Monday, 2 May 2022

BASHIR BADR...15.... COUPLETS

शिद्दत की धूप तेज़ हवाओं के बावजूद।
मैं शाख़ से गिरा हूँ नज़र से गिरा नहीं। 

Despite intense sun and wind blasts select. 
I have fallen from branch, not an eye reject.

तमाम रात मैं ख़्वाबों में जागता ही रहा। 
चढ़ा हुआ है इन आँखों में रात भर का ख़ुमार। 

Whole night I kept awake in the dreamy skies
Intoxicating effect of night is still in my eyes. 

ये बात कि सूरत के भले दिल के बुरे हो। अल्लाह करे झूठ हो, बहुतों से सुनी है। 

That you are good in face and bad at heart. 
By God be it a lie, is heard from many a part. 

सुझाई कुछ नहीं देता शिकस्ता यादों ने। 
किसी का चेहरा किसी के बदन पे जोड़ दिया। 
Nothing is apparent because
memories are shattered. 
Grafting of some face on other's body hasn't mattered. 

 किताबें, किताबें, किताबें, किताबें।
कभी तो वो आँखें वो रुख़सार पढ़ना।

Books and books and heap of books. 
Read her eyes, cheeks and looks. 

अजीब आग है हमदर्दियों के मौसम की। 
ग़रीब बस्तियाँ बरसात ही में जलती हैं। 

Strange is the fire in kindness terrain. 
Hutments of poor are ashed in rain. 

शाहिद शब-ए-हिज्राँ है तिरा ज़िक्र हुआ था। 
ऐ मौत भली आई तिरी उम्र बड़ी है। 

Parting night is a witness, there was a mention about you. 
Dear death ! You are  welcome,  you  may live long too. 

किस के अंदर क्या छुपा है कुछ पता लगता नहीं। 
तैल की दौलत मिली वीरान रेगिस्तान में। 

No one knows, what does it contain ?
The wealth of oil in desert terrain !

मीर, कबीर, बशीर इसी मकतब के हैं। 
आ दिल के मकतब में अपना नाम लिखा।

Mir, Kabir, Bashir are from this school. 
Enrol your name in this heart school. 

अल्लाह ने नवाज़ दिया है तो ख़ुश रहो। 
तुम क्या समझ रहे हो ये शोहरत ग़ज़ल से है ? 

Be happy that Almighty has granted you grace. 
Do you think, ghazal fame has scored this place ? 

जब उसकी नवाज़िश होती है ये मोजज़ा तब हो जाता है। 
अल्फ़ाज़ महकने लगते हैं काग़ज़ भी अदब हो जाता है। 

 When His is the grace, this marvel takes place. 
The words get fragrant, paper wins literary race. 

कभी बोले तो शह्रों के मकाँ भी बात करते हैं। 
तुम्हारे ज़ेहन में तो सिर्फ़ क़स्बे की हवेली है। 

City homes also talk,  you will so find. 
Town mansion is engraved in your mind. 

इतनी सियाह रात में किस को सदाएँ दूँ। 
ऐसा चिराग़ दे जो कभी बोलता भी हो। 

Whom to call in such a dark night spell ? 
Give a lamp that at times talks  as well. 

दिन का शहज़ादा मेरा मेहमान है, बेशक रहे। 
रात का भूला मुसाफ़िर भी यहाँ ठहरा करे। 

Prince of the day is my guest,  let him dwell. 
Let lost traveller of night stay here as well. 

कैसे दोनों वक़्त गले मिलते हैं रोज़। 
ये मंज़र मैंने दुश्मन के नाम लिखा। 

How both times embrace each day ? 
This scene I scrolled  enemy way. 


No comments:

Post a Comment