Thursday, 28 July 2022

REKHTA TODAY'S 5 COUPLETS

ँ का मुसलसल ख़स-ओ-ख़ाशाक पे होनाद्दतों बाद मेरी जो इस राह से गुज़रा हूँ 'क़मर'।
अहद-ए-रफ़्ता को बहुत याद किया है मैंने
..... क़मर मोरादाबादी.....

After years, as I have passed through this way.
I have remembered past times gone a long way.

बे-नियाज़ी हद से गुज़री बंदा-परवर कब तलक।
हम कहेंगे हाल-ए-दिल और आप फ़रमाएँगे क्या?

U concern O considerate has gone a very long way. 
 I ' ll emote heart feelings and "what" 's all you' ll say?

गुज़रे हैं मय-कदे से जो तौबा के बाद हम।
कुछ दूर आदतन भी क़दम लड़खड़ाए हैं।
..... ख़ुमार बारहबंकवी..... 
As I passed by the tavern after renunciation, hey! 
Habitually my legs have trembled a long way.

तुम वो अच्छे कि अच्छे नहीं किसी के साथ।
मैं वो बुरा कि किसी का बुरा नहीं करता।
..... नातिक़ गुलावटी.....

You are so good as good with none.
 I am so bad as bad with  no one.

डूब जाएँ न फूल की नब्ज़ें !
ऐ ख़ुदा मौसमों की साँसें खोल।
..... रफ़ीक़ संदेलवी..... 

Let not flower pulses dwindle away.
O God ! Let seasons breath in a way.


Rekhta today's 5 couplets 

इश्क़ का ज़ौक़-ए-नज़ारा मुफ़्त में बदनाम है।
हुस्न ख़ुद बे-ताब है जल्वा दिखाने के लिए।..... मजाज़ लखनवी.....

Maligned for nothing is pleasure of spectacle by love.
Beauty is keen to exhibit it's splendour over and above.

जो कहकशाँ सी नज़र आती हैं मिरी आँखें। 
गुज़िश्ता शब के ये आँसू हैं जो सितारे हुए।..... प्रियंवदा इल्हान.....

That my eyes'appearance 
is like milky way.
Are last night tears turned stars on the way.

देखूँ तो जुर्म और न देखूँ तो कुफ़्र है। 
अब क्या कहूँ जमाल-ए-रुख़-ए-फ़ित्नागर को मैं?..... पन्ना लाल नूर....

It's a crime if I look, otherwise unbeliever of His grace. 
What can I say about the beauty of her magical face?

यूँ तो अपनों सा कुछ नहीं इस में। 
फिर भी ग़ैरों से वो अलग सा है।
..... परकाश फ़िक्री .....

Though there's nothing in him like our own.
But he is different from the rival clone.

बिछड़ के तुझ से किसी दूसरे पे मरना है। 
ये तजुर्बा भी इसी ज़िन्दगी में करना है।
..... असद बदायूनी.....

Parting with you I have to fall for someone else. 
I 'll gather the experience in this life, none else.

Translated by Ravi Maun

Rekhta today's 5 couplets 30.7. 22


सुना है ग़ैर की महफ़िल में तुम न आओगे
कहो तो आज सजा लूँ ग़रीब - ख़ाने को
..... क़मर जलालवी.....

It's heard, rival' s meeting you 'll dodge.
If so, should I decorate my poor lodge?

ये बज़्म-ए-मय है याँ कोताह-दस्ती
 में है महरूमी।
जो बढ़ कर ख़ुद उठा ले हाथ में 
 मीना उसी का है.. शाद अज़ीमाबादी..

It's a drink meeting, you are deprived if you don't reach.
One who goes ahead to hold, goblet is within his reach. 

जवानी क्या हुई इक रात की कहानी हुई। 
बदन पुराना हुआ रूह भी है पुरानी हुई। 
..... उबैदुल्लाह अलीम.....

What's this youth, just one night tale. 
Body is stale, also the soul
 is stale.

ये चिराग़ जैसे लम्हे कहीं रायगाँ न जाएँ। 
कोई ख़्वाब देख डालो कोई इंक़लाब लाओ।..... राही मासूम रज़ा..... 

These lamp like moments, should not go waste. 
Have a few dreams, carve  a  revolution in haste! 

कुछ बता तू ही नशेमन का पता। 
मैं तो ऐ बाद-ए-सबा भूल गया। 
..... मजरूह सुल्तानपुरी..... 

You tell me where abouts  of nest. 
O breeze ! I  've forgotten it at best

Translated by Ravi Maun 

REKHTA TODAY'S 5 COUPLETS 

वादे का एतबार तो है वाक़ई मुझे। 
ये और बात है कि हँसी आ गई मुझे। 
..... नक़शब जारचवी..... 

I believe fully in your promise all the while.
 It is another matter that It makes me smile. 

ये ज़िन्दगी जो पुकारे तो शक सा होता है।
कहीं अभी तो मुझे ख़ुद- कुशी नहीं करनी।..... स्वप्निल तिवारी..... 

There's a little doubt when life gives a call. 
Whether or not, the suicide I have to stall. 

गुलशन में फ़क़त फूलों से नहीं, काँटों से भी ज़ीनत होती है। 
जीने के लिए इस दुनिया में  ग़म की भी ज़रूरत होती है।.....सबा अफ़गानी ..... 

Not only flowers but thorns too, contribute to garden 's grace.
In order to survive in this world, the grief has it's own  place. 

वही शागिर्द फिर हो जाते हैं उस्ताद ऐ 'जौहर'। 
जो अपने जान-ओ-दिल से ख़िदमत-ए-उस्ताद करते हैं। 
.....लाला माधव लाल जौहर..... 

Those disciples take over the mentor' s role. 
Who serve their own mentors heart and sole. 

इक मंज़र में इक धुँधले से अक्स में छुप कर रो लें। 
हम किस ख़्वाब में आँखें मूँदें, और किस ख़्वाब में खोलें? 
..... अंबरीन सलाहुद्दीन..... 

In diffuse shadow of a scene, a crying act has silently been. 
Closing eyes in which dream and to open in which dream? 

Translated by Ravi Maun. 

Rekhta today's 5 couplets 


हर इक शिकस्त-ए-तमन्ना पे मुस्कुराते हैं। 
वो क्या करें जो मुसलसल फ़रेब खाते हैं। 
..... राज़ मोरादाबादी..... 

Even with every defeat of desire, they smile.
 What to do,  who are deceived all the while. 

याद के ख़ुशनुमा जज़ीरों में ।
दिल की आवारगी सी रहती है 
..... माह तल'अत ज़ाहिदी ..... 

Within pretty memory islands. 
Vagabond heart act stands. 

ख़्वाब देखे थे टूट कर मैंने। 
टूट कर ख़्वाब देखते हैं मुझे।... पिन्हा... 

I had seen the dreams to full extent. 
Dreams see me having been extinct. 

अपनी तन्हाई को आबाद तो कर सकते हैं। 
हम तुझे मिल न सकें याद तो कर सकते हैं।..... ताहिर अब्बास..... 

I can extend company to my solitude. 
I remember, even if meetings elude.

करता रहा न मिन्नतें कम की न कुछ  दुआ। 
हासिल हुआ न कुछ तो ख़ुदा बे-असर लगा।..... उज़ैर रहमान..... 

I didn't lessen prayers and continued to plead.
With no gain, God looked effect-less indeed. 

REKHTA TODAY'S 5 COUPLETS 

सावन एक महीने 'क़ैसर' आँसू जीवन भर। 
इन आँखों के आगे बादल बे-औक़ात लगा। 
..... क़ैसर उल जाफ़री..... 

'Qaisar' rains are for a month, tears last lifelong.
 These eyes have shown cloud 
where does it belong. 

'बानी' ज़रा संभल के मोहब्बत का मोड़ काट। 
इक हादसा भी ताक में होगा यहीं कहीं 
..... राजेंदर मनचंदा बानी

'Baani' steer with care along the life curve. 
Mishap must be waiting here for a swerve. 

ज़रा सी चाय गिरी और दाग़ दाग़ वरक़। 
ये ज़िन्दगी है कि अख़बार का तराशा है। 

A little tea spilt and stained page wise. 
Is it life or newspaper cutting  to size? 

चेहरे पे सारे शहर के गर्द-ए-मलाल है। 
जो दिल का हाल है वही दिल्ली का हाल है।..... मलिकज़ादा मंज़ूर अहमद..... 

Stain of regret is on entire city's face. 
State of heart on Delhi you  can trace. 

लुत्फ़-ए-बहार कुछ नहीं कर गो है वही बहार। 
दिल क्या उजड़ गया कि ज़माना उजड़ गया।..... अज़ीज़ लखनवी..... 

There's no charm of spring though spring is still there. 
When the heart is ruined, there are ruins every where. 

Rekhta today's 5 couplets 

पूछा जो उन से चाँद निकलता है किस तरह। 
ज़ुल्फ़ों को रुख़ पे डाल के झटका दिया कि यूँ।..... आरज़ू लखनवी..... 

When I asked her about moon appearing in the sky. 
With tress on face, she gave a jerk,  let these fly. 

आप की जानिब से आए तो उठा कर रख लिए। 
पत्थरो से घर सजाने का कभी भी सोचा न था।..... फ़खीरा बातूल..... 

Since these arrived from your side, I kept all these aside. 
To decorate homes, with the stones, wasn't in mind ride. 

मेरा भी इक बाप था, अच्छा सा इक बाप। 
वो जिस जगह पहुँच के मरा था, वहीं हूँ मैं..... रईस फ़रोग़..... 

Me too had a father and he was one good guy.. 
He reached here where I stand, for a final try. 

चलो बाँट लेते हैं अपनी सज़ाएँ। 
न तुम याद आओ न हम याद आएँ। 
..... सरदार अंजुम..... 

Our punishments, let us divide. Let no memory be on any side. 

जिस ने बुनियाद गुलिस्ताँ की कभी डाली थी। 
उस को गुलशन से गुज़रने नहीं देती दुनिया ।..... कँवल डिबाइवी..... 

One who has laid foundation of this garden. 
None even allows him to go in the garden. 

Translated by Ravi Maun. 

Rekhta today's 5 couplets 

आने वाले जाने वाले हर ज़माने के लिए
आदमी मज़दूर है रस्ते बनाने के लिए
..... हफ़ीज़ जालंधरी.....

For coming and going times. 
Man makes roads all the times

आता है दाग़-ए-हसरत-ए-दिल का शुमार याद।
मुझ से मिरे गुनह का हिसाब ऐ ख़ुदा न माँग।..... मिर्ज़ा ग़ालिब.....

I am reminded of remaining desires of heart.
O God,! Don't ask about sins
 on my part.

इस दौर में इंसान का चेहरा नहीं मिलता। 
कब से मैं नक़ाबों की तहें खोल रहा हूँ।
..... मोग़ीसुद्दीन फ़रीदी.....

To find the face of man of this age , I fail
Since when am I opening folds of the veil.

प्यास बढ़ती जा रही है बहता दरिया देख कर। 
भागती जाती हैं लहरें ये तमाशा देख कर।..... साक़ी फ़ारूक़ी.....

Thirst increases seeing
 the river in flow.
The waves are on move  viewing this show.

एक इक बात में सच्चाई है उस की लेकिन। 
अपने वादों से मुकर जाने को जी चाहता है।..... कफ़ील आज़ार अमरोहवी .....

Truth is ingrained in her each and every talk. 
But to refute her promises or desire to balk! 

Translated by Ravi Maun 

Rekha today 'S 5 Couplets

वो कोई दोस्त था अच्छे दिनों का। 
जो पिछली रात से याद आ रहा है। 
..... नासिर काज़मी.....

He was a friend of good old days.
Since last night, his memory stays.

आ कि तुझ बिन इस तरह ऐ दोस्त घबराता हूँ मैं। 
जैसे हर शय में किसी शय की कमी पाता हूँ मैं।..... जिगर मुरादाबादी......

Come O friend ! Without you I am worried in a way.
As if something is missing in  everything in a way.

इक परिंदा अभी उड़ान में है। 
तीर हर शख़्स की कमान में है ।
..... अमीर क़ज़लबाश...

One bird is flying, in flow. 
An arrow is on each bow.

क्यूँ पशेमाँ हो अगर वादा वफ़ा हो न सका? 
कहीं वादे भी निभाने के लिए होते हैं?
..... इबरत मछलीशहरी.....

Why do you repent for promise unkept? 
Are the promises meant to be kept?

शम'अ माशूक़ों को सिखलाती है तर्ज़-ए-आशिक़ी।
जल के परवाने से पहले बुझ के परवाने के बाद..... जलील मानिकपुरी. ....

To those in love, the candle teaches love style. 
Burning before moth, aflame after, for a while.

Translated by Ravi Maun

मुँह फेर लिया सब ने बीमार को जब देखा
देखा नहीं जाता वो तुम जिस की तरफ़ देखो

तुम थे और हम थे चाँद निकला था
हाए वो रात याद आती है 

इस तरह सितम वो कर रहे हैं
जैसे मेरा ख़ुदा नहीं है 

वो बहुत कम किसी ने देखा है
मुझ को जो कुछ यहाँ नज़र आया 

कोई समझाए आ के नासेह को
सुन सके कौन इस क़दर बातें 

मुसीबत थी हमारे ही लिए क्यूँ
ये माना हम जिए लेकिन जिए क्यूँ 

दिल ने ये कह के कहीं छोड़ा साथ
हम को कुछ काम यहाँ करना है 

पैदा वो बात कर कि तुझे रोएँ दूसरे
रोना ख़ुद अपने हाल पे ये ज़ार ज़ार क्या 

दिल नहीं जब तो ख़ाक है दुनिया
असल जो चीज़ थी वही न रही 


हमेशा से मिज़ाज-ए-हुस्न में दिक़्क़त-पसंदी है
मिरी दुश्वारियाँ आसान होना सख़्त मुश्किल है

REKHTA TODAY'S 5 COUPLETS 8.8.22

किस ने वफ़ा के नाम पे धोका दिया मुझे?
किस से कहूँ कि मेरा गुनहगार कौन है?
..... नजीम अहमद.....

Who has cheated me in the name of gratitude.
Who is my culprit, who has such an attitude?

वो जाता रहा और मैं कुछ बोल न पाया। 
चिड़ियों ने मगर शोर सा दीवार पे खींचा।
..... अहमद फ़ाक़िह..... 

He was leaving, I said not a word, kept poise
The sparrows etched on the wall, some noise.

खींच लाई है मोहब्बत तिरे दर पर मुझ को। 
इतनी आसानी से वर्ना किसे हासिल हुआ मैं?..... इर्शाद ख़ान सिकंदर..... 

It's love that's dragged me to your gate. 
I am not available so easily 
 O mate! 

कितना मुश्किल है ख़ुद-ब - ख़ुद रोना।
बे-ख़ुदी से रिहा करे कोई। 
..... असर अकबराबादी..... 

How hard it is to cry on your own? 
From this ecstasy, let someone disown. 

रात भी चाँद भी समुंदर भी। 
मिल गए कितने ग़म-गुसार मुझे ! 
..... मजीद अख़्तर..... 

The night, moon and sea to save. 
How many comforters did I  have? 

Translated by Ravi Maun. 

REKHTA.. TODAY'S 5 COUPLETS 9.8.22.

उम्र भर रहना है ता'बीर से गर दूर तुम्हें।
फिर मिरे ख़्वाब में आने की ज़रूरत क्या है ?..... नदीम गुल्लानी.....

If you want no interpretation of any dream.
Why do you desire to come in my dream?

तोड़ा है दम अभी अभी बीमार-ए-हिज्र ने।
आए मगर हुज़ूर को ताख़ीर हो गई। 
..... जगत मोहन लाल रवाँ.....

Just now, sick of separation breathed his last. 
Well you came, but should 
have made it fast.

हुई थी इक ख़ता सरज़द सो उस को मुद्दतें गुज़रीं। 
मगर अब तक मिरे दिल से पशेमानी
 नहीं जाती।
..... जगदीश सहाय सक्सेना..... 

I had committed a mistake but that was long long ago. 
How is it that  the regret, from my heart doesn't go. 

मैं भी कुछ ख़ुश नहीं वफ़ा कर के। 
तुम ने अच्छा किया निबाह न की। 
..... मोमिन ख़ान मोमिन..... 

By keeping faith I'm not happy as well. 
You did as well, by not carrying on, swell. 

अब मुझ को एहतिमाम से कीजे सुपुर्द-ए-ख़ाक। 
उकता चुका हूँ जिस्म का मलबा उठा के मैं।..... दिलावर अली आज़ार..... 

Please hand me over to earth with care, final dues. 
I have carried this refuse since long, now I refuse. 

Translated by Ravi Maun. 

REKHTA TODAY'S 5 COUPLETS.. 10.8.22

पूछ रहे हैं मुझ से पेड़ों के सौदागर। 
आब-ओ-हवा कैसे ज़हरीली हो जाती है? 
..... आलम ख़ुर्शीद..... 

The sellers of tree, are enquiring me. 
How does the climate venomous be? 

असीर-ए-पंजा-ए-अहद-ए-शबाब कर के मुझे। 
कहाँ गया मिरा बचपन ख़राब कर के मुझे?..... मुज़्तर ख़ैराबादी..... 

Making me a captive of youth fist. 
Where is my childhood spoiling the list? 

यही तश्वीह शब-ओ-रोज़ है बंगाले में। 
लखनऊ फिर कभी  दिखला दे मुक़द्दर मेरा। 
..... वाजिद अली शाह अख़्तर..... 

Only worry is for me in Bengal day and night. 
How fate can bring Lucknow  back in sight? 

ले आएगा इक रोज़ गुल-ओ-बर्ग भी  'सरबत'। 
बाराँ का मुसलसल ख़स-ओ-ख़ाशाक 
पे होना।..... सरवत हुसैन..... 

It will bring leaves and flowers one day. 
Persistent rain drops on the twigs 'n hay. 

कुछ ख़बर है तुझे ऐ चैन से सोने वाले? 
रात भर कौन तिरी याद में बनाया बेदार रहा?..... हिज्र नाज़िम अली ख़ान..... 

Are you aware O the one, sleeping in peace? 
Night long who was awake in your memories? 

Translated by Ravi Maun. 

REKHTA TODAY'S 5 COUPLETS.. 14.8.22

कौन तहलील हुआ है मुझ में। 
मुंतशिर क्यूँ हैं अनासिर मेरे?
...... विकास शर्मा राज़.....

Who in me, is lawfully reversed.
Why are my elements dispersed?

हौसला है तो सफ़ीनों के अलम लहराओ। बहते दरिया तो चलेंगे इसी रफ़्तार के साथ।..... शहज़ाद अहमद.....

Flutter flags of boats, if you have the creed. 
Flowing rivers will run with
 their own speed.

ऐसी दुनिया में कैसे गुज़ारा करें, तुम ही कह दो कि कब तक गवारा करें?
रात मुझ से मिरी बेबसी ने कहा, बेबसी के लिए एक ताज़ा ग़ज़ल।
..... इरफ़ान सत्तार.....

In this world how to survive, tell me how long to revive?
My helplessness told last night, a fresh ghazal for the plight !

वो एक ही चेहरा तो नहीं सारे जहाँ में। 
जो दूर है वो दिल से उतर क्यूँ नहीं जाता?..... निदा फ़ाज़ली.....

In this world, his is not the only face. 
So far, why not does from heart efface?

हम को यारों ने याद भी न रखा। 
'जौन'  यारों के यार थे हम तो।
..... जौन एलिया.....

My friends didn't even recall. 'John' I was their's after all.

Translated by Ravi Maun. 

No comments:

Post a Comment