka utha waiz. 

Kahin aisa na ho yaan bhi wahi kafir sanam nikle. 

May be, the iconic infidel is seen here as well.

For god 's sake O priest don't open kaba's door.

हुई जिनसे तवक्क़ो ख़स्तगी की दाद पाने की।

वो हम से भी जि़यादा ख़स्तए तेग़े सितम निकले।

Hui jin se tawaqqo khastagee men dad pane ki. 

Wo ham se bhi ziada khastae teghe sitam nikle.

Those whom we thought would sympathise in weakness. 

Were found to be distressed and hurt to the  core. 

कहां मयखा़ने का दरवाजा़ गा़लिब ओर कहाँ वाइज़।

पै इतना जानते है़ कल वो जाता था कि हम निकले।

Kahan maikhane ka darwaza ghalib aur kahaan waiz. 

Par itna jante hain kal wo jata tha ki ham nikle. 

It is difficult to think of a priest in tavern. 

Last night he sneaked in as I left its door. 

Friday, 15 July 2016

Ravimaun ki Madhushala - 19

रवि मौन की मधुशाला - १९ 

हानि-लाभ की कब चिन्ता करता कोई पीनेवाला। 
जीना-मरना लगा रहेगा, कहता है हर मतवाला। 
हाथ पकड़ ले साक़ी, इस आशा में डगमग करता है। 
कुछ मद्यप आते हैं यूँ ही, नित्य टहलते मधुशाला।।      

Wednesday, 13 July 2016

Ravimaun ki Madhushala - 18

रवि मौन की मधुशाला - १८ 

भ्रमित हुआ मन कलकल सुन जब मधुघट से ढलकी हाला। 
तन्मय हो कर नाच रहा था जाने क्यों पीने वाला।
प्रमुदित हो कर साक़ी उसको अपने पास बुलाती है। 
मद्यप के इस भाग्योदय से विस्मित सी है मधुशाला।।   

Monday, 11 July 2016

Ravimaun ki Madhushala - 17

रवि मौन की मधुशाला - १७ 

सुख दुःख की सीमा के बाहर, ले जाता चौथा प्याला। 
चौथेपन में यह गुरुमंत्र सीख पाया साक़ी बाला। 
चौथे चन्द्रोदय को व्रत रत पत्नि प्रतीक्षा करती है। 
तेरे आँगन में न आज आ पाऊंगा मैं मधुशाला।।    

Saturday, 9 July 2016

Ravimaun ki Madhushala - 16

रवि मौन की मधुशाला - १६   

दिन भर जो अर्जित कर पाया चरणों में तेरे डाला। 
तिस पर भी रखा हाथों में साक़ी यह आधा प्याला। 
जीवन रक्षा हेतु पिलाती है थोड़ा थोड़ा मुझको। 
पीते-पीते धीरे-धीरे समझ रहा हूँ मधुशाला।। 

Thursday, 7 July 2016

Ravimaun ki Madhushala - 15

रवि मौन की मधुशाला - १५ 

भगवा वस्त्र पहनता है पर जपता है स्वर्णिम माला। 
पीता नित्य सोमरस, शिष्यों को वर्जित करता हाला। 
रात्रि बिताने चला वहाँ पर, जहां षोडशी कन्या थी। 
इससे तो अच्छा  होता यदि तू आ जाता मधुशाला।।    

Tuesday, 5 July 2016

Ravimaun ki Madhushala - 14

रवि मौन की मधुशाला - १४

मिट्टी से ही निर्मित मानव, मिट्टी से निर्मित प्याला।
नभ से झरे कि दृग से, दोनों ही कहलाती हैं हाला।
भेंट वायु से पथ में होती, जब वह नीचे आती है।
मद्यप की आत्मा साक़ी है, जहां मिलें सब, मधुशाला।।     

मिट्टी से ही निर्मित मानव , मिट्टी से निर्मित प्याला।
दोनों में आकर्षण क्यों है अब समझा साकीबाला। 
योद्धा लड़ते समरांगण में क्यों कि प्रेम मिट्टी से है। 
छलकी है प्याले से हाला इसी प्रेम में मधुशाला। 

Sunday, 3 July 2016

Ravimaun ki Madhushala - 13

रवि मौन की मधुशाला - १३ 

कल की चिंता क्यों करता है, कहती है साक़ी बाला।
या जो बीत गया है वह है, या जो है आने वाला। 
मदिरालय में सभी आज का ही अभिनन्दन करते हैं। 
इसीलिए तो नई नवेली दुल्हन लगती मधुशाला।।   

Saturday, 25 June 2016

Ravimaun ki Madhushala - 12

रवि मौन की मधुशाला - १२  

दुःख से मुक्ति मिलेगी, ऐसा सोच उठाया था प्याला। 
और सांत्वना बन्धुजनों सी, दे देगी साक़ी बाला। 
आर्तनाद ही प्रणय-निवेदन में परिवर्तित होता है। 
उर के छालों से खींची है हाला तूने मधुशाला।। 

Thursday, 23 June 2016

Ravimaun ki Madhushala - 11

रवि मौन की मधुशाला - ११ 

करतल ध्वनि मैं कर न सकूँगा जब तक रिक्त मेरा प्याला। 
शायद मान जाय सुंदरता का बखान सुन कर बाला। 
जिस विधि से भी हो, मुझको तो अपनी प्यास बुझानी है। 
तुम से हो या हाला से, यह निर्णय लेगी मधुशाला।।


I can't clap with empty cup in hand. 
A tale of her beauty may alter barmaid 's stand. 
I just want to quench my thirst. 
Drink or dame, whoever comes first. 



Tuesday, 21 June 2016

Ravimaun ki Madhushala - 10

रवि मौन की मधुशाला - १० 

प्याला है, या कटि प्रदेश है तेरा यह साक़ी बाला। 
जितना मधु छलकाने वाला, उतना तरसाने वाला। 
लालायित हैं, इसे पकड़ कर होंठों से छू लेने को। 
पीने वाले इसी आस में,  नित आते हैं मधुशाला।।    

Sunday, 19 June 2016

Ravimaun ki Madhushala - 9

रवि मौन की मधुशाला - ९ 

कब तक रहूँ प्रतीक्षारत मैं, कर में रिक्त लिए प्याला।
जाने कब डालेगी मुझपर कृपादृष्टि साक़ीबाला।   
कब तक मैं उपहास सहूँगा साथी पीने वालों का।
कुछ विचार तो करना होगा मुझ पर भी हे मधुशाला।। 

Friday, 17 June 2016

Ravimaun ki Madhushala - 8

रवि मौन की मधुशाला - ८ 

कभी दाल कर दो बूँदें ही चल देती साक़ीबाला।
प्यास बढ़ा कर नैनों से ही हाय बींध मुझको डाला।
प्याला ले कर खड़ा रहा पर आज मुझे संताप नहीं।
साक़ी अधिक नशीली मधु से, सर्वाधिक है मधुशाला।। 

Wednesday, 15 June 2016

Ravimaun ki Madhushala - 7

रवि मौन की मधुशाला - ७ 

भग्न हृदय यह मानव का है, कह न इसे टूटा प्याला।
प्रमुदित हो कर इंगित करती अभी गई साक़ीबाला।
कितने मतवालों ने इससे अपनी प्यास बुझाई थी।
टूटा गया यह, फिर भी इसकी ऋणी रहेगी मधुशाला।।



Monday, 13 June 2016

Ravimaun ki Madhushala - 6

रवि मौन की मधुशाला - ६

यह तो मानव की क्षमता है, जो पी जाता है ज्वाला।
संचित उसकी शक्ति कर रही है सुन्दर साक़ी बाला।
जब भी साहस डगमग  करता चंचल चितवन दिखलाती।
जिसे देख कर पीने वाला ही बन जाता मधुशाला।।



Saturday, 11 June 2016

Ravimaun ki Madhushala - 5

रवि मौन की मधुशाला - ५ 

चार दिनों का जीवन है यह, कहता है इक मतवाला।
दो दिन बीत गए अन्वेषण जब तक कर पाया प्याला।
नित नूतन साक़ी के नखरे, चलने के अंदाज़ नए।
हाय प्रथम से क्यों न पा सका जीवन में यह मधुशाला।।     

Thursday, 9 June 2016

Ravimaun ki Madhushala - 4

रवि मौन की मधुशाला - ४   

धीरे- धीरे समझूँगा अंदाज़ लिपटने के बाला।
धीरे- धीरे समझूँगा आनंद चूमने के हाला।
धीरे- धीरे भूल सकूँगा मैं जग की दुत्कार सभी।
धीरे- धीरे अंकित होगी हृदय पटल में मधुशाला।। 

Tuesday, 7 June 2016

Ravimaun ki Madhushala - 3

रवि मौन की मधुशाला - ३  

तुझको चिंता क्या मेरी, तू रटता रह साक़ीबाला।
अविरल ढलने वाले मधुघट, अविरल भर आता प्याला।
अविरल पीने वाले मतवालों का यह समूह साथी।
तेरे जीवन की चिंताएं हर लेगी यह मधुशाला।। 

Sunday, 5 June 2016

Ravimaun ki Madhushala - 2

रवि मौन की मधुशाला - २  

मदिरालय में प्यासे हैं सब, मैं, मेरा आधा प्याला।
हाथ पकड़ने वाली साक़ी, डगमग पग पीने वाला।
मधु विक्रेता भी प्यासा है, हानि-लाभ के फेरे में।
प्यासी रहती नहीं कभी भी, केवल मेरी मधुशाला।   

Friday, 3 June 2016

Ravimaun ki Madhushala - 1

रवि मौन की मधुशाला - १ 

सड़े हुए चावल से निकली सृष्टि, यही इनकी हाला।
दबे हुए मिट्टी में मधुघट, मिट्टी का ही यह प्याला।
पूरे पैसे रखवा कर मधु विक्रेता देता इसको।
यहाँ कहाँ दिखता है साक़ी, यह अलबेली मधुशाला।


Wednesday, 24 February 2016

Ganeshji Doha

जिनके सुमिरन से मिटें, जनम जनम के क्लेश।
हे मोदक प्रिय मुदित हों रखिये कृपा विशेष।। 

Tuesday, 23 February 2016

आँगन

खेल का आँगन धरा है, वक्ष माँ का है बिछौना। 
गोद में आकर स्वयं शिशु ,लग रहा नन्हा खिलौना ।।

- रवि मौन   

Friday, 19 February 2016

Title :GHAZAL..Jo lk gharhi ke...

जो इक घड़ी के लिए उसने मुझसे प्यार किया।
मेरे दिमाग पर, दिल पर भी अख़्तियार किया।।
फ़साने सुनते थे फ़रहाद के, मजनूँ के कभी।
हाँ, आज भी तो ज़माने ने हमको ख़्वार किया।।
 ख़ुशी मिली तो मिली जितनी देर साथ रहे।
बिछड़ गए जो, तो दुनिया ने ज़ार-ज़ार किया ।।
बराहे करम जो अश्कों को शोख़ ने पोंछा।
पलट के अपने ही दामन को तार तार किया।।
मिटी ग़रीब की बस्ती कहीं तो ये जानो।
मिला अमीर सियासत से 'मौन' वार किया ।।

-रवि मौन 

Monday, 15 February 2016

राम - राम भज ऐ मन मेरे, जीवन फ़ानी है।

राम - राम भज ऐ मन मेरे, जीवन फ़ानी है।
भज ले हरि को भज ले थोड़ी सी ज़िंदगानी है।

धन के पीछे पीछे भागा। चैन गँवाया, रातों जागा।
यहीं पड़ा रह जाते देखा, बात पुरानी है।
राम - राम भज ऐ मन मेरे, जीवन फ़ानी है।

यह सुन्दर कंचन सी काया।  जिसने तुझको है भरमाया।
युँही ख़ाक में मिले, ख़ाक किसने पहचानी है।
राम - राम भज ऐ मन मेरे, जीवन फ़ानी है।

जिनके पीछे हरि को भूला।  फिरता निस दिन फूला फूला।
इसी जनम के नाते हैं सब, नई कहानी है।
राम - राम भज ऐ मन मेरे, जीवन फ़ानी है।

- रवि मौन
१४-०२-१९९० 

Wednesday, 10 February 2016

मैं समझाता हूँ अश्कों को...

मैं समझाता हूँ अश्कों को तुम्हारी याद आने पर।
यूँ दिल को छोड़ कर आँखों में आ जाया नहीं करते।।

ज़माना क्या कहेगा क्यूँ हमें परवाह हो इसकी।
हमारे ज़ख्म आकर लोग सहलाया नहीं करते।।

न मय जब छोड़ पाए तो कहा ये हमसे उस बुत ने।
कि हम बुज़दिल को अपने ख़्वाब में लाया नहीं करते।।

यूँ ख़ुश्बू की तरह फैले तुम्हारे हुस्न के चर्चे।
हमें डर है सभी अम्बर सा सरमाया नहीं करते।।

-रवि मौन
०९-०१-२०१५
_________________________________________
प्रेरणा:
 यही काँटे तो कुछ खुद्दार हैं सहने गुलिस्ताँ में।
जो शबनम के लिए दामन को फैलाया नहीं करते।।
(-अनजान)

Tuesday, 9 February 2016

प्रभु मोहे उतराई मत दीजे।

प्रभु मोहे उतराई मत दीजे।
मात मेरो तनिक मान रख लीजे।

दीनानाथ, दयानिधि, सियवर, तीन लोक के स्वामी।
मैं हूँ मूरख जनम-जनम को, तुम तो अन्तर्यामी।
सेवा सुख से मन की गागर भरी... न रीती कीजे।
प्रभु मोहे उतराई मत दीजे।
मात मेरो तनिक मान रख लीजे।

स्वारथ के हित मैंने स्वामी गंगा पार कराई।
भवसागर के पार मुझे करवा देना रघुराई।
देना ही है तो हे दाता, फिर से दर्शन दीजे।
प्रभु मोहे उतराई मत दीजे।
मात मेरो तनिक मान रख लीजे।


-रवि मौन 
१२-०१-१९९० एवं ०३-०९-१९९१ 

Tuesday, 2 February 2016

दादी का लाड़ला...

चुनरी चढाँवा दादी, गजरो पहरावाँ दादी, म्हे दादी का लाड़ला।।
गुण थारा गाँवा दादी, झुंझुणू मैं जावाँ दादी, म्हे दादी का लाड़ला।।

मावस में मेलो लागै, दर्शन से क़िस्मत जागै, व्है दादी का लाड़ला।।
थारा भजन जो गावै, गुण सारा ऊँ मैं आवैं, व्है दादी का लाड़ला।।

दादी का दर्शन करके, तन मन धन अर्पण करकै, व्है दादी का लाड़ला।।
भादों मावस को मेलो, भक्ताँ को आवे रेलो, ये दादी का लाड़ला।।    

दादी की महिमा न्यारी, दादी है सबनै प्यारी, सै दादी का लाड़ला।।
मंगल कर आरति गाओ, दादी का दर्शन पाओ, सै दादी का लाड़ला।।



-रवि मौन
२२-५-२००२ 

Thursday, 21 January 2016

Krishna Janm

धन्य कंस का कारागार। हरि ने लिया जहाँ अवतार।
वसु देवकी करें प्रणाम। लेलेकर श्री हरि का नाम।
बाल रूप धार्यो गोपाल। मात-पिता नैं कर्यो निहाल।
बेड़ी खुली, खुले सब द्वार।  सोए सारे पहरेदार।
कृष्ण सूप पर लिए उठाय। चलें जहाँ रहते नन्दराय।
जमुना जल में रहा उठाव। छूना चाहे हरि का पाँव।
छूकर पानी नीचे जाय। जमना जल भी दर्शन पाय।
बालकृष्ण नैं दियो सुलाय। और बालिका लई उठाय।
वसु पहुँचे फिर कारागार। बेड़ी लगी बन्द सब द्वार।
जन्म जान आया भूपाल। इसे शिला पर दूँ अब डाल।
उड़ी हाथ से कहा पुकार। जन्मा तेरा मारनहार।

- रवि मौन 

Tuesday, 19 January 2016

कवि की कल्पना...

है यह कवि की कल्पना जिसने दिया निखार। 
शब्दों के भ्रमजाल को आज मिला आकार।।
डूबे ख़ुशियों में कभी, रहे कभी ग़मगीन। 
कुछ कर्मों का फल मिला, कुछ विधि के आधीन।।
काल-चक्र चलता रहा कोई सका न रोक। 
नई योनि मिलती रही, मिटे हर्ष और शोक।।
कर्मों का संचय रहा, सदा हमारे साथ। 
दोनों के फ़ल मिलेंगे, जब चाहें रघुनाथ।।
नर नारायण भी यहाँ युद्ध स्थल में जायँ। 
बाँटें गीता ज्ञान को, मानव को समझायँ।।

-रवि मौन  

Saturday, 16 January 2016

नाम की महिमा कितनी भारी

पाप करम में लीन अजामिल अपणी उमर बिताई ।
नारायण को नाम ले लियो अन्त घड़ी जब आई।
यम का दूत हताश चल दिया बैकुण्ठां तैयारी।।
नाम की महिमा कितनी भारी।

रत्नाकर डाकू जीवन भर राही कितना लूट्या।
नारद जी नै दया आ गई मोह जाल तब टूट्या।
मरा मरा रट सन्त बण गयो जाणै दुनिया सारी।।
नाम की महिमा कितनी भारी।

- रवि मौन
०५-०२-१९९०

Thursday, 14 January 2016

शिव स्तुति

चन्द्र बढ़ाए शोभा सर की गंग जटा में साजे।
नीलकण्ठ हैं भोले बाबा गले भुजंग बिराजे।।
चेहरे पर त्रिनेत्र शोभित हैं कर में है तिरशूल।
 भस्म लगा कर तन में श्रीहर गए उमा को भूल।।
लगी समाधि सदाशिव की तो गणना काल बिसारी।
राघवेन्द्र का ध्यान लगा कर बैठ गए त्रिपुरारी।।

-रवि मौन
१६-०२-२०१४

Tuesday, 12 January 2016

रावण...

मुनि पुलस्त्य का वंशधर, इतना प्रतिभावान।
शिवभक्तों में अग्रसर, रावण था बलवान।
स्वर्णलंक का अधिपति, बना धरा का भार।
अहंकार में मिट गया, हर लाया हरि नार।।

-रवि मौन
२३-०३-२०१४  

Friday, 8 January 2016

आज तो युद्ध हो रह्यो भारी...

आज तो युद्ध हो रह्यो भारी

आज पितामह बचन ले लियो शस्त्र धरैं बनवारी
ऐसो भीषण युद्ध कर्यो है पाण्डव सेना हारी
बिछ्यो तीर को जाल हर तरफ मार हो रही भारी
अर्जुन जब तीरां सै बिंधग्यो रुक नहीं सक्या मुरारी
कूद्या रथ सैं बढ़या भीष्म की ओर सुदर्शन धारी
धनुष छोड़ रह्यो हाथ जोड़, कह्यो हे नटवर असुरारी
अपनी आन तोड़ दी मेरो प्रण राख्यो गिरधारी !

आज तो युद्ध हो रह्यो भारी।

-रवि मौन
१-२-१९९० 

Wednesday, 6 January 2016

ज़िन्दगी तुझ से बिछड़ के भी... ग़ज़ल

ज़िन्दगी तुझसे बिछड़ के भी तो गुज़री है मगर।
किसको समझाऊँ कि ये कैसे कटा मेरा सफ़र।।

दूर से आती सदा देती है दस्तक दिल पर।
याद आते हैं मुझे झूले ठिठौली वो शजर।।

आसमाँ ऊँचा बहुत, गहरा समन्दर कितना।
दोनों यकरंग ही हैं किसलिए, हैरान बशर।।

इतना शर्मिंदा हूँ इंसान की करतूतों से।
कैसे पहचानूँगा शैतान अगर आया नज़र।।

यूँ तो इक उम्र मेरी बीती है कस्बे में "मौन" ।
मुझको भूली नहीं है गाँव की सुनसान डगर।।

- रवि मौन
१६-१०-'१५ 

Saturday, 2 January 2016

कलरव

वह चिड़िया जो सुबह सवेरे अपने संगी साथी का
इक झुण्ड बना कर कलरव करती उठ जाती है।
वह गर्वीली भूरे पंखों वाली छोटी चिड़िया मैं हूँ
इसे न काटो मुझे पेड़ से बहुत प्यार है।

- रवि मौन
१०-१०-२००९ 

Friday, 1 January 2016

Nainan ke path

नैनन के पथ मन में उतरी जब से तुमको देखा।
तू मेरे  दिल की शहज़ादी और भाग्य की रेखा।।

ओ मेरे सपनों की रानी, कैसे तुझे बताऊँ ?
कब से तेरी राह निहारी, मैं कैसे समझाऊँ ?

जीवन पथ के एकल राही हाथ थामले मेरा।
जब तक डोर बंधी साँसों की साथ न छूटे तेरा।।

- रवि मौन
#Ravimaun